scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

गुजरात के कॉलेज में रैगिंग को लेकर नया आदेश, जीआर होगा जारी, राज्य सरकार ने कोर्ट में कही ये बात

गुजरात के कॉलेज में अब कोई सीनियर अपने जूनियर छात्र की रैगिंग नहीं कर सकेगा। राज्य सरकार ने इसके लिए जीआर जारी करने की बात कही है।
Written by: एजुकेशन डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
अहमदाबाद | Updated: March 20, 2024 22:23 IST
गुजरात के कॉलेज में रैगिंग को लेकर नया आदेश  जीआर होगा जारी  राज्य सरकार ने कोर्ट में कही ये बात
प्रतीकात्मक फोटो (Freepik Photo)
Advertisement

गुजरात के कॉलेज में अब सीनियर छात्र जूनियर की रैगिंग नहीं सर सकेंगे। मामले को लेकर गुजरा सरकार हाईकोर्ट पहुंची थी। गुजरात सरकार ने बुधवार को हाईकोर्ट को बताया कि उसने उच्च और तकनीकी शिक्षण संस्थानों में रैगिंग पर अंकुश लगाने के लिए एक आदेश जारी किया है और उन्हें इसका पालन करने के लिए कहा है।

मामले में महाधिवक्ता कमल त्रिवेदी ने मुख्य न्यायाधीश सुनीता अग्रवाल और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध मायी की खंडपीठ को बताया कि सरकारी प्रस्ताव (जीआर) विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) द्वारा जारी नियमों के आधार पर जारी किया गया है।

Advertisement

गुजरात उच्च न्यायालय राज्य में शैक्षणिक संस्थानों में रैगिंग की घटनाओं से निपटने के लिए एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा था। त्रिवेदी ने आगे कहा कि जहां तक मेडिकल कॉलेजों का सवाल है। सरकार भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) के नियमों के आधार पर अगले कुछ दिनों में जीआर दाखिल करेगी।

रैगिंग रोकने के लिए बनाए गए नियम

उन्होंने आगे कहा कि गुजरात शिक्षा विभाग ने 19 मार्च के जीआर के माध्यम से संस्थान, विश्वविद्यालय, जिला और राज्य स्तर पर रैगिंग विरोधी समितियों का गठन किया है। जीआर में कहा गया है, ‘‘गंभीरतापूर्वक विचार करने के बाद और उच्च शिक्षण संस्थानों में रैगिंग पर अंकुश लगाने के लिए गुजरात सरकार ने राज्य में उच्च और तकनीकी शिक्षा संस्थानों में रैगिंग के खतरे को रोकने के लिए नियम बनाने का निर्णय लिया है।’’

Advertisement

गुजरात के सभी विश्वविद्यालयों में लागू होगा नियम

त्रिवेदी ने अपने आवेदन में कहा कि गुजरात के सभी उच्च शिक्षण संस्थानों जैसे विश्वविद्यालय और डीम्ड विश्वविद्यालय और सभी तकनीकी संस्थानों को रैगिंग पर अंकुश लगाने के लिए यूजीसी और एआईसीटीई नियमों का पालन करने का निर्देश दिया गया है। एक अखबार में तीन जनवरी 2023 को प्रकाशित एक खबर के अनुसार, वडोदरा के एक निजी मेडिकल कॉलेज के आर्थोपेडिक विभाग के तीन वरिष्ठ रेजिडेंट छात्रों को एक जूनियर छात्र की कथित रैगिंग की घटना के बाद जांच लंबित रहने तक निलंबित कर दिया गया था। माना जा रहा है कि यह फैसला इस घटना को ध्यान में रखते हुए किया गया है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो