scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

IND vs SA: विराट कोहली ने अपने टोटके से एडेन मार्कराम को डराया, अंपायर को देना पड़ा दखल

एडेन मार्कराम को विराट कोहली की हरकत पर गुस्सा आ गया था। वहीं अंपायर ने भी दखल देकर कोहली को समझाया।
Written by: खेल डेस्‍क | Edited By: RIYAKASANA
नई दिल्ली | Updated: January 04, 2024 15:11 IST
ind vs sa  विराट कोहली ने अपने टोटके से एडेन मार्कराम को डराया  अंपायर को देना पड़ा दखल
विराट कोहली ने आजमाया टोटका
Advertisement

मोहम्मद सिराज ने केपटाउन टेस्ट के पहले दिन छह विकेट झटककर करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया जिससे भारत दूसरे और आखिरी टेस्ट के शुरुआती दिन दक्षिण अफ्रीका को पहली पारी में 55 रन पर समेट दिया। भारत भी अच्छी शुरुआत का शानदार अंत नहीं कर पाया। उसकी पारी भी 153 रन पर सिमट गई। इसी कारण साउथ अफ्रीका पहले ही दिन दूसरी बार बल्लेबाजी करने उतरी। पहले दिन के आखिरी दिन विराट कोहली ने कुछ ऐसा कर दिया जिससे अफ्रीकी बल्लेबाज एडेन मार्कराम और बल्लेबाज आउट हो गए।

विराट कोहली ने आजमाया टोटका

दिन का आखिरी ओवर चल रहा था। ओवर की चौथी और पांचवीं गेंद पर एडेन मार्करम ने लगातार दो चौके लगाए। इसके बाद ओवर की आखिरी गेंद से पहले विराट कोहली विकेट के पास गए और बेल्स बदल दी। विराट कोहली के इस टोटके को देखकर मार्कराम को गुस्सा आ गया। वह नाराज दिखाई दिए। अंपायर ने भी कोहली को इस हरकत के लिए चेतावनी दी।

Advertisement

कोहली को पहले भी मिली थी सफलता

कोहली का ऐसा करने के पीछे खास वजह थी। पहले टेस्ट मैच के दौरान डीन एल्गर और डी जॉर्जी के बीच लंबी साझेदारी हो गई थी। भारत को विकेट की तलाश थी लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिल रही थी। तभी विराट कोहली ने जाकर बेल्स पलट दी। इसके दो गेंद बाद ही भारत को विकेट मिल गया। यही कारण था कि कोहली दूसरे टेस्ट में भी यह टोटका आजमाना चाहते थे। मार्कराम को शायद यही डर था। हालांकि उन्होंने आखिरी गेंद को डिफेंड किया और खुद को बचा लिया।

पहले दिन लगी विकेट्स की झड़ी

मैच के पहले दिन सिराज ने लगातार नौ ओवर के अपने पहले स्पैल में 15 रन देकर छह विकेट झटककर अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। दक्षिण अफ्रीका का यह 1991 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी के बाद टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम स्कोर है। फिर भारत ने चार विकेट पर 153 रन बनाकर 98 रन की बढ़त हासिल की लेकिन एक भी रन जोड़े बिना 11 गेंद में छह विकेट गंवा दिये।

भारत के छह बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सके और जो खिलाड़ी नाबाद रहा, उसका भी खाता नहीं खुला। लुंगी एनगिडी (30 रन देकर तीन विकेट) और कागिसो रबाडा (38 रन देकर तीन विकेट) ने अंत के छह में से पांच विकेट झटके जिससे उन्होंने बढ़त 100 से कम रहने दी और मनोवैज्ञानिक बढ़त हासिल की क्योंकि शुरूआती दिन इस पिच पर 23 विकेट गिरे।

Advertisement

भाषा इनपुट के साथ

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो