scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Jansatta Editorial: कानून के हाथ! शाहजहां शेख गिरफ्तार लेकिन TMC सवालों के घेरे में

शाहजहां शेख की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस ने उसे पार्टी से छह साल के लिए निलंबित करने की घोषणा की है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: March 01, 2024 08:55 IST
jansatta editorial  कानून के हाथ  शाहजहां शेख गिरफ्तार लेकिन tmc सवालों के घेरे में
शाहजहां शेख को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। (ANI)
Advertisement

पश्चिम बंगाल के संदेशखाली मामले में गुरुवार को मुख्य आरोपी शाहजहां शेख को पुलिस ने आखिर गिरफ्तार कर लिया। मगर इससे पहले जिस तरह पचपन दिन तक राज्य सरकार एक विचित्र जद्दोजहद में झूलती दिखी, उससे यही लगता है कि उसकी गिरफ्तारी के लिए दबाव बढ़ते जाने के बीच इस मसले पर जितना संभव हो सका, टालमटोल किया गया।

अब अगर पुलिस मानती है कि शाहजहां को गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त आधार मौजूद थे, तो इसके लिए पहले ही ठोस कदम क्यों नहीं उठाए गए? राज्य में विपक्षी दलों की ओर से सवाल उठाने के अलावा हालत यह हो गई कि वहां के राज्यपाल ने शाहजहां शेख की गिरफ्तारी के लिए बहत्तर घंटे की समय-सीमा दे दी थी। इसके साथ ही कलकत्ता हाईकोर्ट ने भी इस मसले पर तीखे सवाल उठाए थे।

Advertisement

गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस ने शाहजहां को पार्टी से छह साल के लिए निलंबित करने की घोषणा की। हालांकि पुलिस के मुताबिक फिलहाल उसे संदेशखाली में प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी की टीम पर हमले से जुड़े मामले में गिरफ्तार किया गया है, मगर अब तक जैसी खबरें आई हैं, उससे साफ है कि वह एक व्यापक अपराध तंत्र का हिस्सा था, जिसके कई पीड़ित थे!

गौरतलब है कि पांच जनवरी को राशन घोटाला मामले में ईडी ने शाहजहां के ठिकानों पर छापेमारी की थी। इसी दौरान उसके समर्थकों ने ईडी अधिकारियों की टीम पर हमला कर दिया था, जिसमें संलिप्तता के आरोप लगने के बाद से वह फरार हो गया था। इस मामले के अलावा संदेशखाली में शाहजहां शेख जिस तरह की अवैध गतिविधियों में लगा था, वह पहले ही उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए पर्याप्त था।

Advertisement

दरअसल, वहां स्थानीय महिलाओं ने शाहजहां और उसके समर्थकों पर यौन शोषण और जमीन पर कब्जा करने जैसे गंभीर आरोप लगाए थे। इस समूचे मामले के संदर्भ में पिछले कुछ समय के दौरान राज्यपाल, राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग और तथ्यान्वेषण दल ने भी तनावग्रस्त इलाके का दौरा किया था। मगर राज्य की पुलिस को समय पर उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करना जरूरी नहीं लगा। क्या ऐसा इसलिए था कि शाहजहां शेख तृणमूल कांग्रेस का एक कद्दावर नेता है और राज्य में इस पार्टी की सरकार है?

Advertisement

अब उसकी गिरफ्तारी के बाद निलंबित करने के संदर्भ में तृणमूल की ओर से कहा जा रहा है कि पार्टी जो कहती है, वह करती है। हालांकि इस मामले में जिस स्तर तक शिथिलता बरती गई, उससे यही लगता है कि जब मामले पर पर्दा डालना संभव नहीं रहा, तब तृणमूल कांग्रेस एक तरह से अपना चेहरा बचाने की कोशिश कर रही है।

अब तक जितने भी ब्योरे सामने आ सके हैं, उससे साफ है कि शाहजहां शेख ने किस-किस स्तर पर जाकर कानून को धता बताया था। जो तृणमूल कांग्रेस दूसरी पार्टियों पर भ्रष्टाचार, अराजकता या अन्य मामलों में अंगुली उठाती रहती है, राज्य में सरकार होने और शाहजहां शेख पर लगे ठोस आरोपों के बावजूद उसकी गिरफ्तारी को लेकर टालमटोल ही करती रही।

यों पश्चिम बंगाल में इस तरह की प्रवृत्ति और रवैया कोई चौंकाने वात नहीं है। विडंबना यह है कि गंभीर अपराधों में नेताओं के लिप्त होने की अनदेखी तब तक की जाती है, जब तक मामला व्यापक पैमाने पर तूल न पकड़ ले या अदालतों की ओर से आरोपी की गिरफ्तारी के लिए दखल न दिया जाए।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो