scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Election 2024: गांधी परिवार को ही लड़ना चाहिए अमेठी-रायबरेली से चुनाव, यूपी कांग्रेस का आलाकमान को सुझाव

सोनिया गांधी हाल ही में राज्यसभा के लिए चुनी गईं। वहीं, कांग्रेस ने 39 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची में राहुल को वायनाड लोकसभा सीट से नामांकित किया है।
Written by: Maulshree Seth | Edited By: shruti srivastava
नई दिल्ली | March 11, 2024 09:27 IST
election 2024  गांधी परिवार को ही लड़ना चाहिए अमेठी रायबरेली से चुनाव  यूपी कांग्रेस का आलाकमान को सुझाव
सोनिया गांधी और राहुल गांधी
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024 की तारीखों के ऐलान से पहले तमाम राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याशियों का ऐलान करना शुरू कर दिया है। हाल ही में कांग्रेस ने अपनी पहली लिस्ट निकाली थी जिसमें 39 कैंडीडेट्स के नाम का ऐलान किया गया था। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार वायनाड सीट से चुनाव लड़ेंगे, जहां से उन्होंने पिछले चुनाव में जीत दर्ज की थी। पार्टी ने फिलहाल देश के सबसे अधिक लोकसभा सीट वाले राज्य उत्तर प्रदेश से एक भी उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं किया है।

इस बीच कांग्रेस की उत्तर प्रदेश इकाई की नवगठित राज्य चुनाव समिति ने रविवार को सिफारिश की कि गांधी परिवार के सदस्यों को अमेठी और रायबरेली लोकसभा क्षेत्रों से चुनाव लड़ना चाहिए। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पिछले लोकसभा चुनाव में रायबरेली निर्वाचन क्षेत्र से चुनी गईं, उनके बेटे राहुल पड़ोसी जिले अमेठी में भाजपा की स्मृति ईरानी से हार गए थे।

Advertisement

चुनाव समिति ने सीटों के लिए की नामों पर चर्चा

रविवार को लखनऊ में पहली बैठक में AICC महासचिव अविनाश पांडे के नेतृत्व में राज्य चुनाव समिति ने उन 17 सीटों के नामों पर चर्चा की, जिन पर पार्टी INDIA गठबंधन के हिस्से के रूप में यूपी में चुनाव लड़ने के लिए तैयार है। इसमें रायबरेली और अमेठी लोकसभा सीटों पर विस्तृत चर्चा हुई।

अविनाश पांडे ने बैठक के बाद कहा, "रायबरेली और अमेठी का संबंध हमेशा से गांधी परिवार से रहा है और ये लोकसभा सीटें उनके करीब रही हैं। ऐसे में हमने अमेठी और रायबरेली में कार्यकर्ताओं के साथ-साथ पदाधिकारियों की भावनाओं के आधार पर सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से अनुरोध किया जाए कि वहां जो भी नाम तय किए जाएं, वे गांधी परिवार से होने चाहिए। हालांकि, अंतिम निर्णय उनके द्वारा लिया जाएगा।”

दो घंटे तक चली बैठक के दौरान समिति ने अन्य 15 सीटों के संभावित उम्मीदवारों पर भी चर्चा की। सूत्रों ने कहा कि कम से कम तीन अन्य सीटें थीं जिनके लिए केवल एक नाम पर विचार किया जाना था। इनमें वाराणसी से राज्य इकाई के अध्यक्ष अजय राय, सहारनपुर से पूर्व विधायक इमरान मसूद और बाराबंकी से तनुज पुनिया शामिल थे।

Advertisement

इस आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए नाम

पार्टी के एक नेता ने कहा, “11 लोकसभा सीटों पर, समिति के सदस्यों ने स्थानीय जाति समीकरणों और आवेदकों की प्रोफ़ाइल को देखा और एक नाम को शॉर्टलिस्ट किया जिसे केंद्रीय नेतृत्व को प्रस्तावित किया गया है। इन सीटों में झांसी भी शामिल है जहां से पूर्व सांसद प्रदीप जैन आदित्य का नाम सुझाया गया है। पूर्व सांसद राज बब्बर का नाम फ़तेहपुर सीकरी के लिए, मौजूदा विधायक वीरेंद्र चौधरी का नाम महराजगंज के लिए, पूर्व सांसद कमल किशोर कमांडो का बांसगांव के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया है।''

सूत्रों ने बताया कि कुछ सीटों पर दो से तीन नाम केंद्रीय चुनाव समिति को विचार के लिए प्रस्तावित किये गये हैं। एक कांग्रेस नेता ने कहा, “देवरिया के लिए उम्मीदवारों के नाम पर फैसला करना काफी मुश्किल हो गया, जहां से कई मजबूत दावेदार हैं। पूर्व विधायक और राज्य इकाई के प्रमुख अजय कुमार लल्लू, आईवाईसी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव चंद और पूर्व विधायक और पार्टी प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह। ये तीनों नाम केंद्रीय नेतृत्व को प्रस्तावित किए गए हैं।”

यूपी में 17 सीटों पर चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

INDIA गठबंधन सीट-बंटवारे के हिस्से के रूप में, समाजवादी पार्टी और उसके छोटे सहयोगी यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से 63 पर चुनाव लड़ेंगे जबकि कांग्रेस के लिए 17 सीटें छोड़ी जाएंगी। इन 17 सीटों में रायबरेली, अमेठी, कानपुर, फ़तेहपुर सीकरी, बांसगांव, सहारनपुर, प्रयागराज , महाराजगंज, वाराणसी, अमरोहा, झाँसी, बुलन्दशहर, ग़ाज़ियाबाद, मथुरा, सीतापुर, बाराबंकी और देवरिया शामिल हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो