scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

संपादकीय: बंद लिफाफे का सच, चुनावी बांड पर बहानेबाजी, सुप्रीम कोर्ट में नहीं चलीं एसबीआई की दलीलें

चुनावी चंदे के लिए बांड की व्यवस्था की गई थी, तभी इस नियम को लेकर सवाल उठने लगे थे कि आखिर इसे गोपनीय क्यों रखा जा रहा है। फिर चंदा देने की सीमा समाप्त कर दी गई थी।
Written by: जनसत्ता
नई दिल्ली | Updated: March 12, 2024 14:22 IST
संपादकीय  बंद लिफाफे का सच  चुनावी बांड पर बहानेबाजी  सुप्रीम कोर्ट में नहीं चलीं एसबीआई की दलीलें
SC on Electoral Bonds: इलेक्टोरल बॉन्ड पर बोले Prashant Bhushan-SBI को 12 मार्च तक देनी होगी जानकारी
Advertisement

सर्वोच्च न्यायालय ने चुनावी बांड संबंधी जानकारियां उपलब्ध कराने को लेकर भारतीय स्टेट बैंक की बहानेबाजियों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है। स्टेट बैंक ने चुनावी बांड संबंधी जानकारियां उपलब्ध कराने के लिए अदालत से तीस जून तक का समय मांगा था। उसका तर्क था कि बांड खरीदने वाले और राजनीतिक दलों के नामों का मिलान करने में उसे वक्त लग रहा है। चूंकि ये जानकारियां चुनावी बांड नियमों के मुताबिक सुरक्षा की दृष्टि से डिजिटल रूप में रखने के बजाय हस्तलिखित रूप में दो जगहों पर सीलबंद लिफाफे में रखी गई थीं, इसलिए हर दस्तावेज का मिलान करने में वक्त लगेगा। मगर सर्वोच्च न्यायालय ने उसकी बहानेबाजी पर विराम लगा दिया।

SBI से मिली जानकारियां चुनाव आयोग 15 तक वेबसाइट पर डालेगा

उसने कहा कि आपसे मिलान करने को तो कहा ही नहीं गया था। आप तो केवल अपने लिफाफे खोलिए और चुनावी बांड से संबंधित जो भी जानकारियां आपके पास हैं, उन्हें सौंप दीजिए। नियम के मुताबिक आपने हर बांड खरीदने वाले के बारे में विवरण जमा कर रखे हैं, इसलिए कोई परेशानी वैसे भी नहीं होनी चाहिए। अदालत ने आज शाम तक सभी जानकारियां उपलब्ध कराने का आदेश दिया है। उन जानकारियों को निर्वाचन आयोग पंद्रह तारीख की शाम तक अपनी वेबसाइट पर डाल देगा। अगर अब भी स्टेट बैंक कोई बहानेबाजी करता है, तो उसके खिलाफ अवमानना की कार्रवाई का रास्ता खुला है।

Advertisement

स्टेट बैंक के समय सीमा बढ़ाने की मांग से लोगों को हैरानी भी हुई

इस फैसले के बाद लगता नहीं कि स्टेट बैंक कोई बहाना बनाएगा। उसके वकील अदालत के समक्ष स्वीकार कर चुके हैं कि बंद लिफाफे में हर बांड का विवरण रखा हुआ है, समस्या केवल बांड के खरीदार और उसे भुनाने वाले राजनीतिक दलों के नामों के मिलान को लेकर है। इसलिए अब स्टेट बैंक के सामने इससे बचने का कोई रास्ता भी नहीं रह गया है। यों भी जब जानकारियां उपलब्ध कराने की अंतिम तारीख से दो दिन पहले स्टेट बैंक ने समय बढ़ाने की फरियाद की थी तो स्वाभाविक ही लोगों को हैरानी हुई थी।

लोग जानना चाहते हैं कि राजनीतिक दलों को चंदा देने वाले कौन हैं

पूछा जाने लगा था कि आज जब बैंकों का सारा कामकाज डिजिटल तरीके से होने लगा है और एक बटन दबाने से सारी जानकारियां सामने आ जाती हैं, तब स्टेट बैंक को क्यों इतना वक्त चाहिए। फिर, जिस तरह उसने तीस जून का वक्त मांगा था, उससे लोगों ने कहना शुरू कर दिया था कि तब तक आम चुनाव खत्म हो जाएगा। लोग जानना चाहते हैं कि आखिर राजनीतिक दलों को चंदा देने वाले लोग कौन हैं।

चुनावी चंदे के लिए बांड की व्यवस्था की गई थी, तभी इस नियम को लेकर सवाल उठने लगे थे कि आखिर इसे गोपनीय क्यों रखा जा रहा है। फिर चंदा देने की सीमा समाप्त कर दी गई थी। पहले कंपनियां अपने वार्षिक मुनाफे का केवल सात फीसद हिस्सा चुनावी चंदे के रूप में दे सकती थीं। इससे संदेह गहरा होने लगा था कि कहीं कुछ कंपनियां अपने फायदे के लिए राजनीतिक दलों को चंदे के रूप में रिश्वत तो नहीं दे रही हैं।

Advertisement

फिर चुनावी चंदे को सूचनाधिकार कानून से बाहर रखा गया था, जिससे लोगों को चंदा देने वालों के बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं हो पाती थी। सर्वोच्च न्यायालय ने इस पूरी प्रक्रिया को ही असंवैधानिक करार दे दिया। अदालत के आदेश के बाद वे नाम सामने आएंगे, तो लोगों का संदेह दूर हो सकेगा कि किन लोगों ने आखिर कितना चंदा दिया और कहीं उसके पीछे उनका कोई गलत इरादा तो नहीं था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो