scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

नवजातों की तस्करी का भंडाफोड़: पुलिस ने 8 लोगों को पकड़ा, ऐसे चल रहा था बच्चों को बेचने का गंदा खेल

दिल्ली में नवजात की तस्करी का मामला सामने आया है यहां बच्चों को खरीदने और बेचने का खेल चल रहा था।
Written by: ईएनएस | Edited By: Jyoti Gupta
नई दिल्ली | Updated: February 28, 2024 11:59 IST
नवजातों की तस्करी का भंडाफोड़  पुलिस ने 8 लोगों को पकड़ा  ऐसे चल रहा था बच्चों को बेचने का गंदा खेल
नवजात की तस्करी। (express) (सोर्स - एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

दिल्ली में नवजात बच्चों की तस्करी का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। यहां बच्चों को 50 हजार से 15 से 20 लाख में खरीदने और बेचने का गोरख धंधा चल रहा था। पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए दिल्ली और पंजाब से 8 लोगों को पकड़ा है। ये सभी आरोपी नवजात बच्चों को खरीदने और बेचने में शामिल थे। ये सभी मानव तस्करी रैकेट चला रहे थे। आरोपियों में 5 महिलाएं भी शामिल हैं।

5 महिला सहित 8 आरोपी गिरफ्तार

मामले में अधिकारियों ने कहा कि कई राज्यों में नवजात बच्चों को खरीदने और बेचने में शामिल मानव तस्करी रैकेट चलाने के आरोप में पांच महिलाओं सहित आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इतना ही नहीं पुलिस ने एक ऐसे बच्चे को बचाया जिसकी लगभग 10 से 15 दिन पहले बेच दिया गया।

Advertisement

पुलिस ने आरोपियों की पहचान पीयूष अग्रवाल, राजिंदर, रमन के रूप में की। पुलिस ने आगे बताया कि महिलाओं में दो दिल्ली और तीन पंजाब की थीं। वहीं डीसीपी (रोहिणी) गुरइकबाल सिंह सिद्धू ने कहा कि 20 फरवरी को इलाके में बच्चों की खरीद-फरोख्त के संबंध में बेगमपुर पुलिस स्टेशन में एक पीसीआर कॉल की गई थी। अधिकारी ने आगे कहा, "एक पुलिस टीम तुरंत दिए गए पते पर पहुंची और तथ्यों की जांच की… हमें पता चला कि घर में एक नवजात बच्ची के साथ दो महिलाएं थीं।"

पूछताछ के दौरान वे बच्चे के माता-पिता के बारे में सही जवाब नहीं दे सके। पूछतान में उन्होंने खुलासा किया कि वे एक अंतरराज्यीय मानव तस्करी गिरोह चलाते हैं जो उत्तरी भारत के कई राज्यों में नवजात शिशुओं की खरीद और बिक्री करता है। डीसीपी ने आगे कहा कि उस बच्ची को पंजाब के मुक्तसर से 50,000 रुपये में खरीदा गया था।''

बच्ची को बेचने के लिए सही खरीदार का इंतजार कर रही थीं महिलाएं

अधिकारी ने आगे बताया कि महिलाएं सही खरीदार का इंतजार कर रही थीं। फिलहाल आपराधिक साजिश से संबंधित आईपीसी की धारा और किशोर न्याय अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। डीसीपी के मुताबिक, "पूछताछ के दौरान महिलाओं ने अपने गिरोह के अन्य सदस्यों के नामों का भी खुलासा किया।" पंजाब में कई छापे मारे गए और तीन महिलाओं सहित छह अन्य को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि दिल्ली में गिरफ्तार की गई एक महिला पहले से ही दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत मानव तस्करी के मामले में शामिल थी।

Advertisement

इस घटना पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बच्चों को एक सुविधाकर्ता के जरिए बच्ची को 10 से 15 लाख रुपए में एक ग्राहक को बेचना था। अभी वह फरार है। अधिकारी ने आगे कहा, "आरोपियों 10 फरवरी को एक और बच्चा बेचा था। हम बच्चे के ठिकाने का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं और यह भी पता लगा रहे हैं कि विक्रेता कौन था। उन्होंने बताया कि ग्राहक ज्यादातर दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं।" फिलहाल मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो