scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जब पहली बार चुने गए थे सांसद तो अपनी ही पार्टी के लोगों ने उठाए थे सवाल, राजनीति में गोविंदा ने की वापसी; क्या लड़ेंगे चुनाव?

2004 में जब गोविंदा कांग्रेस के टिकट पर सांसद चुने गए तो संसद में उनकी कम उपस्थिति को लेकर उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: March 30, 2024 11:18 IST
जब पहली बार चुने गए थे सांसद तो अपनी ही पार्टी के लोगों ने उठाए थे सवाल  राजनीति में गोविंदा ने की वापसी  क्या लड़ेंगे चुनाव
फिल्म अभिनेता गोविंदा शिवसेना में शामिल हुए हैं। (Express photo by Ganesh Shirsekar)
Advertisement

Vallabh Ozarkar, Alaka Sahani

फिल्म अभिनेता गोविंदा एक बार फिर से राजनीति में आ रहे हैं। करीब 15 साल बाद वह राजनीति में वापसी कर रहे हैं। गुरुवार को गोविंदा मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना में शामिल हो गए और उन्हें टिकट मिलने के साथ-साथ पार्टी के स्टार प्रचारकों में भी शामिल होने की संभावना है। काफी समय से गोविंदा फ़िल्मी करियर में वह स्ट्रगल कर रहे थे।

हालांकि गोविंदा के राजनीति में आने की उम्मीद कम थी। 2004 में जब गोविंदा कांग्रेस के टिकट पर सांसद चुने गए तो संसद में उनकी कम उपस्थिति को लेकर उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। उन्होंने उस समय यह कहते हुए राजनीति में कभी नहीं लौटने की कसम खाई थी कि यह उनके बस की बात नहीं है। 2013 में गोविंदा ने इस बात को दोहराते हुए राजनीति में शामिल होने को अपने जीवन की सबसे बड़ी गलती बताया और उसके बाद अपने फ़िल्मी करियर के ढलान पर जाने का अफसोस जताया।

Advertisement

गुरुवार को शिवसेना में शामिल होने के बाद गोविंदा ने शिंदे सरकार के कामों की प्रशंसा की। हिट लव 86 के साथ उनके धमाकेदार बॉलीवुड डेब्यू की तरह, 2004 में उनकी राजनीतिक शुरुआत भी वास्तव में एक ब्लॉकबस्टर थी। मुंबई नॉर्थ से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए गोविंदा ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पांच बार के सांसद राम नाइक को 50,000 वोटों से हराया था। चर्चा है कि शिंदे सेना उन्हें दोबारा उसी सीट से मैदान में उतार सकती है। दिलचस्प बात यह है कि जब गोविंदा से इस बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि सीएम फैसला करेंगे। वहीं एकनाथ शिंदे ने जोर देकर कहा कि गोविंदा ने शामिल होने के लिए कोई शर्त नहीं रखी है, और वह चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं।

गोविंदा का जन्म अरुणा आहूजा के घर हुआ था, जो 1940 के दशक के दौरान एक छोटे अभिनेता थे। गोविंदा की मां निर्मला आहूजा एक अभिनेत्री और गायिका थीं। 1987 में गोविंदा ने अपनी दूर की रिश्तेदार सुनीता से गुपचुप तरीके से शादी कर ली और इस रिश्ते को चार साल तक छुपाए रखा।

Advertisement

इससे उनकी फिल्म परियोजनाओं को प्राथमिकता देते हुए लंबे समय तक संसद से अनुपस्थित रहने की आलोचना बढ़ गई। गोविंदा ने बाद में दावा किया कि 2009 में कांग्रेस पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व उन्हें मुंबई उत्तर से फिर से उम्मीदवार बनाना चाहता था, लेकिन राज्य इकाई ने उन्हें नहीं बताया। उनका कहना था कि तभी उन्होंने राजनीति में आगे नहीं बढ़ने का फैसला किया और कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा था कि मुझे सचमुच मेरी ही पार्टी और लोगों ने घेर लिया था।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो