scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'I am sorry मम्मी-पापा मैं लूजर हूं, JEE नहीं कर सकती…', कोटा में छात्रा ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में बयां किया दर्द

Kota Student Suicide: 'मम्मी-पापा मुझे माफ करना। मैं लूजर हूं, मैं अच्छी बेटी नहीं बन पाई। मैं JEE नहीं कर सकती। इसलिए मैं सुसाइड कर रही हूं। यही आखिरी विकल्प है।'
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
जयपुर | Updated: January 29, 2024 15:53 IST
 i am sorry मम्मी पापा मैं लूजर हूं  jee नहीं कर सकती…   कोटा में छात्रा ने की खुदकुशी  सुसाइड नोट में बयां किया दर्द
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।(फोटो-इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

राजस्थान के कोटा में IIT JE की परीक्षा से दो दिन पहले एक छात्रा ने खुदकुशी कर ली। वह आईआईटी जेई की तैयारी कर रही थी। दो दिन बाद ही उसका JEE Mains की परीक्षा थी। छात्रॅा के कमरे से पुलिस को एक सुसाइड नोट मिला है। सुसाइड नोट में उसने अपना दर्द बयां किया है। उसने नोट में लिखा है कि वह परीक्षा के दबाव में है। उसने सुसाइड नोट में लिखा है, 'मम्मी-पापा मैं JEE नहीं कर सकती। इसलिए आत्महत्या कर रही हूं। मैं लूजर हूं। मैं बुरी बेटी हूं। सॉरी मम्मी-पापा यही आखिरी ऑप्शन है।"

Advertisement

रिपोर्ट के अनुसार, 18 साल की छात्रा कोटा में JEE की तैयारी कर रही थी। उसने अपने कमरे में भी फांसी लगाकर जान दे दी। छात्रा को 31 जनवरी को ही पेपर था। रिपोर्ट के अनुसार, कोचिंग खत्म होने के बाद से ही वह अपने घर पर ही परीक्षा की तैयारी कर रही थी।

Advertisement

कुछ दिनों पहले छात्र ने किया था सुसाइड

अभी कुछ दिनों पहले ही नीट की तैयारी कर रहे एक छात्र मोहम्मद जैदी ने सुसाइड कर लिया था। वह हॉस्टल में रहकर प्राइवेट कोचिंग से इंजीनियरिंग की तैयारी कर रहा था। उसका सपना JEE पास करने का था। वह इंजीनियर बनना चाहता था। इसी बीच पुलिस कंट्रोल रूम को रात 11 बजे सूचना दी गई कि जवाहर नगर थाना क्षेत्र में एक हॉस्टल में रहने वाले छात्र ने सुसाइड कर लिया।

असल में कोटा कोचिंग हब माना जाता है। यहां छात्र भविष्य के सुनहरे सपने लेकर आते हैं। पिछले साल भी कई यहां 29 छात्रों ने सुसाइड कर लिया था। हालांकि इस साल की यह पहली घटना है। इस साल और पिछले साल मिलाकर कुल 30 छात्रों ने सुसाइड कर लिया है।

Advertisement

गौरतलब है कि आईआईटी-जेईई की मुख्य परीक्षा पास करने के बाजवूद 28 अप्रैल को कृति नामक छात्रा ने आत्महत्या कर ली। इसके बाद जिला प्रशासन का यह कदम सामने आया है। 2015 में यहां कम से कम 19 छात्रों ने मौत को गले लगा लिया था, जबकि 2016 में पांच छात्रों ने खुदुकुशी की।

Advertisement

नोट: आत्महत्या किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। अगर आपके या किसी परिचित के मन में खुदकुशी का ख्याल आता है तो यह बेहद गंभीर मेडिकल इमरजेंसी है। ऐसी स्थिति में आप भारत सरकार की जीवनसाथी हेल्पलाइन 18002333330 पर संपर्क करें। इसके अलावा आप टेलिमानस हेल्पलाइन नंबर 1800914416 पर भी कॉल कर सकते हैं। यहां आपकी पहचान और हर जानकारी गोपनीय रखी जाती है। विशेषज्ञों की देखरेख में आपको उचित समाधान दिया जाता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो