scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भागलपुर: थाने के नजदीक एसटीएफ ने पकड़ी मिनी गन फैक्ट्री, दो तस्कर 20 अर्द्धनिर्मित पिस्तौल संग दबोचे

एसपी सिटी स्वर्ण प्रभात ने बताया कि गिरफ्तार दोनों हथियार तस्करों से गहन पूछताछ में पता चला कि फैजल अंसारी को हथियार खरीदने के एवज में बतौर एडवांस 50 हजार रुपए दिए गये थे।
Written by: गिरधारी लाल जोशी
Updated: December 24, 2022 05:46 IST
भागलपुर  थाने के नजदीक एसटीएफ ने पकड़ी मिनी गन फैक्ट्री  दो तस्कर 20 अर्द्धनिर्मित पिस्तौल संग दबोचे
नाथनगर थाना में सिटी एसपी सुवर्ण प्रभात बरामद अर्द्धनिर्मित हथियारों और दबोचे गए दो तस्करों के साथ।
Advertisement

भागलपुर के नाथनगर थाना क्षेत्र के चंपानगर स्थित हकीम साह मोहम्मद लेन में एसटीएफ की टीम ने एक मकान पर छापामार कर मिनी गन फैक्ट्री का खुलासा किया है। सिटी एसपी सुवर्ण प्रभात के मुताबिक छापेमारी में बीस अर्द्धनिर्मित पिस्तौल बरामद हुई है। साथ ही हथियार बनाने की मशीन, पुर्जे और सामान मिले है। दो हथियार तस्कर भी दबोचे गए है। छापेमारी में थाना नाथनगर की पुलिस का सहयोग लिया गया है।

दिलचस्प बात कि यह इलाका थाना नाथनगर से सटा है। और घनी आबादी वाला है। यहां से अवैध हथियारों का धंधा सालों से चल रहा है। मगर अधिकारियों को इस बात की जरा भी भनक नहीं लगी। एसटीएफ की टीम को इस बात की गुप्त सूचना मिली थी। तभी शुक्रवार सुबह ही नाथनगर इलाके में पहुंची और नाथनगर स्टेशन के बगल सुखराज राय हाई स्कूल के पास से दो हथियार तस्करों को 20 पीस अर्द्धनिर्मित हथियार की खेप के साथ पकड़ लिया। एसटीएफ ने मौके से ही एक पल्सर बाइक भी जब्त की है। दोनों हथियार तस्कर को पकड़ कर नाथनगर थाने लाने के बाद सघन पूछताछ की गई।

Advertisement

पुलिस ने गिरफ्तार हथियार तस्करों की पहचान मुंगेर जिला के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत वासुदेवपुर के जगबहिरा निवासी स्व. देवी शर्मा के पुत्र गुड्डु शर्मा और पुलिस जिला नवगछिया के रंगरा चौक ओपी क्षेत्र अंतर्गत तिनटंगा दियारा के ज्ञान दास टोला निवासी कारे लाल मंडल के पुत्र संजय कुमार के तौर पर की है। दोनों ने पूछताछ के क्रम में पुलिस को बताया कि चंपानगर हकीम साह मोहम्मद लेन स्थित किराए के मकान में रह रहा मो. असलम अंसारी का बेटा मो. फैजल अंसारी वहां से ही मिनी गन फैक्ट्री चला रहा है। यह मकान मो. मन्नान का है।  इस मकान के ही पहली व दूसरी मंजिल पर अवैध हथियार बनाने का काम चल रहा था। फैजल करीब दो साल से यहां रह रहा था। और हथियारों की सप्लाई करता था।

पता चला कि एसटीएफ की टीम बिना नाथनगर पुलिस को साथ लिए ही फैजल के मकान पहुंची थी। मगर मकान  का दरवाजा  खटखटाने के बाद भी किसी ने नहीं खोला। तब एसटीएफ के अधिकारियों ने नाथनगर पुलिस का सहयोग लिया। जाहिर है कि एसटीएफ नाथनगर पुलिस को शक की निगाह से देख रही है। इधर मौके का फायदा उठा कर फैजल फरार हो गया। बताया जा रहा है कि चंपानगर इलाके में ही फैजल का ननिहाल भी है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। इसकी गिरफ्तारी के बाद और सुराग मिलने की उम्मीद पुलिस जता रही है।

एसपी सिटी स्वर्ण प्रभात ने नाथनगर थाने में प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि गिरफ्तार दोनों हथियार तस्करों से गहन पूछताछ की गई। उन दोनों ने बताया कि फैजल अंसारी को हथियार खरीदने के एवज में बतौर एडवांस 50 हजार रुपए दिए थे। फैजल ने एक अर्धनिर्मित पिस्तौल की कीमत साढ़े नौ हजार रुपए बताई थी। दोनों तस्कर मुंगेर से ही नाथनगर आया था और हथियार लेने के बाद वापस ट्रेन पकड़ कर मुंगेर जाने की फिराक में था। इसी दौरान एसटीएफ ने स्टेशन के पास से दोनों को दबोच लिया है। तहकीकात जारी है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो