scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

qatesting-Ambala Lok Sabha Election 2024: हरियाणा की सबसे पुरानी सीट पर है नजर, 2019 में बीजेपी का था कब्जा

Ambala Lok Sabha Election 2024 Date, Candidates Name, Caste Wise Population: अंबाला सीट पर बीजेपी के सांसद रतन लाल कटारिया हैं।
Written by: Jyoti Gupta
नई दिल्ली | Updated: May 10, 2024 13:05 IST
qatesting ambala lok sabha election 2024  हरियाणा की सबसे पुरानी सीट पर है नजर  2019 में बीजेपी का था कब्जा
अंबाला लोकसभा सीट
Advertisement

Ambala Lok Sabha Election 2024 Date, Candidate Name: अंबाला लोकसभा सीट हरियाणा की सबसे पुरानी सीट है। इसका दायरा पंजाब व हिमाचल प्रदेश के बड़े भूभाग तक फैला है। यह दिल्ली से दो सौ किलोमीटर दूर उत्तर की तरफ शेरशाह सूरी मार्ग पर स्थित है। फिलहाल यहां के भारतीय जनता पार्टी के सांसद रतन लाल कटारिया हैं। इससे पहले यह सीट कांग्रेस की कुमारी शैलजा हैं के पास थी। वे केन्द्रीय मन्त्रिमण्डल में मंत्री भी रहीं। फिलहाल यहां किसी भी पार्टी ने अपने प्रत्याशी की सूची जारी नहीं की है। यहां बीजेपी औऱ कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर हो सकती है।

सबसे जरूरी बात यह है कि यह हरियाणा की ऐसी सीट है जो शुरु से अनुसूचित जातियों के लिए आरक्षित है। अंबाला से कई केंद्रीय मंत्री और राज्यपाल रह चुके हैं। इसी सीट से स्व.सुषमा स्वराज ने अपने राजनीति की पारी शुरूकी थी। सुषमा स्वराज बाद में विदेश मंत्री बनीं। वहीं स्व. सूरजभान उत्तरप्रदेश, हिमाचल के राज्यपाल रहे।

Advertisement

यहां से शिवप्रकाश शर्मा एक ऐसे विधायक हैं जो जनता दल से साल 1977, 1982 और 1987 में जीत हांसिल की। यानी इन्होंने ही सिर्फ हैट्रिक लगाई। हालांकि अनिल विज यहां से सबसे अधिक पांच बार विधायक बने हैं। इसके अलावा उनके नाम 2005 में सबसे कम 637 मतों से हारने का रिकॉर्ड है। इसके अलावा यहां सबसे अधिक चुनाव लड़के का रिकॉर्ड फूल चंद मुलाना के नाम है। वे शिक्षा मंत्री भी रह चुके हैं। यहां आम ज्यादा होता है इसलिए इसे ‘अम्बवाला’ कहा जाता था जो बाद में ‘अंबाला’ बन गया।

क्या हैं मुद्दे

इस सीट का सबसे बड़ा मुद्दा यह है कि यहां यमुनानगर से वाया रादौर कुरुक्षेत्र तक रेललाइन नहीं बन सकी। इलाके में बाढ़ का पानी लग जाता है। बाढ़ से बचाव के लिए हथनीकुंड बैराज से गुमथला यमुना के किनारे पक्के नहीं किए जा सके। अंबाला साइंस उपकरणों का बड़ा केंद्र है फिर भी इसे साइंस सिटी का दर्जा नहीं मिल सका। यहां शोध के लिए 2013 -14 में टूल रूम सेंटर बनाने को लेकर केन्द्रीय मंत्री ने उद्घाटन भी किया लेकिन इसका निर्माण अटका रहा। पर्यटन के लिहाज से भी यह शहर काफी अच्छा माना जाता है।

2019 में क्या रहा रिजल्ट

अंबाला में 2019 में बीजेपी के रतन लाल कटारिया ने 74, 6508 वोटों से जीत हांसिल की थी। इनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस पार्टी की कैंडिडेट सैलजा थीं। सैलजा को महज 40,4163 वोट मिले थे। दोनों के बीच हार का अंतर 34,2345 थी। वहीं वोट का कुल प्रतिशत 71 था।

Advertisement

कितने हैं मतदाता

यहां पुरुष मतदातओं की संख्या 99, 0684 है जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 86,2997 है। कुल मिलाकर यहां कुल मतदाताओं की संख्या 18,53711 है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो