scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Elections 2024: शरद पवार की कोशिश भी नाकाम, महाराष्ट्र में इन सीटों पर कांग्रेस-उद्धव गुट दोनों दलों ने जताई दावेदारी

कुछ सीटों पर महाविकास अघाड़ी के दोनों दल फ्रेंडली फाइट करने की तैयारी में लग गये हैं। इससे कार्यकर्ताओं की चिंता बढ़ गई है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: April 04, 2024 13:01 IST
lok sabha elections 2024  शरद पवार की कोशिश भी नाकाम  महाराष्ट्र में इन सीटों पर कांग्रेस उद्धव गुट दोनों दलों ने जताई दावेदारी
महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी के घटक दलों में सीट शेयरिंग विवाद बड़ा मुद्दा बन गया है।
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024 में गठबंधन दलों में सीटों के बंटवारे को लेकर रार खत्म नहीं हो रही है। महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी के तीनों दल शिवसेना (यूबीटी), कांग्रेस और एनसीपी (शरद पवार गुट) के बीच कई सीटों पर मतभेद गहरा गये हैं। राज्य की कुछ सीटें ऐसी हैं, जिसमें गठबंधन के एक से ज्यादा दल अपनाी दावेदारी जता रहे है। मामले को सुलझाने और बीच का रास्ता निकालने के लिए शरद पवार ने मध्यस्थता भी की, लेकिन उनका प्रयास भी नाकाम रहा। हालत यह हो गई है कि कुछ सीटों पर महाविकास अघाड़ी के दोनों दल फ्रेंडली फाइट करने की तैयारी में लग गये हैं। इससे कार्यकर्ताओं की चिंता बढ़ गई है।

कांग्रेस ने कहा- पुरानी सीटें छोड़ना संभव नहीं

शरद पवार के घर पर समझौते के लिए हुई बैठक में कोई पक्ष दूसरे की बात सुनने को तैयार नहीं था। जिन सीटों पर सबसे ज्यादा विवाद है, उनमें भिवंडी, सांगली, उत्तर पश्चिम मुंबई, सतारा और दक्षिण मध्य मुंबई की सीटें शामिल हैं। इन सीटों में से कई पर शिवसेना (यूबीटी) ने अपने उम्मीदवार उतार दिये हैं। दूसरी तरफ कांग्रेस का कहना है कि ये सीटें उनकी पुरानी सीट हैं और वर्षों से उनकी पार्टी के उम्मीदवार यहां से जीतते रहे हैं। ऐसे में दोनों दलों के बीच टकराव तेज हो गया है। इससे गठबंधन के कार्यकर्ता भी परेशान हैं और उनमें काफी नाराजगी है।

Advertisement

शिवसेना (यूबीटी) ने उतार दिए अपने उम्मीदवार

शिवसेना (यूबीटी) चाहती है कि कांग्रेस जिन सीटों पर दावा कर रही है, उसको छोड़ दे, उसके बदले वह उत्तर मुंबई और उत्तर मध्य मुंबई पर अपने उम्मीदवार उतारे। कांग्रेस इसको मानने को तैयार नहीं है। इससे तीनों दलों में असंतोष बढ़ता जा रहा है। कुछ सीटें ऐसी हैं, जिस पर शिवसेना (यूबीटी), कांग्रेस के अलावा एनसीपी (शरद गुट) भी अपना दावा जता रही है। अगर जल्द कोई रास्ता नहीं निकला तो इन सीटों पर गठबंधन की जीत भी मुश्किल हो जाएगी।

असंतोष और आपसी टकराव से जूझ रहे महाविकास अघाड़ी के घटक दलो में सीटों का विवाद बड़ा मुद्दा बन गया है। शिवसेना (यूबीटी), कांग्रेस और एनसीपी (पवार गुट) तीनों दलों के लिए कई सीटें प्रतिष्ठा का सवाल बन गई हैं। इसके उलट राज्य में सत्तारूढ़ शिवसेना (एकनाथ शिंदे गुट), एनसीपी (अजित पवार गुट) और बीजेपी चुनाव में पूरी तैयारी के साथ एकजुट हो गये हैं।

Advertisement

अभी हाल ही में दिल्ली के रामलीला मैदान पर विपक्षी दलों का गठबंधन इंडिया की सभा में सभी दलों ने एकजुटता दिखाते हुए इस चुनाव को मजबूती से लड़ने और केंद्र में बीजेपी को सत्ता से हटाने की ललकार लगाई थी, लेकिन महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी के बीच जिस तरह का विवाद दिख रहा है, उससे एकजुटता पर सवाल खड़े हो गये हैं।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो