scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'मारूं की न मारूं', यशस्वी जायसवाल ने बताया क्यों भागकर किया रनआउट; रोहित से मिले गुरुमंत्र का भी किया खुलासा

यशस्वी जायसवाल ने इंदौर टी20 में अफगानिस्तान के खिलाफ 34 गेंदों में 68 रन बनाए थे। वहीं शिवम दुबे ने भी अर्धशतक लगाया था।
Written by: खेल डेस्‍क | Edited By: RIYAKASANA
नई दिल्ली | Updated: January 15, 2024 16:12 IST
 मारूं की न मारूं   यशस्वी जायसवाल ने बताया क्यों भागकर किया रनआउट  रोहित से मिले गुरुमंत्र का भी किया खुलासा
यशस्वी जायसवाल। (फोटो - PTI)
Advertisement

युवा सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल और शिवम दुबे के अर्धशतक के दम पर भारतीय टीम ने इंदौर टी20 में आसानी से जीत हासिल कर ली। जायसवाल ने 34 गेंद पर 68 रन की पारी खेली जबकि शिवम दुबे 32 गेंद पर 63 रन बनाकर नाबाद रहे, जिससे भारत ने छह विकेट से जीत दर्ज करके तीन मैच की श्रृंखला में 2-0 से बढ़त हासिल की।

जायसवाल ने आखिरी गेंद पर किया था रनआउट

उन्होंने कहा, 'काफी मजा आया बल्लेबाजी करके। विकेट भी काफी अच्छा था। हमारे पास अच्छा लक्ष्य था तो मेरा ध्यान था कि मैं अच्छी शुरुआत दूं। मैं अच्छे शॉट्स खेलूं जिसपर रन आएं।' जायसवाल ने फजलहक फारुकी को आखिरी गेंद पर रनआउट किया था। जायसवाल के पास रनआउट करने का मौका था उन्होंने गेंद को थ्रो नहीं किया। वह गेंद लेकर दौड़े और भागकर रनआउट किया। जब जायसवाल से इसे लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'मैं थोड़ा कंफ्यूज था कि मारूं कि न मारूं। फिर मैंने सोचा कि मैं केवल भागकर ही रनआउट कर सकता हूं और वहीं किया।'

Advertisement

विराट कोहली के साथ बातचीत का किया खुलासा

उन्होंने कहा,‘‘ जब भी मैं विराट भैया के साथ बल्लेबाजी करता हूं तो वह मेरे लिए सम्मान की बात होती है। उनसे काफी कुछ सीखने को मिलता है। जैसे कि हमें कहां शॉट मारने चाहिए इसको लेकर हमारी बातचीत हुई।’’ जायसवाल ने यह भी बताया कि रोहित हमेशा उनके लिए खड़े रहते हैं। भारतीय कप्तान ने उन्हें सलाह दी कि वह खुलकर अपने शॉट्स खेलें। जायसवाल ने कहा, 'वह बोलते हैं कि तू जा और बिंदास खेल जो तेरे शॉट्स हैं। वह हमेशा हमारा साथ देते हैं। उनके जैसा सीनियर साथ होना बहुत अच्छी बात है।'

टीम के लिए अपना बेस्ट देना चाहते हैं जायसवाल

भारत की तरफ से चार टेस्ट और 16 टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेलने वाले जायसवाल ने कहा कि उन्हें जब भी मौका मिलता है तब वह टीम के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा,‘‘मैं अभ्यास सत्र के दौरान कड़ी मेहनत करता हूं। जब भी मुझे मौका मिलता है तो मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करता हूं और यह सुनिश्चित करता हूं कि मैं टीम के लिए अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ योगदान दूं जो सबसे महत्वपूर्ण है।’’

भाषा इनपुट के साथ

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो