scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मुकेश अंबानी, रतन टाटा, अजीम प्रेमजी नहीं! यह भारतीय दुनिया का सबसे बड़ा दानवीर, चैरिटी में दिए 829734 करोड़ रुपये

World's biggest charitable: जमशेद जी टाटा दुनिया के सबसे बड़े दानवीर हैं। बिजनेस टायकून बिल गेट्स उनसे पीछे हैं।
Written by: बिजनेस डेस्क | Edited By: Naina Gupta
February 06, 2024 14:43 IST
मुकेश अंबानी  रतन टाटा  अजीम प्रेमजी नहीं  यह भारतीय दुनिया का सबसे बड़ा दानवीर  चैरिटी में दिए 829734 करोड़ रुपये
जमशेद जी टाटा
Advertisement

World's Most Charitable Person: यूं तो बहुत सारे बड़े भारतीय कारोबारी हैं जिन्हें महान दानवीर कहा जाता है। रतन टाटा, अजीम प्रेमजी, शिव नाडर और मुकेश अंबानी कुछ ऐसे जाने-माने नाम हैं जिन्हें दुनिया में सबसे ज्यादा चैरिटी करने के लिए जाना जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया में सबसे ज्यादा पैसे दान करने वाला शख्स इनमें सो कोई भी नहीं है।

जी हां EdelGive Foundation और Hurun Report 2021 के मुताबिक, टाटा ग्रुप (Tata Group) के संस्थापक जमशेद जी टाटा (Jamsetji Tata) को पिछली सदी का दुनिया का सबसे बड़ा दानवीर बताया गया है। उन्होंने कुल 829,734 करोड़ रुपये दान किए। आपको बता दें कि जमशेद जी ने दुनिया के दूसरे दिग्गज दानवीरों को भी पीछे छोड़ दिया हैं। वहीं माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स इस लिस्ट में दूसरे सबसे बड़े दानवीर रहे।

Advertisement

टाटा ग्रुप की विरासत को रतन टाटा बढ़ा रहे आगे

जमशेद जी टाटा ने अपने दान किए गए पैसों का एक बड़ा हिस्सा शिक्षा व स्वास्थ्य पर खर्च किया। उन्होंने 1892 में ही बड़े स्तर पर चैरिटी की शुरुआत कर दी थी। हालांकि, 1904 में उनका निधन हो गया और उनकी विरासत टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा ने बढ़िया से संभाली। रतन टाटा की गिनती भी जमशेद जी की तरह ही सबसे बड़े चैरिटेबल लोगों में होती है।

Hurun Report के चेयरमैन और चीफ रिसर्चर Rupert Hoogewerf ने बताया कि फोर्ड फाउंडेशन जैसे कई चैरिटेबल संस्थानों की शुरुआत पहली की जगह दूसरी जेनरेशन से हुई है।

Advertisement

दुनिया के टॉप-50 दानवीरों की बात करें तो एकमात्र भारतीय अज़ीम प्रेमजी ही इसमें जगह बना सके। विप्रो के फाउंडर अज़ीम प्रेमजी ने 22 बिलियन डॉलर दान कर दिए थे।

Advertisement

गुजरात के पारसी परिवार में जन्मे जमशेदजी टाटा ने वित्तीय संघर्षों को चुनौती दी और बिजनेस की शुरुआत के साथ ही पारिवारिक परंपराओं को पीछे छोड़ा।

जमशेदजी टाटा का विवाह हीराबाई दबू से हुआ था। उनके दो बेटे दोराबजी टाटा और रतनजी टाटा थे। रतनजी टाटा ने टाटा ग्रुप के चैरिटी कामों की विरासत को आगे बढ़ाया।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो