scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

अंकित सक्सेना के हत्यारों का 31 जनवरी को होगा खुलासा, जानिए कोर्ट ने क्या कहा

अंकित सक्सेना मर्डर केस में सजा की दलीलों पर सुनवाई 31 जनवरी तक स्थगित कर दी गई है। पांच साल पहले अंकित सक्सेना मर्डर केस ने पूरी दिल्ली को हिला कर रख दिया था।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
नई दिल्ली | January 15, 2024 20:01 IST
अंकित सक्सेना के हत्यारों का 31 जनवरी को होगा खुलासा  जानिए कोर्ट ने क्या कहा
अंकित सक्सेना (Express File Photo)
Advertisement

अंकित सक्सेना मर्डर केस में सजा की दलीलों पर सुनवाई 31 जनवरी तक स्थगित कर दी गई है। पांच साल पहले अंकित सक्सेना मर्डर केस ने पूरी दिल्ली को हिला कर रख दिया था। तीस हजारी कोर्ट अब 31 जनवरी को मामले की सुनवाई करेगी और दोषियों को सजा सुनाएगी। दरअसल, फरवरी 2018 में फोटोग्राफर अंकित सक्सेना की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। मामला अंतर-धार्मिक प्रेम संबंध का था।

31 जनवरी तक स्थगित हुई सुनवाई

कोर्ट ने इस मामले में तीन दोषियों की सजा पर दलीलों की सुनवाई 31 जनवरी तक स्थगित कर दी। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सुनील कुमार शर्मा ने 23 दिसंबर को सक्सेना की दोस्त शहजादी के माता-पिता अकबर अली और शहनाज बेगम और मामा मोहम्मद सलीम को मामले में दोषी करार दिया था।

Advertisement

असल में शहजादी के माता-पिता और मामा उसके इस प्रेम संबंध के खिलाफ थे। तीनों ने दिल्ली के खयाला इलाके में सक्सेना (23) पर चाकू से कई वार किये थे। तीनों को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 (हत्या) और 34 (साझा मंशा के साथ कई लोगों द्वारा किया गया कृत्य) के तहत आरोपित किया गया था।

शहनाज बेगम को, स्वेच्छा से चोट पहुंचाने के लिए भी दोषी ठहराया गया था। सोमवार को, अदालत ने मामले की सुनवाई 31 जनवरी के लिए निर्धारित करते हुए कहा कि कुछ हलफनामे दाखिल नहीं किए गए हैं।

Advertisement

क्या था पूरा मामला?

अंकित सक्सेना मर्डर का यह मामला 1 फरवरी, 2018 को हुआ था। उस दिन जब 23 साल के फोटोग्राफर अंकित सक्सेना को उसकी 20 वर्षीय प्रेमिका के परिवार ने पश्चिमी दिल्ली के ख्याला इलाके के रघुबीर नगर में सरेआम मार डाला था। इस मामले को लेकर पुलिस ने बयान देते हुए कहा था कि अंकित को काफी देर तक पीटा गया था। पुलिस ने यह भी कहा कि जब आरोपी अंकित के साथ बहस कर रहे थे अंकित के माता-पिता और दोस्त उसके बचाव में आए थे। हालांकि आरोपियों ने उसकी मां के साथ भी मारपीट की थी।

Advertisement

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सुनील कुमार शर्मा ने इस मामले में लड़की के माता-पिता अकबर अली और शाहनाज बेगम और मामा मोहम्मद सलीम आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 34 के तहत दोषी ठहराया था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो