scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

चिता पर मां का शव रखकर घंटों संपत्ति के लिए लड़ती रहीं बेटियां, जानिए फिर पुलिस ने क्या किया?

Mathura News: यूपी के मथुरा से अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां मसानी स्थित शमशान घाट पर तीन बेटियों ने संपत्ति के विवाद में मां का अंतिम संस्कार नहीं होने दिया।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
Updated: January 16, 2024 17:22 IST
चिता पर मां का शव रखकर घंटों संपत्ति के लिए लड़ती रहीं बेटियां  जानिए फिर पुलिस ने क्या किया
बेटियों ने जमीन के लिए मां का नहीं करने दिया अंतिम संस्कार। (@NCMIndiaa)
Advertisement

यूपी के मथुरा से अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां शहर के मसानी स्थित शमशान घाट पर तीन बेटियों ने संपत्ति के विवाद में मां का अंतिम संस्कार नहीं होने दिया। तीनों बंटवारे को लेकर आपस में लड़ रही थीं। इस कारण लगभग 9 घंटे तक मां का शव वैसे ही चिता पर पड़ा रहा। खबर के बारे में जानकर आसपास के लोग हैरान रह गए। तीनों बेटियों ने जमीन के लिए शमशान पर ही जमकर बवाल किया।

जमीन के लिए आपस में लड़ने लगीं बेटियां

दरअसल, 80 साल की महिला का निधन हो गया। इसके बाद अंतिम संस्कार के लिए उन्हें शनशान घाट पर ले जाया गया। अंतिम संस्कार होने ही वाला था कि महिला की तीनों बेटियों के बीच जमीन को लेकर विवाद शुरू हो गया। वे मां का अंतिम संस्कार करने की जगह आपस में जमीन का बंटवारा करने लगीं। तीनों बेटियों को लड़ते देख वहां मौजूद लोग हैरान रह गए।

Advertisement

महिला की हैं तीन बेटियां

रिपोर्ट के अनुसार, महिला का कोई बेटा नहीं है। उसकी तीन बेटियां हैं। महिला अपनी एक बेटी के पास ही रहती थी। रिपोर्ट के अनुसार, मां ने अपना डेढ़ बिगघा जमीन बेच दिया था। दोनों बहनों ने तीसरी बहन पर मां को फुसलाकर जमीन बेचने का आरोप लगाया। रिपोर्ट के अनुसार, सारा पैसा अपनी बेटी को दे दिया था। जब महिला का निधन हो गया तो बेटी मिथिलेश के परिजन शव को मोक्ष धाम ले गए। मां के मौत की खबर सुनने के बाद बाकी दो बेटियां भी शमशान घाट पहुंची। इसके बाद वहां जमीन को लेकर विवाद शुरू हो गया, जो कई घंटों तक चला। तीनों बहनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि उसे सुलझाने के लिए पुलिस बुलानी पड़ी।

पुलिस ने कराया समझौता

मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों बहनों के बीच लिखित समझौता कराया। जिसके अनुसार, बाकी बची जमीन को दो बहनों के बीच बांटा गया। इसके बाद ही महिला का अंतिम संस्कार किया गया। इस तरह महिला का अंतिम संस्कार करने में लगभग 9 घंटे का टाइम लग गया।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो