scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

UP की वो 7 सीटें, जिन पर अभी तक BJP और सपा-कांग्रेस ने नहीं घोषित किए हैं अपने प्रत्याशी

Lok Sabha Elections 2024 UP: समाजवादी पार्टी ने कल ही अपने मेरठ के प्रत्याशी को बदला है। इतना ही नहीं, वहीं बीजेपी ने भी यूपी की कई सीटों अपने प्रत्याशियों का एलान नहीं किया है।
Written by: Krishna Bajpai
Updated: April 02, 2024 16:19 IST
up की वो 7 सीटें  जिन पर अभी तक bjp और सपा कांग्रेस ने नहीं घोषित किए हैं अपने प्रत्याशी
कांग्रेस सपा गठबंधन इस बार प्रत्याशियों को लेकर ज्यादा सतर्क नजर आ रहा है। (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

Lok Sabha Elections 2024 UP: लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर बीजेपी ने अपने लगभग 90 प्रतिशत प्रत्याशी (BJP Candidates List) घोषित कर दिए हैं लेकिन यूपी की कुछ सीटों पर अभी तक अपने उम्मीदवारों का एलान नहीं किया है। दिलचस्प बात यह भी है कि बीजेपी की तरह ही यूपी में एक साथ PDA गठबंधन के तहत साथ चुनाव लड़ने वाली समाजवादी पार्टी और कांग्रेस (SP Congress PDA Alliance) ने भी अपने-अपने कोटे की सीटों पर प्रत्याशी नहीं उतारे हैं, जो यह भी सवाल उठा रहा है कि क्या दोनों ही दल एक दूसरे के प्रत्याशियों के नाम जानने का इंतजार कर रहे हैं।

सपा-कांग्रेस (SP-Congress Alliance) और बीजेपी (BJP) ने जिन सीटों पर अपने लोकसभा प्रत्याशियों (Lok Sabha Candidates List) के नाम का ऐलान नहीं किया है, उनकी बात करें तो ये सीटें- रायबरेली, कैसरगंज, इलाहाबाद, फूलपुर, बलिया, कौशांबी और मछलीशहर हैं। ये सभी सीटें तीनों ही दलों के लिए लोकसभा चुनाव 2024 के लिहाज से अहम हैं।

Advertisement

इन सातों सीटों में सबसे अहम सीट रायबरेली मानी जा रही है। इस सीट से पहले कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी सांसद थीं लेकिन इस बार उन्होंने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है। कांग्रेस नेता इसे उनके स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं के चलते लिया गया फैसला बता रहे हैं। इसके चलते सोनिया गांधी राजस्थान से राज्यसभा के रास्ते संसद पहुंच गई हैं।

रायबरेली सीट से अभी नहीं तय हुई उम्मीदवारी

रायबरेली सीट से पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के चुनाव लड़ने की चर्चाएं थीं लेकिन अभी तक पार्टी यह नहीं तय कर पाई है कि इस सीट से उनका प्रत्याशी नहीं उतारा है। इसी के चलते अभी तक बीजेपी ने भी अपने कैंडिडेट का एलान नहीं किया है। वहीं जब इस मुद्दे पर उनके गठबंधन में बड़ी भूमिका निभाने वाले अखिलेश यादव से सवाल पूछा गया, तो उन्होंने इसे कांग्रेस का निजी मामला बताया है।

Advertisement

इसके अलावा अखिलेश ने यह भी कहा था कि इस सीट से गांधी परिवार का ही प्रत्याशी खड़ा होता रहा है, जिसके चलते उम्मीद यह है कि इस बार भी इस सीट से ही परिवार का ही कोई नेता सियासी मैदान में उतरेगा। दोनों ही दलों पर इस सीट से उम्मीदवारी उतारने में इतना वक्त इसलिए भी लग रहा है, क्योंकि इस सीट पर चुनाव 20 मई को 5वें चरण में होना है और अभी इसके लिए काफी वक्त बचा है।

कैसरगंज से भी नहीं फाइनल हुआ है टिकट

कैसरगंज लोकसभा सीट की बात करें तो इस सीट से बीजेपी के फायरब्रांड और विवादित नेता बृजभूषण शरण सिंह सांसद हैं जो कि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। उन पर महिला कुश्ती खिलाड़ियों का यौन उत्पीड़न करने का आरोप हैं। इसके चलते माना जा रहा है कि पार्टी उनका टिकट कट सकती है। इस सीट पर 20 मई को 5वें चरण में वोटिंग होनी है। इसीलिए बीजेपी इस सीट प्रत्याशी का ऐलान करने में ज्यादा देरी कर रही है।

हरियाणा पर भी पड़ सकता है बृजभूषण सिंह का इफेक्ट

बृजभूषण सिंह से सबसे ज्यादा नाराज हरियाणा से आने वाले कुश्ती के खिलाड़ी है। इसके चलते उनके नाम पर हरियाणा में भी खूब गुस्सा है। हरियाणा में छठे चरण में वोटिंग होनी है, जिसके चलते पार्टी पहले से ही इस सीट पर अपने प्रत्याशी को उतारने से बच रही है, जिससे विपक्ष को उसके खिलाफ कोई बड़ा मुद्दा न मिल सके। माना जा रहा है कि बीजेपी इस बार बृजभूषण सिंह का तो टिकट काट सकती है, लेकिन उनकी पत्नी या किसी करीबी को ही टिकट देकर उनके किनारा कर सकती है, क्योंकि बृझभूषण शरण सिंह बीजेपी के लिए सवर्ण वोट बैंक के लिहाज से यूपी में काफी अहम नेता है।

5वें और छठवें चरण में होनी है इन सीटों पर वोटिंग

कौशांबी सीट पर लोकसभा चुनावों के लिए वोटिंग 20 मई को 5वें चरण में होगी। इसके अलावा इलाहाबाद से लेकर फूलपुर मछलीशहर में वोटिंग भी छठवें फेज में होनी है। यहीं कारण है कि अभी तक किसी भी राजनीतिक दल ने इन सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं। देखना दिलचस्प होगा कि आखिर इन सीटों पर प्रत्याशी कब सामने आते हैं, क्योंकि इनमें से लगभग सभी सीटें बीजेपी के लिहाज से अहम हैं, वहीं कई सीटें कांग्रेस का भी गढ़ रही हैं।

क्या है इन सीटों के पिछले समीकरण

मछलीशहर- मछलीशहर सीट पिछली बार बीजेपी के नाम रही थी और यहां से बीपी सरोज ने बेहद ही छोटे अंतर से जीत हासिल की थी। ऐसे में बीजेपी इस बार इस सीट पर ज्यादा ताकत झोंकने के मूड में हैं।

कौशांबी - कौशांबी सीट से पिछले चुनाव में बीजेपी के विनोद सोनकर ने जीत हासिल की थी। उन्हें एसपी के इंद्रजीत सरोज ने कड़ी टक्कर दी थी।

इलाहाबाद - इलाहाबद सीट से पिछली बार रीता बहुगुणा जोशी बड़े अंतर से सपा के राजेंद्र पटेल से चुनाव जीती थीं, लेकिन इस बार उनका टिकट कटने की पूरी संभावनाएं बताई जा रही है। ऐसे में बीजेपी यहां भी नया प्रत्याशी घोषित कर सकती हैं।

फूलपुर - इस सीट से 2019 में केशवी पटेल ने जीत दर्ज की थी और उनका मार्जिन डेढ़ लाख से ज्यादा का था। उन्होंने सपा प्रत्याशी पंढरी यादव को हराया था।

बलिया - बलिया लोकसभा सीट से बीजेपी के वीरेंद्र सिंह ने 2019 में जीत दर्ज की थी उनकी जीत का मार्जिन 15 हजार से ज्यादा का था। उन्होंने सपा के सनातन पांडे को शिकस्त दी थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो