scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

आंध्र प्रदेश: बीजेपी की सीटें शून्य फिर भी डील ON, रेड्डी या नायडू, किसका गठबंधन देगा फायदा?

इस समय बीजेपी ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं। उसके किसका साथ ज्यादा पसंद है- चंद्रबाबू नायडू या रेड्डी?
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | Updated: February 10, 2024 01:39 IST
आंध्र प्रदेश  बीजेपी की सीटें शून्य फिर भी डील on  रेड्डी या नायडू  किसका गठबंधन देगा फायदा
जगन मोहन रेड्डी और चंद्र बाबू नायडू
Advertisement

लोकसभा चुनाव में दक्षिण भारत में कैसे अपनी पैठ जमाई जाए, ये सवाल बीजेपी को पिछले कई सालों से परेशान कर रहा है। एक बार फिर ये सवाल तो सामने खड़ा है, लेकिन कोई सटीक जवाब साथ नहीं है। आंध्र प्रदेश में भी पिछली बार बीजेपी का खाता तक नहीं खुला था। 25 सीटों वाले उस राज्य में बीजेपी निल बट्टे सन्नाटा रही, लेकिन अब उस स्थिति को बदलने के लिए उसने कुछ समीकरण साधने की ठानी है।

ऐसी खबर है कि आंध्र प्रदेश में बीजेपी इस समय दोनों चंद्रबाबू नायडू और सीएम जगन मोहन रेड्डी के संपर्क में है। एक तरफ टीडीपी के साथ बीजेपी का पुराना रिश्ता रहा है तो वहीं YSR कांग्रेस के साथ भी कोई ज्यादा मतभेद वाली स्थिति नहीं है। इसी वजह से दिल्ली में दोनों रेड्डी और नायडू ने बीजेपी नेताओं से मुलाकात की है। सीएम रेड्डी ने तो पीएम नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात कर ली है। वहीं चंद्रबाबू नायडू ने भी बीजेपी हाईकमान से संपर्क साधा है।

Advertisement

इस समय बीजेपी ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं। उसके किसका साथ ज्यादा पसंद है- चंद्रबाबू नायडू या रेड्डी? हैरानी की बात ये है कि राज्य में शून्य सीटें होने के बाद भी बीजेपी इस तरह बारगेनिंग स्थिति में अभी दिख रही है। राज्य में बीजेपी के स्थानीय नेता भी एक गठबंधन के पक्ष में दिखाई दे रहे हैं। कुछ नेताओं को अगर छोड़ दिया जाए, तो सभी सीटों के लिहाज से एक गठबंधन करने की बात कर रहे हैं। लेकिन ये गठबंधन होगा किससे, अभी तक साफ नहीं।

बीजेपी को तो जहां से ज्यादा सीटें मिल जाएंगी, वो उसके साथ खुशी-खुशी चली जाएगी। इसी वजह से अभी जगन मोहन रेड्डी की साथ आने की संभावना भी ज्यादा लग रही है। पिछले लोकसभा चुनाव में रेड्डी की पार्टी ने 25 सीटों में से 22 पर जीत दर्ज की थी। आंध्र प्रदेश के पिछले विधानसभा चुनाव में तो उसने 150 से ज्यादा सीटें जीत एकतरफा जीत दर्ज की थी। वहीं दूसरी तरफ 2014 के बाद से चंद्रबाबू नायडू और उनकी पार्टी टीडीपी का ग्राफ गिरता जा रहा है। अगर पिछले विधानसभा में उनका आंकड़ा 23 सीटों पर पहुंच गया था, तो वहीं लोकसभा में उन्हें सिर्फ तीन सीटें मिली थीं।

Advertisement

ये अलग बात है कि हाल के एक सर्वे ने दावा कर दिया है कि आंध्र प्रदेश में टीडीपी वापसी करने वाली है, वो 17 सीटें जीत सकती है, लेकिन बीजेपी को दो वक्त भी याद हैं जब नायडू ने एनडीए का साथ छोड़ दिया था। ऐसे में अब किसके साथ आंध्र प्रदेश में बीजेपी का गठबंधन होता है, ये देखना दिलचस्प रहेगा।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो