scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Elections 2024: पीएम मोदी ने 17 साल की उम्र में छोड़ दिया था घर, इन 5 फैक्ट के बारे में नहीं जानते होंगे आप

PM मोदी परिवार की चाय की दुकान पर काम करते थे। उनका अधिक समय लाइब्रेरी में बीतता था। भारत भ्रमण करने के लिए उन्होंने 17 साल की उम्र में ही घर छोड़ दिया था।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
नई दिल्ली | Updated: March 13, 2024 21:31 IST
lok sabha elections 2024  पीएम मोदी ने 17 साल की उम्र में छोड़ दिया था घर  इन 5 फैक्ट के बारे में नहीं जानते होंगे आप
पीएम मोदी वाराणसी से तीसरी बार चुनाव लड़ेंगे। (Express)
Advertisement

Lok Sabha Elections 2024: पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव को लेकर हुंकार भर दी है। उन्होंने दावा किया है कि आगामी 2024 के लोकसभा चुनाव में एनडीए 400 सीटें जीतेगी। 2014 में एक दशक के कांग्रेस शासन के बाद भाजपा सत्ता में आई और नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली थी। तब से लेकर अब तक वे देश के प्रधानमंत्री हैं। पार्टी तीसरी बार केंद्र में सरकार बनाने का दावा कर रही है। पीएम मोदी ने खुद दावा किया है कि 2024 लोकसभा चुनाव में 370 सीटें जीतने का दावा किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर लोकसभा चुनाव में वाराणसी से चुनाव लड़ेंगे क्योंकि वे तीसरी बार रिकॉर्ड जीत हांसिल करना चाहते हैं। पीएम मोदी ने 2014 में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और 2019 में समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार शालिनी यादव को हराया था।

Advertisement

पीएम मोदी के बारे में 5 तथ्य

1- 17 सितंबर 1950 को उत्तरी गुजरात के मेहसाणा जिले के वडनगर कस्बे में पीएए मोदी का जन्म हुआ था। वे अपने पूरे परिवार के साथ एक मंजिला घर में रहते थे। बहुत ही कम उम्र में उन्होंने पढ़ाई के साथ काम करना शुरू कर दिया। वे बच्चों में तीसरे नंबर थे। उन्होंने अपने परिवार के चाय की दुकान पर काम करना शुरू कर दिया।

2- पीएम मोदी के स्कूल के दोस्त उन्हें एक ऐसे शख्स के रूप में याद करते हैं जो हमेशा जिज्ञासु रहते थे। वे अपना बहुत सारा समय पुस्तकालय में बिताते थे। वे एक ऐसे छात्र थे मुद्दों पर बहस करना और चर्चा करना पसंद था। ऐसा माना जाता है कि बचपन में नरेंद्र मोदी स्वामी विवेकानन्द से प्रेरित थे।

3- 17 साल की उम्र में नरेंद्र मोदी ने भारत भ्रमण पर निकल गए थे। वे संस्कृतियों की खोज करना चाहते थे। वे अपने देश को बेहतर तरीके से जानने जानना चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपना गांव वडनगर छोड़ दिया। इसके बाद 1972 में नरेंद्र मोदी अहमदाबाद गए और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में शामिल हो गए।

Advertisement

4- 1987 में नरेंद्र मोदी मुख्य राजनीति में शामिल हुए और एक साल में ही उन्हें भाजपा की गुजरात इकाई का महासचिव बना दिया गया। वह तत्कालीन भाजपा प्रमुख लालकृष्ण आडवाणी की सोमनाथ से अयोध्या रथ यात्रा और 1988 और 1995 के बीच कन्याकुमारी से कश्मीर तक मार्च के मुख्य वास्तुकार थे। 2001 में पार्टी के आलाकमान ने केशुभाई पटेल की जगह नरेंद्र मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री चुना। वे इस पद पर 2014 तक बने रहे।

  1. 2014 में एक दशक के कांग्रेस शासन के बाद भाजपा केंद्र में सत्ता में आई और नरेंद्र मोदी ने भारत के प्रधान मंत्री के रूप में शपथ ली। 2019 में पीएम मोदी ने एक बार फिर वाराणसी सीट से चुनाव लड़ा और बीजेपी और एनडीए को और भी बड़ी जीत दिलाई। अब एक बार फिर मोदी वाराणसी से चुनाव लड़ने वाले हैं।
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो