scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बेहिसाब पैसे का ब्योरा देने में डरता था कारोबारी, पता चलते ही खाकी वर्दी पहनकर रची साजिश और ले उड़े 7 लाख, जानें फिर कैसे चढ़े हत्थे

आरोपियों ने सुना था कि जब कारोबारी के बेहिसाब पैसे चोरी हो जाते हैं तो वे पुलिस अधिकारियों से संपर्क करने से बचते हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
Updated: May 23, 2023 14:21 IST
बेहिसाब पैसे का ब्योरा देने में डरता था कारोबारी  पता चलते ही खाकी वर्दी पहनकर रची साजिश और ले उड़े 7 लाख  जानें फिर कैसे चढ़े हत्थे
प्रतीकात्मक तस्वीर (जनसत्ता)
Advertisement

मुंबई का एक कारोबारी अपने बेहिसाब पैसे के बारे में बात करने से भी डरता था। दो शातिर बदमाशों को इस बात का पता चला तो उन्होंने उसकी इस कमजोरी का फायदा उठाया और कारोबारी के मुलाजिम से सात लाख रुपये लूट लिए लेकिन उन्होंने जैसा समझा था वैसा हुआ नहीं। कारोबारी ने पुलिस के पास शिकायत कर दी और फिर सीसीटीवी कैमरे बदमाशों तक पहुंचने का जरिया बन गए।

जी हां मुंबई में बिजनेस मैन के कर्मचारी को दो ठगों ने ठग लिया। उन्होंने पहले कर्मचारी को किडनैप कर लिया फिर उससे 7 लाख रुपये लूट लिए। फिलहाल दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले में पुलिस का कहना है कि पीड़ित नकदी लेकर जा रहा था। दोनों आरोपियों को पहले से इस बात की जानकारी थी। इसके बाद उन्होंने उसे लूटने की प्लानिंग की। उन दोनों ने कहीं सुना था कि जब कारोबारियों का बेहिसाब पैसा चोरी हो जाता है तो वे पुलिस अधिकारियों से संपर्क करने से बचते हैं। उन्हें यह पता था कि यह कारोबारी अपने बेहिसाब पैसे का ब्योरा देने में डरता है इसके बाद ही ने नकली पुलिस वाले बन गए औऱ लूट की घटना को अंजाम दिया।

Advertisement

दोनों आरोपियों ने खुद को बताया पुलिसकर्मी

पुलिस ने आरोपियों की पहचान कर ली है। पहला आरोपी चूनाभट्टी का रहने वाला है। उसका नाम राज भीमसेन कांबले है और वह 41 साल है। दूसरा आरोपी मानखुर्द का रहने वाला है। उसका नाम राहुल विलास पेडनेकर है और वह 40 साल का है। पुलिस के अनुसार, 18 मई की शाम करीब 5 बजे शिकायतकर्ता स्वप्निल पोटे अपने मालिक से नकदी लेकर बांद्रा में अपने एक क्लाइंट को देने जा रहा था। जब वह कालबादेवी पहुंचा तो बीएमसी कार्यालय के पास दो लोगों ने उसे रोक लिया। उन्होंने पोटे से कहा कि वे पुलिसकर्मी हैं। इसके बाद उन्होंने पोटे को टैक्सी में बैठने को कहा और उसे रेय रोड के पास ले गए।

पुलिस के अनुसार, दो नकली पुलिसकर्मियों ने पोटे से कहा कि वे जानते हैं कि वह बहुत सारा नकदी लेकर जा रहा है। उन्होंने कहा कि वे इस पैसे को जब्त कर रहे हैं और दक्षिण मुंबई में कमिश्नर ऑफिस ले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके पास संबंधित दस्तावेज देखने और पैसा वसूलने का आदेश है। इसके बाद उन्होंने पोटे को रेय रोड रेलवे स्टेशन के बाहर छोड़ दिया और फरार हो गए।

Advertisement

व्यवसायी ने कहा कि पोटे के पास जरूरी कागजात थे मगर वह डर गया था। इसी कारण उसने नकली पलिसकर्मियों के खिलाफ कोई आपत्ति नहीं की। पोटे ने जब अपने दोस्तों को घटना के बारे में बताया तब वे थाने पहुंचे और मामले की शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद सीसीटीवी फुटेज की मदद से दोनों आरोपियों को मुंबई के पूर्वी उपनगर से गिरफ्तार किया। पुलिस अधिकारी का कहना है कि दोनों ने यह योजना इसलिए बनाई क्योंकि कांबले पर दो लाख रुपये का कर्ज था। उन्होंने यह भी सुना था कि बेहिसाब नकदी चोरी होने के बाद भी व्यवसायी पुलिस के पास नहीं जाते हैं। हालांकि व्यवसायी ने शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो