scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Elections 2024: खींचतान के बाद चिराग को मिला चाचा का 'आशीर्वाद', पहले की थी बगावत, अब खड़े कर दिए हाथ

Chirag Paswan Hajipur: चिराग पासवान लोकसभ चुनाव 2024 में हाजीपुर से लड़ने वाले हैं जहां से उनके चाचा पशुपति पारस जीतकर पिछले चुनाव में मंत्री बने थे।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | April 03, 2024 17:46 IST
lok sabha elections 2024  खींचतान के बाद चिराग को मिला चाचा का  आशीर्वाद   पहले की थी बगावत  अब खड़े कर दिए हाथ
पशुपति पारस ने चिराग के लिए किया बड़ा एलान (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

Hajipur Lok Sabha Elections 2024: बिहार की हाजीपुर सीट पर इस बार चिराग पासवान उतरे हैं। इससे पहले यह सीट 2029 में लोकजनशक्ति पार्टी के पशुपति पारस के पास रही थी। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस और चिराग के बीच हुए विवाद के बाद, बीजेपी ने इस चुनाव में चिराग को सीट शेयरिंग में वरीयता दी है। चिराग के सियासी मैदान में उतरने को लेकर संशय यह था कि क्या उन्हें पशुपति पारस के विरोध का सामना करना पड़ेगा लेकिन अब उनके लिए एक राहत की खबर आई है।

दरअसल, पशुपति पारस सीट शेयरिंग में शून्य पाने के बाद एनडीए के कुनबे से नाराज थे। एक वक्त ऐसा भी आया था कि उन्होंने यह तक कहा था कि अगर सीट शेयरिंग में उनके गुट को अहमियत नहीं दी गई, तो उनके पास और भी रास्ते खुले हैं। बगावत के तहत ही उन्होंने मोदी सरकार तक से इस्तीफा दे दिया था। वहीं अब पशुपति पारस ने ऐलान किया है कि वे हाजीपुर की सीट पर एनडीए के प्रत्याशी का ही समर्थन करेंगे।

Advertisement

सीट शेयरिंग को लेकर नाराजगी जाहिर करने के बाद पशुपति पारस लंबे वक्त तक गायब थे। माना जा रहा था कि वे नए विकल्प तलाश रहे थे लेकिन फिर अचानक उन्होंने ऐलान किया कि वे एनडीए में ही रहेंगे। दिलचस्प बात यह है कि उन्हें एनडीए में एक भी सीट नहीं मिली है फिर भी वह खुश हैं। पहले पशुपति ने बगावत करने की कोशिश की थी लेकिन अब उन्होंने सरेंडर की मुद्रा में हाथ खड़े कर दिए हैं। इसके अलावा चिराग से पारिवारिक विवादों पर भी बयान दिया है।

चुनाव में साथ रहकर लड़ना है जरूरी

पशुपति पारस ने कहा है कि वे हाजीपुर सीट पर चिराग पासवान का समर्थन करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि वे बिहार की सभी 40 लोकसभा सीटों पर एनडीए की जीत ही उनका मकसद है। इसलिए सीट पर चाहे चिराग लड़ें या फिर एनडीए का कोई भी प्रत्याशी, वे उसका समर्थन करेंगे। वहीं चिराग पासवान से मनमुटाव को लेकर पारस ने कहा कि आपसी लड़ाई अलग है लेकिन चुनाव में एकजुट होकर जीतना ज्यादा जरूरी है।

Advertisement

गौरतलब है कि हाजीपुर सीट पर चुनाव लड़ने के लिए पशुपति पारस की भतीजे चिराग पासवान से लंबी लड़ाई चली थी। पारस इस सीट से फिलहाल सांसद है। जब बीजेपी ने पारस गुट को एक भी सीट नहीं दी थी, तो वे काफी नाराज थे लेकिन अब उन्होंने पीएम मोदी के नेृतृत्व में चुनाव लड़ने और एनडीए को मजबूत करने की मांग की है।

गौरतलब है कि बीजेपी लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने सीट शेयरिंग के मुद्दे पर ज्यादा प्रयोग नहीं किए हैं, जो दिखाता है कि पार्टी यहां अहम चुनाव में फूंक-फूंक कर कदम रख रही थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो