scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पत्नी पर था बेवफाई का शक, टुकड़े-टुकड़े कर पानी की टंकी में फेंका शव, 2 महीने बाद ऐसे खुला मामला

पुलिस को शक है कि करीब 1 से 2 महीने पहले सती साहू की हत्या की गई थी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: June 21, 2023 20:15 IST
पत्नी पर था बेवफाई का शक  टुकड़े टुकड़े कर पानी की टंकी में फेंका शव  2 महीने बाद ऐसे खुला मामला
आरोपी ने पत्नी की हत्या करके उसके शव के टुकड़े कर दिए (ANI PHOTO)
Advertisement

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर (Bilaspur in Chhattisgarh) से एक श्रद्धा मर्डर केस (Shraddha Murder Case) जैसी घटना सामने आई है। घटना में आरोपी पति ने अपनी पत्नी की हत्या कर दी और फिर उसके शव को कई टुकड़ों में कर कर पानी की टंकी में फेंक दिया। यह घटना छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के उसलापुर की है।

आरोपी पति का नाम पवन ठाकुर है जबकि उसकी मृतक पत्नी का नाम सती साहू था। पवन ठाकुर को अपनी पत्नी पर बेवफाई का शक था और इसी कारण से उसने अपनी पत्नी की हत्या कर दी। पुलिस (Bilaspur Police) इस मामले में जांच (Investigation) में जुट गई और पुलिस को शक है कि करीब 1 से 2 महीने पहले सती साहू की हत्या की गई थी। पुलिस ने इस मामले में आरोपी पति पवन ठाकुर को हिरासत में ले लिया है।

Advertisement

मृतक पत्नी के शव को बरामद कर लिया गया है। आरोपी ने पत्नी की हत्या करके उसके शव के टुकड़े कर दिए और फिर अपने घर की छत पर लगी पानी की टंकी के अंदर उसे फेंक दिया। पुलिस ने पानी की टंकी से शव के टुकड़ों (Dead body chopped) को भी बरामद कर लिया है।

श्रद्धा वाकर मामले से मिलता-जुलता मामला

छत्तीसगढ़ का मामला हाल ही में हुए श्रद्धा वाकर मामले से मिलता-जुलता है, जिसमें आरोपी आफताब अमीन पूनावाला ने अपनी लिव-इन पार्टनर की हत्या कर दी और उसके शरीर के कई टुकड़े कर दिए। उसकी हत्या करने के बाद उसने शरीर के अंगों को 300 लीटर के रेफ्रिजरेटर में रख दिया और उन्हें तीन महीने की अवधि में अपने घर के पास छतरपुर के जंगल में ठिकाने लगा दिया। पुलिस ने 24 जनवरी को इस मामले में चार्जशीट दायर की थी, जिसमें 6,000 से अधिक पेज हैं। कोर्ट ने 7 फरवरी को चार्जशीट पर संज्ञान लिया था।

Advertisement

समाचार एजेंसी आईएएनएस के अनुसार आफताब पूनावाला ने अपने एक आवेदन में आरोप लगाया था कि पुलिस की चार्जशीट फॉरेंसिक और इलेक्ट्रॉनिक सबूतों के आधार पर तैयार की गई है, जिसमें लगभग 100 गवाह हैं उन्होंने उसे मामले में गलत तरीके से फंसाया है। आफताब ने यह भी तर्क दिया था कि अभियोजन पक्ष ने जानबूझकर चार्जशीट की एक डिजिटल प्रति प्रदान की, जो पढ़ने योग्य नहीं है। दिल्ली की अदालत अब कल (7 मार्च) को आफताब पूनावाला के खिलाफ आरोपों पर सुनवाई करेगी।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो