scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Elections: LJP ने जारी की सभी 5 प्रत्याशियों की लिस्ट, हाजीपुर से पिता की विरासत संभालेंगे चिराग पासवान

Lok Sabha Elections 2024: NDA में बीजेपी ने चिराग पासवान को तरजीह दी थी, जिसके बाद चिराग के चाचा पशुपति पारस ने मोदी कैबिनेट से भी इस्तीफा दे दिया था।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: March 30, 2024 18:22 IST
lok sabha elections  ljp ने जारी की सभी 5 प्रत्याशियों की लिस्ट  हाजीपुर से पिता की विरासत संभालेंगे चिराग पासवान
Chirag Paswan पहले जमुई सीट से लड़ते थे (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर बिहार में एनडीए के सहयोगी दल लोकजनशक्ति पार्टी रामविलास ने अपने कोटे के 5 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी कर दी है। पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान जमुई नहीं बल्कि हाजीपुर सीट से चुनाव लड़ेंगे। हाजीपुर की लोकसभा सीट से पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री और चिराग के पिता रामविलास पासवान चुनाव लड़ते थे। ऐसे में अब हाजीपुर में रामविलास पासवान की विरासत चिराग पासवान ही संभालेंगे।

लोकजनशक्ति पार्टी रामविलास द्वारा जारी लिस्ट के मुताबिक जमुई से अरूण भारती, समस्तीपुर से शांभवी चौधरी, हाजीपुर से चिराग पासवान, वैशाली से वीणा देवी और खगड़िया से राजेश वर्मा को टिकट दिया गया है। चिराग गुट द्वारा इस लिस्ट में चर्चा शांभवी चौधरी के नाम की भी है, क्योंकि शांभवी चौधरी सीएम नीतीश के करीबी मंत्री अशोक चौधरी की बेटी हैं।

Advertisement

बता दें कि एनडीए में सीट बंटवारे में चिराग पासवान को पांच सीट मिली थीं। हाजीपुर, समस्तीपुर, वैशाली, खगड़िया और जमुई शामिल है। एलजेपी आर के सीट बंटवारे में दो सीट पर परिवार के ही सदस्य चुनाव लड़ रहे है। हाजीपुर सीट से खुद चिराग पासवान चुनाव लड़े रहे हैं तो दूसरी ओर जीजा अरूण भारती चुनाव लड़ रहे हैं।

कहां से किसे मिला है टिकट

चिराग ने वैशाली सीट से वीणा देवी चुनाव लड़ रही हैं। 2019 में भी एलजेपी के टिकट से वीणा देवी वैशाली से चुनाव लड़ी थी और विजयी हुई थी लेकिन एलजेपी में टूट के बाद वो पहले पारस गुट के साथ चली गई थी। हाल के दिनों में चिराग पासवान के गुट में शामिल हो गई। खगड़िया सीट से राजेश वर्मा को टिकट मिला है। साल 2020 में भागलपुर से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं। राजेश वर्मा भागलपुर के डिप्टी मेयर भी रह चुके हैं।

Advertisement

खुद को कहते थे 'मोदी का हनुमान'

चाचा पशुपति पारस द्वारा धोखा मिलने के बाद मोदी सरकार ने भी चिराग को किनारे कर दिया था। हालांकि खुद को 'मोदी का हनुमान' कहने वाले चिराग पासवान अकेले पड़ गए थे लेकिन 2024 के चुनाव में मोदी ने साथ आखिरकार चिराग का ही दिया और उनके गुट को ही एनडीएम वरीयता दी है। उस वक्त पशुपति पारस ने नाराजगी जाहिर की थी और बगावत के संकेत भी दिए थे लेकिन आज ही उनके भी सुर बदले हुए नजर आए हैं।

पशुपति पारस ने कहा है कि वे पूरी तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर एनडीए के साथ हैं। हालांकि पारस गुट के कोटे में एनडीए से कोई भी सीट नहीं आई है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो