scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Jansatta Editorial: दिल्‍ली के कालकाजी मंदिर परिसर में जागरण के दौरान हादसा के लिए पुलिस और आयोजक जिम्‍मेदार

धार्मिक या अन्य वजहों से कराए जाने वाले कार्यक्रमों के दौरान उत्साह में आकर हादसों के जोखिम के पहलू को नजरअंदाज किया जाता है और उसका खमियाजा कुछ लोगों को भुगतना पड़ता है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: January 30, 2024 09:08 IST
jansatta editorial  दिल्‍ली के कालकाजी मंदिर परिसर में जागरण के दौरान हादसा के लिए पुलिस और आयोजक जिम्‍मेदार
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर। फोटो- (इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

दिल्ली में एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान मंच टूटने से एक महिला की मौत और सत्रह लोगों के घायल होने की घटना हर स्तर पर बरती गई लापरवाही का नतीजा है, जिसकी वजह से खुशी मनाने का एक मौका मातम की वजह बन गया। गौरतलब है कि कालकाजी मंदिर परिसर में जागरण का आयोजन किया गया था, जिसमें एक जाने-माने गायक को भजन गाने के लिए बुलाया गया था।

डेढ़ हजार से ज्यादा लोग पूरे उत्साह के साथ उसमें शामिल थे। किसी सामूहिक और सार्वजनिक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए लोगों का उत्साहित हो जाना एक हद तक स्वाभाविक होता है और आयोजकों को यह ध्यान रखने की जरूरत होती है कि वहां की गतिविधियां लोगों के लिए खतरे का कारण न बनें। मगर संबंधित कार्यक्रम में हालत यह थी कि वहां मौजूद कई लोगों ने मंच पर जाने की कोशिश की और इस बीच भगदड़ की स्थिति बन गई। जबकि पहले से जितने लोग वहां थे, उनके बोझ से मंच के हिलने लगा था और खतरे की आशंका पैदा हो गई थी, जो चंद पलों में ही सच साबित हो गई। लोगों के धक्के से कीर्तन वाला मंच भरभरा कर गिर गया और फिर भगदड़ मच गई।

Advertisement

सवाल है कि पहले से ही जो खतरा सामने दिख रहा था, उसे समझना कार्यक्रम के आयोजकों को जरूरी क्यों नहीं लगा! सच यह है कि सिर्फ इस एक पहलू पर गौर करके इस हादसे से बचा जा सकता था। मगर लापरवाही का आलम बहुस्तरीय था और उसमें हर तरह से गड़बड़ियों की अनदेखी की गई। कार्यक्रम के दौरान कानून-व्यवस्था को कायम रखने के लिए पुलिस मौजूद थी, मगर खबर के मुताबिक, इस आयोजन के लिए पुलिस महकमे से कोई पूर्व-अनुमति नहीं ली गई थी।

बिना इजाजत किसी मशहूर गायक को बुला कर इतने बड़े स्तर पर आयोजित कार्यक्रम अगर होने दिया जा रहा था, तो उसके लिए किसकी जिम्मेदारी तय की जाएगी? जाहिर है, बिना अनुमति के कार्यक्रम के लिए जहां आयोजकों को कठघरे में खड़ा किया जाना चाहिए, वहीं खुद पुलिस से भी पूछने की जरूरत है कि इजाजत की औपचारिकता पूरी किए बिना कोई समूह या व्यक्ति इतनी बड़ी संख्या में लोगों को जमा कर कार्यक्रम कैसे संचालित कर रहा था। उन्हें रोकने या उनसे पूछने वाला कोई क्यों नहीं था?

Advertisement

अब आरोपियों के खिलाफ कानून के तहत मामले चलाए जाएंगे, लेकिन अगर कार्यक्रम से पहले उस आयोजन में आने वाले लोगों के सुरक्षित जमा होने से लेकर आयोजन संबंधी सभी व्यवस्थाओं का दुरुस्त होना सुनिश्चित किया जाता तो क्या अराजकता और उसके परिणामस्वरूप हादसे से बचा नहीं जा सकता था? विडंबना है कि जब-तब देश भर से धार्मिक आयोजनों में भगदड़ मचने या मंच टूटने की घटनाएं आती रहती हैं।

Advertisement

इसके बावजूद इनसे सबक लेने के बजाय आमतौर पर ज्यादा लोगों के जमा होने पर भी व्यवस्था संबंधी गड़बड़ियों को दूर करने या हर हाल में उससे बचने का सवाल हाशिये पर छोड़ दिया जाता है या उसकी अनदेखी की जाती है। जबकि किसी भी जगह पर क्षमता से ज्यादा लोगों के जमा होने के बाद भगदड़ या मंच टूटने की आशंका हर स्थिति में बनी रहती है। अफसोस की बात यह है कि धार्मिक या अन्य वजहों से कराए जाने वाले कार्यक्रमों के दौरान उत्साह में आकर हादसों के जोखिम के पहलू को नजरअंदाज किया जाता और उसका खमियाजा कुछ लोगों को भुगतना पड़ता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो