scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Ranji Trophy: मैच के दौरान नशे में रहते हैं अंपायर, कनकशन नियम का दुरुपयोग कर रहे IPL के खिलाड़ी; मनोज तिवारी का सनसनीखेज खुलासा

पूर्व क्रिकेटर और तृणमूल कांग्रेस नेता मनोज तिवारी ने संन्यास लेने के बाद कहा कि वह इस संबंध में बीसीसीआई को भी अपनी सिफारिशें भेजेंगे।
Written by: देवेंद्र पांडे | Edited By: ALOK SRIVASTAVA
Updated: February 21, 2024 09:54 IST
ranji trophy  मैच के दौरान नशे में रहते हैं अंपायर  कनकशन नियम का दुरुपयोग कर रहे ipl के खिलाड़ी  मनोज तिवारी का सनसनीखेज खुलासा
कोलकाता के ईडन गार्डन में रविवार 18 फरवरी 2024 को बिहार के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मैच में टीम की जीत के बाद मैदान पर प्रार्थना करते बंगाल के कप्तान मनोज तिवारी। मनोज तिवारी ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया। (पीटीआई फोटो)
Advertisement

बंगाल क्रिकेट के स्तंभ और 10,000 से अधिक प्रथम श्रेणी रन बनाने वाले मनोज तिवारी ने दो दशक लंबे करियर के बाद पिछले सप्ताह संन्यास ले लिया। संन्यास लेने से एक सप्ताह पहले मनोज तिवारी ने एक्स पर पोस्ट किया था कि देश के प्रमुख घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी क्रिकेट में ‘बहुत सी चीजें गलत’ थीं। यह अपना आकर्षण और महत्व खो रहा है। बहुत निराश हूं।’

तृणमूल कांग्रेस नेता और बंगाल के खेल मंत्री तिवारी ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में बताया कि उन्होंने ऐसा क्यों किया। उनका कहना है कि अंपायर्स के हैंगओवर से लेकर तंग ड्रेसिंग रूम तक इसके कई कारण हैं। आईपीएल-अनुबंधित खिलाड़ी घरेलू रेड-बॉल क्रिकेट में इसे झेलने के लिए तैयार नहीं हैं।

Advertisement

आपने हाल ही में एक्स पर पोस्ट किया था कि रणजी ट्रॉफी को ‘कैलेंडर से हटा दिया जाना चाहिए’ क्यों?

टूर्नामेंट में खेलते समय मैंने जो देखा उसके आधार पर मैंने यह आकलन दिया। रणजी ट्रॉफी का महत्व और आकर्षण कम हो गया है, क्योंकि टूर्नामेंट शुरू होने से पहले आईपीएल नीलामी होती है। एक बार जब किसी खिलाड़ी को आईपीएल अनुबंध मिल जाता है तो उसमें रणजी ट्रॉफी खेलने की इच्छा नहीं रह जाती है। यह भी डर है कि अगर रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान चोट लग गई तो इसका असर आईपीएल अनुबंध पर पड़ सकता है। आईपीएल में बहुत सारा पैसा लगा हुआ है। मुझे लगता है कि घरेलू क्रिकेट को अब ‘सर्विसिंग’ की जरूरत है।’

क्या आपको लगता है कि जिनके पास आईपीएल अनुबंध है वे रणजी ट्रॉफी को गंभीरता से नहीं लेते हैं?

हां। उसके बाद (आईपीएल अनुबंध मिलने पर) खिलाड़ी गंभीरता से नहीं खेलते हैं। जब हमने घरेलू क्रिकेट खेलना शुरू किया तो हमसे कहा गया कि गंभीरता से खेलें, दृढ़ रहें, टीम के लिए खेलें और मैच विजेता बनने का लक्ष्य रखें। मुझे अब घरेलू क्रिकेट में वह धैर्य और भूख नहीं दिखती। आईपीएल के लिए जो खिलाड़ी चुने जाते हैं, वे एक ही तरह से खेलते हैं। मैं यह नहीं कह रहा कि यह बुरा है लेकिन यह समान शैली है। रणजी ट्रॉफी वह टूर्नामेंट है, जो टेस्ट क्रिकेट के लिए तैयार क्रिकेटर तैयार कर सकता है। आईपीएल एक खिलाड़ी को ‘इनटेंट’ के बारे में सिखा सकता है लेकिन लापरवाही भी आ जाती है क्योंकि खिलाड़ी हर गेंद पर रन बनाने की कोशिश करते हैं। रणजी ट्रॉफी में आपको अपने रन बनाने होते हैं।

आपने शेड्यूलिंग मुद्दों के बारे में भी बात की। क्या आप विस्तार से बता सकते हैं?

भारत ए के मैच रणजी ट्रॉफी मुकाबलों के साथ ही नहीं रख जाने चाहिए। रणजी ट्रॉफी सीजन के लिए एक टीम तैयार करने में बहुत समय और प्रयास लगता है। फिर उस टीम के तीन से चार खिलाड़ियों को इंडिया ए के लिए बुलाया जाता है। हमारी टीम (बंगाल) में शीर्ष दो खिलाड़ी भारत ए का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। एक टीम इंडिया में था। मुझे मुकेश कुमार के भारतीय टीम से खेलने पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन आकाश दीप और अभिमन्यु ईश्वरन भारत ए के लिए खेल रहे थे। वे टीम के मुख्य सदस्य हैं और अतीत में उनके प्रदर्शन ने हमें फाइनल में पहुंचने में मदद की थी। इन खिलाड़ियों के चले जाने से हमारी टीम कमजोर हो गई।

Advertisement

आपने X पर लिखा था कि रणजी ट्रॉफी क्रिकेट की स्थिति से निराश हैं। आपकी अन्य चिंताएं क्या हैं?

मेरे लिए अंपायरिंग मुख्य चिंता है। पूरे सम्मान के साथ कहना चाहूंगा कि घरेलू क्रिकेट में अंपायरिंग का स्तर खराब है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को इस बारे में सोचना चाहिए कि वे अंपायरिंग में कैसे सुधार कर सकते हैं। यह एक या दो सीजन की बात नहीं है, बल्कि मैं कई वर्षों से यह देख रहा हूं। बड़ी गलतियां तो होती ही हैं, लेकिन कुछ बचकानी गलतियां भी होती हैं।

Advertisement

क्या आप विस्तार से बता सकते हैं?

एक मैच में एक ऑफ स्पिनर हर गेंद के बाद शोर मचा रहा था। कई गेंदबाज ऐसा करते हैं…। ऐसा लगता है जैसे वे गेंद पर कुछ ऊर्जा लगा रहे हैं और यह ‘उह्ह्ह्ह्ह्ह्’ जैसी आवाज आती है। इस मामले में एक ऑफ स्पिनर ‘नोओओओ’ चिल्ला रहा था। पहले तो मैंने इसे नजरअंदाज कर दिया लेकिन बाद में मैंने देखा कि गेंदबाज लगातार ऐसा कर रहा था। मैं अंपायर के पास गया और शिकायत की लेकिन अंपायर ने कहा कि उन्होंने गेंदबाज को ‘नोओओओ’ कहते हुए नहीं सुना।

Manoj Tiwary, Bengal Ranji Trophy, Ranji Trophy, manoj tiwary interview
कोलकाता के ईडन गार्डन में रविवार 18 फरवरी 2024 को बिहार के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मैच जीतने के बाद बंगाल के क्रिकेटर और सहयोगी स्टाफ अपने कप्तान मनोज तिवारी को ले जाते हुए। (पीटीआई फोटो)

उसी मैच में अंपायर हर डिलीवरी के बाद नो-बॉल के फैसले को तीसरे अंपायर को रेफर कर रहा था। मैंने पूछा, ‘सर आप अंपायर को नो बॉल कॉल का हवाला क्यों दे रहे हैं।’ उन्होंने जवाब दिया, ‘मैं गेंदबाज की पॉपिंग क्रीज कैसे देख सकता हूं? अगर मैं देखता हूं कि गेंदबाज का पैर कहां पड़ता है तो मैं यह नहीं देख पाऊंगा कि गेंद का क्या होता है।’ कभी-कभी अंपायर बल्लेबाज द्वारा गेंद को निक करने की आवाज नहीं सुन पाते, जबकि मैदान पर मौजूद सभी लोगों ने इसे सुना होता है।

इन मुद्दों पर क्या आप बीसीसीआई को कुछ सिफारिशें भेजने की योजना बना रहे हैं?

मैं यह जरूर करूंगा। अगर किसी खिलाड़ी को डोप टेस्ट से गुजरना पड़ता है तो इसका दायरा घरेलू अंपायरों तक भी बढ़ाया जाना चाहिए। कई बार मैंने अंपायरों को हैंगओवर से जूझते हुए बीच में आते हुए देखा है। अंपायर नींद में लग रहे होते हैं। ऐसी स्थिति में वह कैसे ठीक से काम कर पाएगा। मैंने एक अंपायर से पूछा था, ‘सर कल रात में क्या लिया था (सर, आपने कल रात क्या पिया)?’ जवाब था, ‘मुझे व्हिस्की पसंद है।’ …और वे हंसते हैं। बीसीसीआई को हर सीजन की शुरुआत से पहले हर अंपायर की सुनने और देखने की क्षमता की जांच करानी चाहिए।

क्या आप घरेलू क्रिकेट में कनकशन नियम से सहमत हैं?

इस पर दोबारा विचार किया जाना चाहिए। इस नियम का दुरुपयोग आईपीएल अनुबंध वाले खिलाड़ी कर रहे हैं। ऐसे उदाहरण हैं जहां बल्लेबाज के हेलमेट पर बिल्कुल हल्के से गेंद लगी है। फिर आप देखते हैं कि बल्लेबाज ड्रेसिंग रूम की ओर जा रहा है। पहले जब किसी बल्लेबाज को चोट लगती थी तो किसी की हिम्मत नहीं होती थी कि वह ड्रेसिंग रूम में जाकर बैठ जाए, जब तक निःसंदेह कोई गंभीर बात न हो। इस पर गौर किया जाना चाहिए।

कुछ खिलाड़ियों द्वारा सिर्फ व्हाइट बॉल क्रिकेट खेलने और रेड-बॉल घरेलू क्रिकेट को छोड़ने का चलन रहा है।

हां। यह वहां है। मुझे लगता है कि खिलाड़ियों को दोष नहीं देना चाहिए। अगर किसी युवा खिलाड़ी को आईपीएल से 5 करोड़ रुपये मिल रहे हैं तो यह उनके सिर पर चढ़ जाता है। वह खुद से कहेगा कि मैं दो महीने आईपीएल क्रिकेट खेलूंगा और इतने पैसे कमाऊंगा। कोई खिलाड़ी थोड़े से पैसे के लिए रेड-बॉल क्रिकेट में कड़ी मेहनत क्यों करेगा, जबकि वह आईपीएल में दो महीने खेलकर लाखों कमा सकता है। यह (इशान किशन का जिक्र करते हुए) पहली बार है जब मैंने किसी खिलाड़ी को किसी सीरीज के दौरान भारतीय टीम को सूचित करते देखा है कि उसे मानसिक थकान है और वह ब्रेक लेता है और फिर कथित तौर पर पार्टी करता हुआ देखा जाता है। एक आईपीएल खिलाड़ी के पास बहुत अधिक वित्तीय सुरक्षा होती है। वह जानता है कि शीर्ष पर मौजूद कोई व्यक्ति भविष्य में मदद करेगा और सब कुछ ठीक हो जाएगा।

क्या आप घरेलू क्रिकेट के लिए तैयार की जा रही पिचों से खुश हैं?

मेरे लिए इस तटस्थ क्यूरेटर अवधारणा को खत्म किया जाना चाहिए। यह एक दिखावा है। एक तटस्थ क्यूरेटर हर खेल से लगभग 5-6 दिन पहले पिच तैयार करने की जिम्मेदारी लेता है। उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि घरेलू टीम को फायदा न मिले। लेकिन एक मैच में गेंद पहले कुछ ओवर से ही टर्न होने लगी। खेल सिर्फ चार सत्र तक चला।

उत्तर भारत में भीषण सर्दियों में आयोजित होने वाले मुकाबलों के बारे में क्या ख्याल है?

उत्तरी क्षेत्र और पूर्वी क्षेत्र में कोहरा रहता है। उस समय मैच खेलने से मैच ड्रॉ हो जाते हैं और टीमों को अंक बांटने पड़ते हैं। अंत में यह अंक तालिका में टीम की स्थिति को प्रभावित करता है। इसका एक उदाहरण उत्तर प्रदेश के खिलाफ हमारा मैच था। खराब मौसम के कारण दो दिन तक एक भी गेंद नहीं फेंकी जा सकी। छत्तीसगढ़ के खिलाफ मैच के दौरान भी ऐसा ही हुआ। हम नॉकआउट के लिए क्वालिफाई करना चाहते थे, लेकिन मौसम के कारण हम अंक गंवा बैठे। शेड्यूल तैयार करते समय इन मुद्दों पर विचार किया जाना चाहिए।

आयोजन स्थलों पर सुविधाओं के बारे में क्या? क्या आपको किसी समस्या का सामना करना पड़ा?

हां। केरल में हम स्टेडियम में नहीं, बल्कि जेवियर्स कॉलेज ग्राउंड (थुम्बा में) में खेले। कॉलेज के ड्रेसिंग रूम बहुत छोटे और एक-दूसरे के करीब थे। दोनों टीमों के लिए कोई गोपनीयता नहीं थी। अगर हम कुछ भी बोलते या योजना बनाते तो विपक्षी टीम हमारी बात सुन सकती थी, इसलिए हमें जमीनी स्तर पर योजनाएं बनानी पड़ीं। रणजी ट्रॉफी के मुकाबले उन स्थानों पर खेले जाने चाहिए जहां बुनियादी सुविधाएं हों।

आपने 20 साल तक खेल खेलने के बाद संन्यास ले लिया, कोई पछतावा?

मैंने अपने समय का आनंद लिया। मैंने 10,000 से अधिक प्रथम श्रेणी रन बनाए हैं, लेकिन आज तक मुझे दुख है कि मैं भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट नहीं खेल सका। एक दिन मैं माही भाई (एमएस धोनी) से पूछना चाहूंगा कि 2011 में शतक (एकदिवसीय मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ) बनाने के बाद मुझे प्लेइंग इलेवन से क्यों बाहर कर दिया गया था? मुझमें रोहित शर्मा, विराट कोहली की तरह ही हीरो बनने की क्षमता थी। आज जब मैं कई लोगों को अधिक अवसर मिलते देखता हूं तो मुझे दुख होता है। कुल मिलाकर यह मेरे लिए शानदार सफर रहा और क्रिकेट ने मुझे सब कुछ दिया और मेरी जिंदगी बदल दी। तो कोई शिकायत नहीं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो