scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

संपादकीय: आधुनिक तकनीकी के फायदे और चुनौतियां, जीवन में सुविधाओं की घुसपैठ ने खड़ी कीं मुश्किलें

सोशल मीडिया के कई मंचों को अपने संपर्कों में विस्तार करने का जरिया माना जाता है। मगर बहुत सारे लोग इसका जैसा इस्तेमाल करने लगे हैं, उसमें न तो इसके उपयोग को लेकर जरूरी परिपक्वता दिखाई देती है, न ही सावधानी बरती जाती है।
Written by: जनसत्ता
नई दिल्ली | Updated: February 05, 2024 09:23 IST
संपादकीय  आधुनिक तकनीकी के फायदे और चुनौतियां  जीवन में सुविधाओं की घुसपैठ ने खड़ी कीं मुश्किलें
आभासी दुनिया से बनी दोस्ती में सोच-समझकर कदम उठाने चाहिए।
Advertisement

इसमें दो राय नहीं कि आधुनिक तकनीकों के फैलते दायरे के साथ सुविधाओं में तेजी से विस्तार हुआ है। बहुत सारे ऐसे काम बेहद आसान हो गए हैं, जिन्हें करने से पहले कई बार सोचना पड़ता था, काफी वक्त लगता था। मगर आम जीवन में इसकी जरूरत से ज्यादा घुसपैठ ने जिस स्तर पर लोगों को प्रभावित करना शुरू कर दिया है, उसमें कई लोगों के सामने खुद को संभालने की चुनौती खड़ी हो रही है। मसलन, सोशल मीडिया के कई मंचों को अपने संपर्कों में विस्तार करने का जरिया माना जाता है। मगर इस क्रम में बहुत सारे लोग इसका जैसा इस्तेमाल करने लगे हैं, उसमें न तो इसके उपयोग को लेकर जरूरी परिपक्वता दिखाई देती है, न ही सावधानी बरती जाती है।

वर्चुअल वर्ल्ड पर आंख मूंदकर भरोसा से बढ़े खतरे

नतीजतन, कई वैसे लोग बेहद मुश्किल में फंस जाते हैं, जो आभासी दुनिया के व्यवहारों को बिना किसी जांच-परख या संदेह के सच मान लेते हैं, अनजान लोगों पर आंख मूंद कर विश्वास कर लेते हैं। पिछले कुछ समय से कई ऐसी घटनाएं सामने आई हैं, जिनमें सोशल मीडिया के मंचों पर किसी लड़के और लड़की के बीच कथित तौर पर दोस्ती हुई और कुछ समय बाद लड़की के साथ छल और आपराधिक घटना हुई।

Advertisement

सोशल मीडिया के जाल में फंसकर धोखा खा रहे लोग

यह आभासी दुनिया की दोस्ती का ऐसा रूप है, जिसकी जटिलता की समझ नहीं रखने वाले लोग इसके संजाल में फंस और कई बार जघन्य अपराध तक के शिकार हो जाते हैं। दिल्ली में शुक्रवार को पुलिस ने दो ऐसे युवकों को गिरफ्तार किया, जिन्होंने सोशल मीडिया पर एक लड़की को दोस्ती का भरोसा दिया, मदनगीर इलाके में बुला कर धोखे से उसके खाने में कुछ मिला दिया, फिर बेहोश कर उससे बलात्कार किया।

ऐसी घटनाएं बेहद दुखद हैं, मगर ये बताती हैं कि सोशल मीडिया पर दोस्ती का दायरा कितना और कैसा हो, लोगों पर कितना भरोसा किया जाए, कैसी सावधानियां बरती जाएं और वास्तव में संबंधों की सीमा क्या हो। साइबर जगत में पैसों और अन्य स्तर पर हो रही ठगी और धोखे की घटनाओं के आगे अब अपराध का स्वरूप भी तेजी से विकृत हो रहा है और इस बारे में सभी लोगों को अपने स्तर पर जागरूक होने के साथ-साथ ज्यादा जरूरी यह है कि अपने घरों में बच्चों को सोशल मीडिया पर दोस्ती करने के मामले में सावधानी बरतने को लेकर प्रशिक्षित किया जाए।

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो