scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

IND vs ENG: केएल राहुल का विकल्प बने देवदत्त पडिक्कल के लिए सबसे कठिन था 2022, बीमारी ने कर दिया था 10 किलो वजन कम

इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के लिए टीम इंडिया में शामिल किए गए देवदत्त पडिक्कल को पहला टेस्ट कॉल अप मिला है। पडिक्कल 2021 में टी20 डेब्यू कर चुके हैं।
Written by: खेल डेस्‍क | Edited By: kapiltiwari
Updated: February 13, 2024 12:21 IST
ind vs eng  केएल राहुल का विकल्प बने देवदत्त पडिक्कल के लिए सबसे कठिन था 2022  बीमारी ने कर दिया था 10 किलो वजन कम
राजकोट टेस्ट के लिए टीम इंडिया में केएल राहुल की जगह देवदत्त पडिक्कल को शामिल किया गया है। फोटो सोर्स- @devpadikkal19
Advertisement

इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट में खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट मैच के लिए टीम इंडिया में केएल राहुल का रिप्लेसमेंट बनकर आए देवदत्त पडिक्कल पहली बार टेस्ट टीम में चुने गए हैं। 2021 में भारत के लिए टी20 डेब्यू कर चुके पडिक्कल 2 साल गायब से रहे। टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ बातचीत में पडिक्कल ने बताया है कि 2022 उनके जीवन का अब तक का सबसे बुरा साल रहा क्योंकि उस साल वह बीमारी की वजह से टूट गए थे।

2022 में बीमारी ने तोड़ दिया था- पडिक्कल

पडिक्कल ने बताया है कि 2022 में उन्हें आंतों की कुछ समस्या हो गई थी। उस बीमारी ने उनके करियर को चौपट करने की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया था। उस बीमारी की वजह से ही वह उस साल विजय हजारे ट्रॉफी नहीं खेल पाए थे। इसके अलावा रणजी ट्रॉफी के भी मैच उन्होंने मिस किए थे। टूर्नामेंट का क्वार्टर फाइनल वह नहीं खेल पाए थे। पडिक्कल ने बताया कि बीमारी ने उन्हें मानसिक और शारिरिक रूप से कमजोर कर दिया था।

Advertisement

रणजी ट्रॉफी खेले बिना इशान समेत इन खिलाड़ियों की टीम इंडिया में नहीं होगी एंट्री, BCCI ने जारी किया सख्त फरमान

10 किलो वजन हो गया था कम

पडिक्कल ने आगे बताया कि बीमारी से वापसी करना बहुत ही ज्यादा चुनौतीपूर्ण था क्योंकि बीमारी के समय मेरा 10 किलो वजन कम हो गया था। शारीरिक रूप से बहुत कमजोर हो चुका था और मेरे लिए सबसे ज्यादा चैलेंजिंग फिजिकली फिट होना ही था। पडिक्कल ने आगे कहा कि मुझे अपनी डाइट सही करनी थी और मांसपेशियों की ताकत वापस हासिल करनी थी। मैं कोई भी मैच छोड़ना नहीं चाहता था क्योंकि कड़ी प्रतिस्पर्धा में खुद को बनाए रखने के लिए खेलना बहुत जरूरी था।

टेस्ट कॉल पर क्या बोले पडिक्कल?

टेस्ट कॉल पर बात करते हुए पडिक्कल ने कहा कि मैं इस कॉल अप से काफी खुश हूं मैंने हमेशा ही टेस्ट खेलने का सपना देखा था और अब वह सपना पूरा होने की कगार पर है। मुझे बहुत गर्व महसूस हो रहा है कि मैंने जो भी कड़ी मेहनत की है उसका फल मिला है। पडिक्कल ने इस दौरान अपने परिवार और अपने शुभचिंतकों का आभार प्रकट किया।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो