scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मां के शव के साथ तीन दिन तक रहा बेटा, दरवाजे पर डंडा लेकर करता रहा पहरेदारी, बार-बार कहता रहा- वह जिंदा है...

त्रिपुरा में मां की मौत के बाद बेटा शव के साथ तीन दिन तक रहा। उसके लिए उसकी मां जिंदा थी। वह बार-बार यही कह रहा था कि वह जिंदा है। पहरा देने के लिए वह एक डंडा लेकर दरवाजे पर बैठ गया था औऱ किसी को भी घर के भीतर नहीं जाने दे रहा था।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
Updated: October 02, 2023 19:38 IST
मां के शव के साथ तीन दिन तक रहा बेटा  दरवाजे पर डंडा लेकर करता रहा पहरेदारी  बार बार कहता रहा  वह जिंदा है
सांकेतिक फोटो (jansatta)
Advertisement

त्रिपुरा से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक महिला की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई। वह मानसिक रूप से विक्षिप्त बेटे के साथ रहती थी। वहीं मां की मौत के बाद बेटा शव के साथ तीन दिन तक रहा। उसके लिए उसकी मां जिंदा थी। वह बार-बार यही कह रहा था कि वह जिंदा है। पहरा देने के लिए वह एक डंडा लेकर दरवाजे पर बैठ गया था औऱ किसी को भी घर के भीतर नहीं जाने दे रहा था। मामला दक्षिण त्रिपुरा जिले के रबींद्रपल्ली इलाके का है।

सूचना मिलने के बाद पुलिस ने कथित तौर पर मौत के तीन दिन बाद रविवार देर रात 85 साल की महिला का क्षत-विक्षत शव बरामद किया। पता चला है कि उसके मानसिक रूप से विक्षिप्त बेटे ने यह दावा करते हुए खुद को और शव को एक कमरे में बंद कर रखा था कि उसकी मां की मौत नहीं हुई है।

Advertisement

तीन दिन पहले हुई महिला की मौत

सहायक महानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) ज्योतिषमान दास चौधरी ने इस मामले में कहा कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया था। प्रारंभिक जांच से पता चला कि महिला नीटू बाला साहा की मौत कम से कम तीन दिन पहले हुई थी। जानकारी के अनुसार, बेलोनिया पुलिस स्टेशन में महिला की अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज किया गया था। अधिकारी ने आगे कहा कि जब घर से बदबू आने लगी तो महिला के रिश्तेदारों ने पुलिस को बुलाया। जिस कमरे में वह रह रही थी वहां से तेज दुर्गंध आ रही थी। वह अपने बेटे के साथ रह रहती थी।

जानकारी के अनुसार, अनाथ साहा (49) ने अपनी मां की मौत की खबर छिपाई थी। वह मानसिक रूप से विक्षिप्त है। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि महिला की मौत कब और कैसे हुई। फोरेंसिक रिपोर्ट से यह साफ हो जाएगा। हालांकि रिश्तेदारों का मानना ​​है कि महिला की मौत कुछ दिन पहले ही हुई होगी।

मामले में 55 साल के बैद्यनाथ साहा ने कहा "मेरा छोटा भाई मानसिक रूप से विक्षिप्त है। मां उनके साथ ही रहती थीं। उसने दरवाज़ा बंद कर दिया था और दरवाजे पर एक छड़ी लेकर खड़ा था। वह किसी को भी अंदर नहीं जाने दे रहा था। हमें शव को बाहर निकालने के लिए खिड़कियां तोड़नी पड़ीं। पुलिस बुलानी पड़ी।" दरअसल, पड़ोसियों ने फोन कर बैद्यनाथ साहा को घर से बदबू आने की जानकारी दी थी। पड़ोसियों के अनुसार, घर में मक्खियां भनभना रही थीं और तेज बदबू आ रही थी। फिलहाल आगे की जांच की जा रही है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो