scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'भारत जोड़ो यात्रा' से कितनी अलग होगी 'भारत न्याय यात्रा'? इस बार दूरी ज्यादा लेकिन समय कम, ये रही पूरी डिटेल

Bharat Nyay Yatra: भारत न्याय यात्रा की शुरुआत जनवरी में होगी। यह मणिपुर से शुरू होगी और इसका समापन महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में होगा।
Written by: लालमनी वर्मा | Edited By: Yashveer Singh
Updated: December 27, 2023 17:15 IST
 भारत जोड़ो यात्रा  से कितनी अलग होगी  भारत न्याय यात्रा   इस बार दूरी ज्यादा लेकिन समय कम  ये रही पूरी डिटेल
भारत जोड़ो यात्रा से कितनी अलग होगी भारत न्याय यात्रा? (PTI/ANI Image)
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले कांग्रेस पार्टी एक और यात्रा निकालने जा रही है। बुधवार को कांग्रेस की तरफ से 'भारत न्याय यात्रा' निकालने का ऐलान किया गया। कांग्रेस की इस यात्रा का आगाज भारत के पूर्वी हिस्से मणिपुर से 14 जनवरी को होगा जबकि समापन पश्चिम यानी मुंबई में होगा। 'भारत न्याय यात्रा' को मल्लिकार्जुन खड़गे इंफाल में हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।

पांच महीने चली थी भारत जोड़ो यात्रा

'भारत जोड़ो यात्रा' दक्षिण से उत्तर की ओर निकाली गई थी। यह पांच महीने चली थी और इसका आगाज तमिलनाडु के कन्याकुमारी से हुआ और समापन कश्मीर के श्रीनगर में हुआ था। तब कांग्रेस ने 5 महीने में 4500 किमी की दूरी तय की थी। अब भारत न्याय यात्रा 14 राज्यों के 85 जिलों के जरिए गुजरते हुए कुल 6200 किमी दूरी तय करेगी।

Advertisement

इस दौरान यह मणिपुर, नागालैंड, असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र से गुजरेगी। इस बार कांग्रेस पार्टी कम समय में ज्यादा दूरी तय करने जा रही है। इसके लिए वह ज्यादातर समय यात्रा बस के जरिए करेगी और थोड़ी ही दूरी पैदल तय की जाएगी।

मणिपुर से शुरुआत की क्या है वजह?

कांग्रेस पार्टी के नेता केसी वेणुगोपाल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हम मणिपुर के लोगों के घाव भरना चाहते हैं। यह प्यार और लगाव की यात्रा है। उन्होंने इस दौरान यह भी कहा कि यह सियासी यात्रा नहीं है। पार्टी सिर्फ लोगों को प्रभावित करने वाले मुद्दे उठाना चाहती है। कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान भी यह किया था। उन्होंने कहा कि अलग-अलग जगह पर अलग-अलग नेता इस यात्रा में शामिल होंगे।

Advertisement

दोनों यात्राओं का फोकस अलग

जयराम रमेश ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने देश में लोगों को तीन बड़ी समस्याओं - आर्थिक असमानता, सोशल पोलराइजेशन और पॉलिटिकल डिक्टेटरशिप के प्रति जागरुक किया। उन्होंने आगे कहा कि अब वो भारत न्याय याभा में आर्थिक न्याय, सामाजिक न्याय, राजनीतिक न्याय और लोकतंत्र और संविधान बचाने पर फोकस करेंगे।

Advertisement

क्या है सियासी महत्व?

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले निकाली जा रही यह यात्रा पश्चिम बंगाल, बिहार, यूपी, एमपी, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र के बड़े एरिया के जरिए निकलेगी। इन राज्यों में कांग्रेस पार्टी को इंडिया गठबंधन में शामिल दलों की तरफ से सीट शेयरिंग के दौरान बड़ा चैलेंज फेस करना पड़ सकता है। इस दौरान लोकल पार्टी राहुल गांधी की यात्रा को कितना समर्थन करेंगी, यह भी देखने लायक होगा। इसी दौरान इंडिया गठबंधन में शामिल दल संयुक्त रैली और मीटिंग्स प्लान कर रहे हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो