scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

CAA VS NRC: क्या है 1985 Assam Accord, जिसके बाद असम में NRC का मुद्दा कैसे है अलग?

CAA vs NRC: जहां एक तरफ सीएए (caa) पूरी तरह से भारत में रहने वाले अवैध प्रवासियों पर लागू होता है, एनआरसी (nrc) में विशेष रूप से भारतीय नागरिकों का रिकॉर्ड शामिल होता है। सरकार के आश्वासन के बावजूद, सीएए और एनआरसी (caa vs nrc) के संभावित संयुक्त प्रभाव के बारे में चिंताएं बनी हुई हैं, इस डर के साथ कि मुसलमानों को एनआरसी (nrc) से बाहर रखा जा सकता है, जिससे वे राज्यविहीन हो जाएंगे। सीएए के क्रिटिकस का मानना है कि सीएए (caa notification) के कार्यान्वयन से अवैध विदेशियों का पता लगाने, हिरासत में लेने और निर्वासन करने के उद्देश्य से 1985 के असम (assam on caa) समझौते को रद्द करके असमिया लोगों (assam accord) की संस्कृति और पहचान को नष्ट कर दिया जाएगा। यह धारा यह भी दावा करती है कि सीएए (caa) का उद्देश्य एनआरसी से बाहर रह गए बंगाली मूल के हिंदुओं को नागरिकता देना है।
Written by: Oohini Mukhopadhyay
Updated: March 13, 2024 11:34 IST
Advertisement

CAA vs NRC: जहां एक तरफ सीएए (caa) पूरी तरह से भारत में रहने वाले अवैध प्रवासियों पर लागू होता है, एनआरसी (nrc) में विशेष रूप से भारतीय नागरिकों का रिकॉर्ड शामिल होता है। सरकार के आश्वासन के बावजूद, सीएए और एनआरसी (caa vs nrc) के संभावित संयुक्त प्रभाव के बारे में चिंताएं बनी हुई हैं, इस डर के साथ कि मुसलमानों को एनआरसी (nrc) से बाहर रखा जा सकता है, जिससे वे राज्यविहीन हो जाएंगे। सीएए के क्रिटिकस का मानना है कि सीएए (caa notification) के कार्यान्वयन से अवैध विदेशियों का पता लगाने, हिरासत में लेने और निर्वासन करने के उद्देश्य से 1985 के असम (assam on caa) समझौते को रद्द करके असमिया लोगों (assam accord) की संस्कृति और पहचान को नष्ट कर दिया जाएगा। यह धारा यह भी दावा करती है कि सीएए (caa) का उद्देश्य एनआरसी से बाहर रह गए बंगाली मूल के हिंदुओं को नागरिकता देना है।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो