scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

अमृतपाल को लेकर अकाल तख्त कर सकता है बड़ा फैसला, आज बुलाई अहम बैठक

बैठक में शामिल होने के लिए 60 से 70 सिख संगठन और निहंग समूहों को संदेश भेजा गया है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: March 27, 2023 12:16 IST
अमृतपाल को लेकर अकाल तख्त कर सकता है बड़ा फैसला  आज बुलाई अहम बैठक
Amritpal Singh Case: अमृतपाल सिंह अभी भी फरार है। (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस)
Advertisement

वारिस पंजाब दे प्रमुख और खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह अभी भी फरार है। उसे पकड़ने के लिए पंजाब पुलिस और अन्य एजेंसियां जगह-जगह छापेमारी कर रही हैं। हालांकि अभी तक उसका कोई सुराख़ नहीं लग पाया है। अमृतपाल सिंह के कई सीसीटीवी वीडियो सामने आये है, लेकिन अभी तक उसका कुछ अता-पता नहीं है। वहीं अब अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने अमृतपाल सिंह मामले को लेकर बड़ी बैठक बुलाई है।

27 मार्च यानि आज श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर में एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में अलग-अलग सिख संगठनों, टकसालों, संप्रदायों, सिंह सभाओं के प्रतिनिधियों को शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। इस बैठक की अध्यक्षता अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह करेंगे। बता दें कि बैठक में शामिल होने के लिए 60 से 70 सिख संगठन और निहंग समूहों को शामिल होने के लिए संदेश भेजा गया है।

Advertisement

बता दें कि इससे पहले शनिवार को अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने अमृतपाल सिंह को सरेंडर करने के लिए कहा था। ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा था कि अमृतपाल पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दें और जांच में सहयोग करें। इसके साथ ही हरप्रीत सिंह ने पुलिस की क्षमता पर भी सवाल उठाए थे और कहा था कि इतनी बड़ी पुलिस फोर्स होने के बावजूद अभी तक वे अमृतपाल सिंह को क्यों नहीं पकड़ पाए हैं।

ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा था, "अमृतपाल सिंह अभी तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। मैं उसे पुलिस के सामने पेश होने और जांच में सहयोग करने के लिए कहूंगा। दुनिया के हर सिख के मन में अभी यह सवाल उठ रहा है कि इतनी बड़ी पुलिस फोर्स होने के बावजूद अमृतपाल सिंह को गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा सका? यह पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करता है। अगर अमृतपाल को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है तो पुलिस को ऐसा बताना चाहिए।"

Advertisement

जालंधर जिले में उसके काफिले को रोके जाने पर अमृतपाल सिंह ने खुद पुलिस को चकमा दे दिया और पुलिस के जाल से बच गया था। पंजाब सरकार ने अमृतपाल और उसके कुछ सहयोगियों के खिलाफ सख्त से सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो