scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

13 साल का बच्चा आत्महत्या करने का कर रहा था नाटक, मां के सामने सच में चली गई जान, भाई-बहनों को लगा वह मजाक कर रहा है

कानपुर के जालौन में एक 13 साल के बच्चे की खेल-खेल में जान चली गई। दरअसल, वह आत्महत्या करने का नाटक कर रहा था। अचानक वह स्टूल पर से फिसल गया और देखते ही देखते उसकी मौत हो गई।
Written by: jyotigupta | Edited By: Jyoti Gupta
September 19, 2023 13:08 IST
13 साल का बच्चा आत्महत्या करने का कर रहा था नाटक  मां के सामने सच में चली गई जान  भाई बहनों को लगा वह मजाक कर रहा है
प्रतीकात्मक तस्वीर (jansatta)
Advertisement

यूपी के कानपुर से एक दर्दनाक घटना सामने आई है। यहां जालौन में एक 13 साल के बच्चे की खेल-खेल में जान चली गई। एक शरारत ने उसकी जान ले ली। दरअसल, वह आत्महत्या करने का नाटक कर रहा था। उसे यह सब मजाक लग रहा था। अचानक वह स्टूल पर से फिसल गया और देखते ही देखते उसकी जान चली गई। जब वह फंदे पर झूल रहा था तो उसके तीनों छोटे-भाई बहनों को लगा कि वह अभी भी मजाक ही कर रहा है। तभी उन्होंने देखा कि उसके मुंह और नाक से खून निकलने लगा। इसके बाद वे शोर मचाने लगा। शोर सुनकर मां की नींद खुली। उसने अपने बेटे को बचाने की बहुत कोशिश की मगर उसकी जान चली गई। दरअसल, मृतक बच्चे की मां देख नहीं सकती है। वह जन्म से देख नहीं पाती हैं। इस तरह उसके सामने बेटे की जान चली गई। अब वह खुद को कोस रही है कि अगर वह देख सकती तो अपने बेटे को बचा लेती। वह रस्सी काटने के लिए चाकू खोजती रही मगर उसे नहीं मिला। इसके बाद वह मदद के लिए पड़ोसियों के पास भागी मगर तब तक बहुत देर हो चुकी थी। घटना उरई के कांशीराम कॉलोनी में हुआ।

Advertisement

खुद को कोस रही मां

दरअसल, 50 साल की संगीता रविवार को उरई शहर में अपने घर पर बेटे जस की मौत के बाद अपने भाग्य को कोस रही थी। वह शुरू से ही देख नहीं सकती हैं। उन्होंने कहा, "अगर भगवान ने मेरी दृष्टि नहीं छीनी होती तो मैं अपने बच्चे को बचा लेती। वह मेरे सामने मर गया और मैं कुछ नहीं कर सकी।" यह हादसा तब हुआ जब पांचवीं कक्षा का छात्र जस अपने घर पर भाई-बहन यश (9), महक (7) और आस्था (5) के साथ खेल रहा था।

Advertisement

जस के मुंह और नाक से निकलने लगा खून

संगीता दूसरे कमरे में सो रही थी, जबकि उसका पति खेम चंद्र (54) स्थानीय अनाज मंडी में काम पर गया हुआ था। बच्चों के खेल में निर्णायक मोड़ तब आया जब जस ने नकली आत्महत्या का प्रयास किया और जिस स्टूल पर वह खड़ा था वह फिसलकर दूर जा गिरा। पुलिस ने कहा कि मृतक बच्चे के छोटे भाई-बहन यश, महक और आस्था ने कुछ देर तक सोचा कि जस अभी भी नाटक कर रहा है। इसके बाद भाई-बहनों ने देखा कि जस के मुंह और नाक से खून निकल रहा है। उसका शरीर खिड़की की पट्टी से बंधी रस्सी से लटका हुआ था।

मां चाहकर भी बच्चे को नहीं बचा पाई

बच्चों ने शोर मचाया। वे चिल्लाने लगे, जिससे संगीता की नींद खुल गई। वह उसे बचाने के लिए दौड़ी लेकिन देख नहीं पाने के कारण वह बेटे को बचा नहीं पाई। उसने जस के फंदे को काटने के लिए चाकू या दरांती की बहुत तलाश की लेकिन उसे कुछ नहीं मिला। जब तक संगीता अपने पड़ोसियों को सचेत कर पाती, तब तक बहुत देर हो चुकी थी। पड़ोसी कुछ मिनट बाद पहुंचे और गांठ खोलकर जस को नजदीकी अस्पताल ले गए। वहां पहुंचने पर डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया।

बड़े बेटे की जिम्मेदारी निभाता था जस

मृतक बच्चे के पिता खेम चंद्र भी घटना के बारे में जानकर स्तब्ध रह गए। उन्होंने कहा, ''जस अक्सर अपने भाई-बहनों के साथ खेलता था लेकिन मुझे नहीं पता था कि इस बार वह इतना घातक खेल खेलेगा।'' स्थानीय उरई पुलिस चौकी के प्रभारी मोहम्मद आरिफ के अनुसार, जिन्होंने परिवार के पड़ोसियों और अन्य लोगों से बात की। जस सबसे बड़े बच्चे के रूप में घर के कामों में मां की मदद करता था। अधिकारी ने कहा, "जब खेम चंद्र काम पर जाता था तो जस स्कूल से आने के बाद घर का ज्यादातर काम करता था क्योंकि उसकी मां देख नहीं पाती थी।" परिजन शुरू में पोस्टमार्टम की अनुमति देने के लिए अनिच्छुक थे लेकिन समझाने के बाद सहमत हो गए। फिलहाल मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो