scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Indore: कांग्रेस की उम्मीदवारी छोड़ BJP शामिल हो गए थे अक्षय बम, मर्डर केस में अब जारी हुआ अरेस्ट वॉरंट

Indore: अक्षय बम बीजेपी नेता और कैबिनेट मंत्री कैलाश विजवर्गीय के साथ कलेक्ट्रेट दफ्तर गए थे और कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर उन्होंने अपना नामांकन वापस ले लिया है।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | May 10, 2024 19:56 IST
indore  कांग्रेस की उम्मीदवारी छोड़ bjp शामिल हो गए थे अक्षय बम  मर्डर केस में अब जारी हुआ अरेस्ट वॉरंट
बीजेपी में शामिल हुए अक्षय बम की बढ़ी मुश्किलें (सोर्स - सोशल मीडिया)
Advertisement

मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को पिछले दिनों बड़ा झटका लगा था, जब इंदौर से पार्टी के लोकसभा चुनाव के लिए घोषित हुए प्रत्याशी अक्षय कांति बम ने ही अपना नामांकन अचानक वापस ले लिया था। अक्षय कांति बम बीजेपी विधायक और मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री कैलाश विजयवर्गीय के साथ नामांकन वापस लेने के लिए कलेक्ट्रेट ऑफिस गए थे।

नामांकन वापस लेने के बाद अक्षय बीजेपी में शामिल हो गए थे लेकिन आज उन्हें एक बड़ा झटका लगा है क्योंकि अक्षय कांति और अन्य चार लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी कर दिया गया है, जिसके चलते उनकी मुश्किलें काफी बढ़ गई हैं। उन्हें कभी-भी गिरफ्तार किया जा सकता है।

Advertisement

17 साल पुराने केस में दर्ज हुआ था मुकदमा

दरअसल, मध्य प्रदेश की एक अदालत ने हत्या के प्रयास के मामले में बीजेपी में शामिल हुए नेता अक्षय कांति बम और अन्य चार लोगों के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया है। दिलचस्प बात यह भी है कि कांग्रेस से लोकसभा का टिकट मिलने के बाद ही अक्षय के खिलाफ यह केस दर्ज किया गया था। अक्षय के खिलाफ 17 साल पुराने जमीन हड़पने के मामले में कोर्ट के निर्देश पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया था।

सियासी तौर पर माना जा रहा है कि अक्षय बम ने बीजेपी की चाल के तहत अपना नामांकन वापस लिया था। कांग्रेस के पूर्व उम्मीदवार ने दावा किया था कि चुनाव प्रचार के लिए पार्टी संगठन की ओर से सहयोग न मिलने के कारण उन्हें चुनाव की दौड़ से बाहर होना पड़ा है।

Advertisement

चुनाव प्रचार में सपोर्ट न मिलने का लगाया था आरोप

इतना ही नहीं, अक्षय बम ने कहा था कि उन्हें चुनाव प्रचार के लिए प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर के नेताओं का कोई सहयोग भी नहीं मिल रहा है।बता दें की अक्षय बम पेशे से एक बिजनेसमैन हैं और पार्टी छोड़ने को लेकर उन्होंने कहा था कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर वोट पाने के लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की थी, लेकिन इतना बड़ा चुनाव केवल स्थानीय नेता के दम पर नहीं लड़ा जा सकता है।

अक्षय ने यह भी दावा किया कि उन्होंने मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी को इस बारे में जानकारी विधि थी लेकिन उन्होंने भी चुनाव के लिए उनका कोई खास साथ नहीं दिया। अक्षय कांति बम ने यह भी आरोप लगाया था कि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता 2 घंटे तक इंदौर हवाई अड्डे पर मौजूद थे लेकिन कांग्रेस पार्टी ने उनकी कोई रैली आयोजित नहीं करवाई, जो बताता है कि पार्टी उनका चुनाव में कोई सहयोग नहीं कर रही थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो