scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भूपेश बघेल और टीएस सिंहदेव अब नहीं रहे जय-वीरू, छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस को सता रहा सरकार गिरने का डर

बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया है और नोटिस में कहा है कि एक मंत्री ने सीएम के खिलाफ आरोप लगाया है।
Written by: Gargi Verma | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: July 22, 2022 09:24 IST
भूपेश बघेल और टीएस सिंहदेव अब नहीं रहे जय वीरू  छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस को सता रहा सरकार गिरने का डर
भूपेश बघेल और टीएस सिंह देव (file photo)
Advertisement

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने 16 जुलाई को पंचायती मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और टीएस सिंह देव के बीच नाराजगी की अटकलें फिर से लगाई जाने लगीं। छत्तीसगढ़ विधानसभा का मानसून सत्र बुधवार को चल रहा था, इस दौरान भाजपा ने पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग से वरिष्ठ मंत्री टीएस सिंह देव के इस्तीफे के मुद्दे को उठाकर हंगामा किया। यहां तक ​​कि भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के लिए एक नोटिस भी जारी किया।

प्रमुख विपक्षी पार्टी बीजेपी ने इस मुद्दे पर सीएम से स्पष्टीकरण की मांग की। बीजेपी ने कहा कि राज्य में संवैधानिक संकट है, क्योंकि टीएस सिंह देव जैसे वरिष्ठ मंत्री ने अपने पत्र में कहा है कि उन्हें दरकिनार किया जा रहा है और उन्होंने सीएम बघेल में अपना अविश्वास व्यक्त किया है। भाजपा के अविश्वास प्रस्ताव नोटिस में कहा गया है कि एक मंत्री ने सीएम के खिलाफ आरोप लगाया है। संवैधानिक व्यवस्था के अनुसार कैबिनेट और कार्यपालिका विधायिका के प्रति जवाबदेह हैं। लेकिन राज्य सरकार इस मोर्चे पर विफल रही है।

Advertisement

90 सदस्यीय राज्य विधानसभा में 71 सदस्यों के साथ भारी बहुमत होने के बावजूद कांग्रेस सरकार को अंदरूनी संकट के कारण परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। टीएस सिंह देव का मौजूदा विधानसभा सत्र में सीएम बघेल के साथ न बैठना उनके संघर्ष को उजागर करता है। पिछले मानसून सत्र के दौरान भी सीएम भूपेश बघेल से जुड़े पार्टी विधायक बृहस्पति सिंह द्वारा टीएस सिंह देव पर आरोप लगाए गए थें और फिर टीएस देव विधानसभा से चले गए थे , बृहस्पति सिंह द्वारा माफ़ी मांगने के बाद ही टीएस सिंह देव विधानसभा में वापस आये थें।

हालाँकि सीएम भूपेश बघेल ने इस तरह के किसी भी समझौते से बार-बार इनकार किया है। भूपेश बघेल कहते हैं कि वह सीएम के रूप में बने रहने के लिए पार्टी नेतृत्व के निर्देश का पालन कर रहे हैं। वह यह भी कहते रहे हैं कि जब भी नेतृत्व चाहेगा, मैं कुर्सी छोड़ दूंगा।

Advertisement

पिछले साल अगस्त में बघेल-सिंह देव के झगड़े के बीच दोनों नेताओं को (बघेल के कार्यकाल के ढाई साल पूरे होने पर) अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के नेतृत्व द्वारा दिल्ली बुलाए जाने पर दोनों नेता विधायकों, महापौरों और सहयोगियों के एक दल के साथ दिल्ली पहुंचे थे। टीएस सिंह देव तब दिल्ली भी पहुंचे थे और मुख्यमंत्री पद पर अपना दावा पेश करने के लिए पार्टी नेतृत्व से मिले थे।

Advertisement

अब कांग्रेस को डर है कि कहीं दोनों नेताओं के झगड़े के बीच सरकार पर संकट न आ जाए और सरकार गिर न जाए। कांग्रेस के पास अब अपने दम पर केवल दो राज्य राजस्थान और छत्तीसगढ़ में ही सरकार बची है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो