scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

लोकसभा चुनाव में अहम भूमिका निभाएंगे दिल्ली के लाखों किसान

किसानों का कहना है कि दिल्ली के गांवों को शहरीकृत घोषित किए जाने व दिल्ली में कृषि या किसान कल्याण मंत्रालय नहीं है। ऐसे में केंद्र और प्रदेश सरकार के बीच फंसे दिल्ली के किसानों को किसी भी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 19, 2024 12:12 IST
लोकसभा चुनाव में अहम भूमिका निभाएंगे दिल्ली के लाखों किसान
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

सर्वेश कुमार

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण के लिए होने वाले मतदान में दिल्ली के किसान अहम भूमिका निभाएंगे। दिल्ली के 148 गांवों के लाखों किसान लंबे अरसे से योजनाओं के फायदे से वंचित और मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि इस बार वे उस पार्टी को अपना समर्थन देंगे जो उनके हितों की अनदेखी नहीं करे। एक साल से अधिक समय तक दिल्ली की सीमाओं पर जारी आंदोलन भी किसानों को याद है।

Advertisement

किसानों का कहना है कि दिल्ली के गांवों को शहरीकृत घोषित किए जाने व दिल्ली में कृषि या किसान कल्याण मंत्रालय नहीं है। ऐसे में केंद्र और प्रदेश सरकार के बीच फंसे दिल्ली के किसानों को किसी भी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। पश्चिमी और उत्तर पश्चिमी दिल्ली के अलावा बाहरी दिल्ली के ग्रामीण इलाकों में किसान मतदाताओं की संख्या करीब पांच लाख जबकि कृषि श्रमिकों को शामिल करने पर यह संख्या और अधिक है।

ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले मतदाताओं का दर्द है कि सर्किल रेट कम होने से जमीन का मुआवजा उन्हें काफी कम है। उनके ट्रैक्टर, खाद और बिजली दूसरे राज्यों से महंगी मिलती है। दूसरे राज्यों में ट्रैक्टर को कृषि उपकरण की श्रेणी में रखा गया है जबकि दिल्ली में वाहन के तौर पर किसानों को इसपर रोड टैक्स चुकाना पड़ता है।

Advertisement

खाद पर सब्सिडी नहीं मिलती है तो बिजली की दरें अधिक होने और जमीन बंटवारा होने पर परिवार के दूसरे सदस्य के लिए नए मीटर की सुविधा नहीं होने जैसी समस्या से जूझ रहे हैं। भारतीय किसान संघ के प्रदेश अध्यक्ष हरपाल सिंह डागर ने कहा कि किसानों की भूमि अधिग्रहण पर सर्किल रेट बढ़ाया जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि ग्रामीण इलाके में अपशिष्ट जल प्रबंधन की सुविधा नहीं होना दिल्ली के किसानों के लिए एक बड़ी समस्या है। मुबारकपुर, मुंडका, रानीखेड़ा, मदनपुर और रावता समेत कई गांवों में फसल पानी में डूबे रहते हैं।

Advertisement

संयुक्त किसान मोर्चा समन्वय समिति के सदस्य युद्धवीर सिंह ने कहा कि दिल्ली के किसानों को उनका पूरा हक नहीं मिल रहा है। बात चाहे जमीन के अधिग्रहण पर मुआवजा की हो या दूसरी सुविधाएं किसानों को उनका पूरा हक नहीं मिल रहा है। दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन के दौरान संघर्ष में शामिल किसान इसे भूले नहीं हैं। जो किसानों के हित की बात करेगा, उसे ही किसान समर्थन देंगे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो