scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जानिए, भूपेश बघेल के निमंत्रण पर मोहन भागवत के माता कौशल्या के मंदिर जाने पर क्यों बरपा हंगामा

भूपेश बघेल ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को एक गाय आश्रय और स्कूल का दौरा करने के लिए भी आमंत्रित किया था, जहां संस्कृत को अनिवार्य विषय बनाया गया था।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: September 17, 2022 16:22 IST
जानिए  भूपेश बघेल के निमंत्रण पर मोहन भागवत के माता कौशल्या के मंदिर जाने पर क्यों बरपा हंगामा
संघ प्रमुख मोहन भागवत (indian express photo by Pradeep Das)
Advertisement

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को छत्तीसगढ़ के मां कौशल्या मंदिर के दौरे का निमंत्रण दिया था। वहीं अब इसको लेकर विवाद शुरू हो गया है और कांग्रेस-बीजेपी आमने सामने है।

दरअसल पिछले मंगलवार को मोहन भागवत छत्तीसगढ़ आरएसएस के पदाधिकारियों के साथ राजधानी रायपुर से लगभग 23 किलोमीटर दूर चंद्रखुरी शहर में कौशल्या मंदिर के दर्शन के लिए गए थे, जिसे भगवान राम की मां को समर्पित एकमात्र मंदिर के रूप में जाना जाता है। बता दें कि मंदिर का जीर्णोद्धार बघेल के नेतृत्व वाली सरकार ने 2021 में किया था। भूपेश बघेल ने भी 2021 में चंद्रखुरी में अपनी सरकार की दूसरी वर्षगांठ समारोह आयोजित किया था।

Advertisement

भूपेश बघेल ने सार्वजनिक रूप से आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को कौशल्या मंदिर जाने के लिए आमंत्रित किया था। भागवत के मंदिर दर्शन करने के बाद सीएम बघेल ने एक ट्वीट में कहा था, "हमने मोहन भागवत जी को माता कौशल्या मंदिर के दर्शन के लिए आमंत्रित किया था। मुझे यकीन है कि वहां पहुंचने पर उन्हें शांति का अहसास हुआ होगा। उन्होंने मंदिर के नए रूप, मां कौशल्या के प्रेम और भांच राम की शक्ति को महसूस किया होगा।"

इसके साथ ही भूपेश बघेल ने मोहन भागवत को एक गोथन (गाय आश्रय) और एक स्कूल का दौरा करने के लिए भी आमंत्रित किया था, जहां हाल ही में संस्कृत को अनिवार्य विषय बनाया गया था।

Advertisement

आरएसएस ने मीडिया के माध्यम से मोहन भागवत को मुख्यमंत्री के निमंत्रण पर आपत्ति व्यक्त की थी। इसके बाद कांग्रेस सरकार ने अपने रायपुर के नेता गिरीश दुबे को पिछले सोमवार को भागवत को औपचारिक निमंत्रण सौंपने के लिए भेजा था। साथ ही, कांग्रेस ने मंदिर जाने के लिए "निमंत्रण की प्रतीक्षा" के लिए आरएसएस प्रमुख की आलोचना करते हुए कहा कि हमारे सीएम ने उन्हें (भागवत) आमंत्रित किया था। लेकिन मीडिया के जरिए उन्होंने अपनी अनभिज्ञता जाहिर की।

Advertisement

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, "भाजपा धर्म को लेकर नफरत की राजनीति करती है। लेकिन छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने उन्हें लोगों से जुड़ने की राजनीति दिखाई है।"

वहीं भाजपा ने कांग्रेस पर पलटवार किया। भाजपा नेता धर्मलाल कौशिक ने कहा, "वे (कांग्रेस) किसी के व्यक्तिगत मंदिर जाने पर इस तरह का हंगामा करते हैं। भले ही उन्हें आमंत्रित किया गया था, क्या उनका स्वागत करने के लिए कोई था? कांग्रेस सरकार धर्म को राजनीतिक मुद्दा बना रही है।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो