scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पहले बना हिंदू से मुसलमान, फिर बनाया सीरिया जाने का प्लान! बाप को पीटने की धमकी भी दी

मध्य प्रदेश ATS द्वारा 9 मई को 16 लोगों को गिरफ्तार किया था। इन लोगों को भोपाल छिंदवाड़ा और हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया था। ये सभी लोग 19 मई तक ATS की रिमांड में हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
Updated: May 17, 2023 12:05 IST
पहले बना हिंदू से मुसलमान  फिर बनाया सीरिया जाने का प्लान  बाप को पीटने की धमकी भी दी
MP ATS ने किया बड़ा खुलासा (PTI Image)
Advertisement

Religious Conversion: बीती 9 मई को मध्य प्रदेश ATS द्वारा कट्टर इस्लामिक संगठन हिज़्ब-उत-तहरीर के पहले भारतीय मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था। अब सूत्रों ने जानकारी दी है कि ATS को जांच में धर्म परिवर्तन से जुड़े एंगल का पता चला है। अंग्रेजी वेबसाइट एनडीटीवी पर छपी खबर के अनुसार, इससे जुड़े पांच संदिग्धों ने हिंदू लड़कियों से शादी की। इन पांच में से दो युवक ऐसे हैं,जो कुछ ही दिन पहले हिंदू से मुसलमान बने हैं।

ATS सूत्रों ने बताया कि जिस मॉडयूल का भंडाफोड़ किया गया है, उससे जुड़े दो आरोपी कुछ समय पहले हिंदू थे। इनमें एक भोपाल बेस्ड जिम ट्रेनर यासिर खान है जबकि दूसरा हैदराबाद बेस्ड मोहम्मद सलीम है। मोहम्मद सलीम कुछ समय पहले तक सौरभ राजवैध के नाम से पहचाना जाता था। वह भोपाल में रहने वाले रिटायर्ड आयुर्वेदिक डॉक्टर अशोक जैन का बेटा है।

Advertisement

मोहम्मद सलीम उर्फ सौरभ राजवैध इस समय हैदराबाद के एक फॉर्मा कॉलेज में बतौर फैकल्टी पढ़ा रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि यह कॉलेज एक नेता के परिवार द्वारा चलाया जाता है। ATS सूत्रों ने बताया कि हिंदू से मुसलमान बनने वाले पांच आरोपियों में मोहम्मद सलीम के अलावा अब्दुर रहमान (देवी नारायण पांडा) और मोहम्मद अब्बास अली (बेनू कुमार) शामिल हैं।

मोहम्मद सलीम के पेरैंट्स ने आरोप लगाया कि जब वो भोपाल के एक प्राइवेट कॉलेज में पढ़ाता था, तब उसके एक सीनियर साथी डॉक्टर कमाल ने उसका ब्रेन वाश किया और उसे सलीम बना दिया। यह साल 2000 के शुरुआत की बात है। सौरभ (सलीम) के पिता ने कहा कि वह हमारे पांच बच्चों में इकलौता बेटा है। डॉक्टर कलाम ने उसका ब्रेन वॉश किया और उसका धर्म परिवर्तन किया। इसके अलावा जाकिर नाईक की वीडियो ने भी हमारे बेटे के मुसलमान बनाने में बड़ा रोल निभाया।

Advertisement

उन्होंने आगे कहा कि हम किसी भी तरह से इस्लाम के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन पहले अपने धर्म और संस्कृति पर गर्व करते हैं और इस्लाम के उस रूप के पूरी तरह से खिलाफ हैं जो हमारे देश के खिलाफ लोगों का ब्रेनवॉश करता है। साल 2010 से ही वो हमारे धर्म और कल्चर के खिलाफ बातें करने लगा था। वह नबी के खिलाफ कुछ भी सुनने के लिए राजी नहीं होता था।

Advertisement

सौरभ के पिता ने आगे कहा कि नबी के मत का विरोध करने पर एक बार तो उसने मुझ पर हमला करने की भी धमकी दी थी। उन्होंने आगे कहा कि संभवत: 2011 या 2012 में बाराबंकी के एक इस्लामिक उपदेशक ने मेरे बेटे और बहू को भोपाल में एक कार्यक्रम में इस्लामी कलमा पढ़वाया और उन्हें मुसलमान बना दिया।

उन्होंने कहा कि उनका बेटा संभवतः 2010-11 में सीरिया जाने की योजना बना रहा था। उन्होंने बताया कि सौरभ ने रक्षा बंधन पर अपनी बहनों की राखी तक बांधना बंद कर दिया था। जब वह अन्य धार्मिक सिद्धांतों का पालन करता रहा और हमारे धर्म और विश्वासों का अपमान करता रहा तो हमारे पास उसे अपना घर छोड़ने के लिए कहने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।

घर छोड़ने के बाद एम. फॉर्मा डिग्री होल्डर सौरभ सलीम बन गया और अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ पहले कुछ साल भोपाल में रहा और फिर बाद में हैदराबाद के एक कॉलेज में 2019-20 से नौकरी करने लगा।

मध्य प्रदेश के होम मिनिस्टर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश पुलिस जिहादी कॉकरोचों के लिए एक पेस्टिसाइड है। जांच में सात लोगों के धर्म परिवर्तन का खुलासा हुआ है। और जिन लोगों ने इस्लाम कबूल करने के लिए इन लोगों का ब्रेनवॉश किया, उनमें एक जिम ट्रेनर, एक प्रोफेसर, एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर, एक सॉफ्टवेयर तकनीशियन और एक निजी कोचिंग संचालक शामिल हैं। इन्होंने सबसे पहले युवाओं का धर्म बदलने के लिए ब्रेनवॉश किया। धर्म बदलने के बाद दूसरे धर्म अपनाने वाले युवकों ने अपनी पत्नियों को भी धर्म अपनाने के लिए राजी कर लिया। हम मध्य प्रदेश में इस तरह का विकास नहीं होने देंगे

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश में केरल स्टोरी नहीं होने दी जाएगी। आपको बता दें कि HuT चीन, जर्मनी, रूस, बांग्लादेश और तुर्की सहित 16 देशों में बैन है। यह एक कट्टरपंथी इस्लामिक समूह है। इस संगठन का उद्देश्य मुसलमानों को एकजुट करने और विश्व स्तर पर शरीयत को लागू करने के लिए इस्लामिक खिलाफत की फिर से स्थापना करना है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो