scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'24 घंटे में अमृतपाल समर्थकों को करो रिहा, नहीं तो...', अकाल तख्त ने केंद्र और पंजाब सरकार को दिया अल्टीमेटम

अकाल तख्त की ओर से सवाल किया गया है कि हिंदू राष्ट्र की मांग करने वालों के खिलाफ इसी तरह की कार्रवाई क्यों नहीं की जाती है?
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: March 28, 2023 10:50 IST
 24 घंटे में अमृतपाल समर्थकों को करो रिहा  नहीं तो      अकाल तख्त ने केंद्र और पंजाब सरकार को दिया अल्टीमेटम
Amritpal Singh को अब तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। (ANI Image)
Advertisement

अकाल तख्त (The Akal Takht) ने पंजाब सरकार को बड़ा अल्टीमेटम दिया है। अमृतपाल सिंह (Amritpal Singh) और उसके समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर अकाल तख्त ने भगवंत मान सरकार (Bhagwant Mann government) और केंद्र के खिलाफ बड़ा बयान जारी किया है। अकाल तख्त की ओर से सवाल किया गया है कि 'हिंदू राष्ट्र की मांग करने वालों' के खिलाफ इसी तरह की कार्रवाई क्यों नहीं की जाती है?

अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह (Akal Takht jathedar Giani Harpreet Singh) ने अमृतपाल सिंह के खिलाफ कार्रवाई के दौरान पकड़े गए सिख युवकों को रिहा करने के लिए राज्य सरकार को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। हरप्रीत सिंह पंजाब की स्थिति पर चर्चा करने के लिए बुद्धिजीवियों, वकीलों, पत्रकारों, धार्मिक और सामाजिक नेताओं सहित सिख संगठनों की एक सभा को संबोधित कर रहे थे।

Advertisement

अकाल तख्त सिखों के लिए सर्वोच्च धार्मिक समूह है और इसके जत्थेदार उनके शीर्ष प्रवक्ता हैं। यह सवाल करते हुए कि कथित रूप से अमृतपाल सिंह का समर्थन करने और उनकी खालिस्तान की मांग के लिए गिरफ्तार किए गए लोगों के खिलाफ कड़े राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) को क्यों लागू किया गया? ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा, "लाखों लोग हैं जो हिंदू राष्ट्र की मांग करते हैं। जो लोग हिंदू राष्ट्र की मांग कर रहे हैं, उनके खिलाफ भी मामला दर्ज किया जाना चाहिए। उन्हें भी एनएसए के तहत बुक किया जाना चाहिए।"

मुख्यमंत्री भगवंत मान (Chief Minister Bhagwant Mann) ने कहा है कि उन्होंने पुलिस से कहा है कि एहतियाती हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा किया जाए, अगर वे किसी राष्ट्र विरोधी गतिविधि में शामिल नहीं पाए जाते हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि शांति भंग करने की कोशिश करने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। पंजाब पुलिस ने कहा है कि उसने हिरासत में लिए गए 353 लोगों में से 197 को रिहा कर दिया है।

Advertisement

अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने किसी भी हिंसक विरोध के खिलाफ आगाह किया है। उन्होंने कहा है कि अगर गिरफ्तार युवकों को रिहा नहीं किया गया, तो हमें आक्रामक नहीं होना चाहिए, बल्कि उन्हें कूटनीतिक रूप से जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे पुलिस हिरासत में लिए गए लोगों की रिहाई के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो