scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

घर, वाहन महंगे होने से घटी घरेलू बचत : अर्थशास्त्री

सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय की ओर से जारी ताजा राष्ट्रीय खाता सांख्यिकी-2024 के अनुसार, शुद्ध घरेलू बचत तीन वर्षों में 2022-23 तक नौ लाख करोड़ रुपए की गिरावट के साथ 14.16 लाख करोड़ रुपए रह गई।
Written by: भाषा | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 10, 2024 12:19 IST
घर  वाहन महंगे होने से घटी घरेलू बचत   अर्थशास्त्री
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

घरेलू बचत में वित्त वर्ष 2023-24 में लगातार तीसरे साल गिरावट आने का अनुमान है, क्योंकि आवास और वाहन ऋण पर बढ़ते ब्याज के कारण देनदारियों में वृद्धि जारी है। हालांकि, व्यक्तिगत ऋण पर भारतीय रिजर्व बैंक के अंकुश से 2024-25 में यह प्रवृत्ति उलट सकती है। सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय की ओर से जारी ताजा राष्ट्रीय खाता सांख्यिकी-2024 के अनुसार, शुद्ध घरेलू बचत तीन वर्षों में 2022-23 तक नौ लाख करोड़ रुपए की गिरावट के साथ 14.16 लाख करोड़ रुपए रह गई।

इक्रा की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने आंकड़ों पर बात करते हुए कहा कि 2022-23 में घरेलू बचत में गिरावट की मुख्य वजह देनदारियों में सालाना आधार पर 73 फीसद की वृद्धि रही। उन्होंने कहा कि आंकड़ों पर गौर करें तो बीते वित्त वर्ष 2023-24 में भी घरेलू बचत में गिरावट की प्रवृत्ति जारी रहने का अनुमान है। घरेलू बचत से जुड़े आंकड़े अभी जारी नहीं किए गए हैं।

Advertisement

नायर ने कहा, हालांकि 2024-25 में यह प्रवृत्ति उलट सकती है, क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक ने बिना गारंटी वाले व्यक्तिगत कर्ज पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठाए हैं। मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंत नागेश्वरन ने इस गिरावट की वजह खंड में बदलाव को बताया, जहां बचत को वास्तविक परिसंपत्तियों में लगाया जा रहा है।

नागेश्वरन ने एनसीएइआर द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 में घरेलू शुद्ध वित्तीय बचत कम रही और इसे लेकर कुछ चिंताएं थीं। इससे पता चला कि घरेलू बचत कम हो रही है, लेकिन वास्तव में यह एक खंड बदलाव था, जहां बचत वास्तविक परिसंपत्तियों में जा रही थी। वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू बचत 23.29 लाख करोड़ रुपए के रिकार्ड स्तर पर पहुंच गई थी।

Advertisement

उस वर्ष कोविड की दूसरी लहर आई थी। हालांकि, उसके बाद से इसमें गिरावट जारी है। इसके बाद यह 2021-22 में 17.12 लाख करोड़ रुपए और 2022-23 में 14.16 लाख करोड़ रुपए पर आ गई। वित्तीय निकायों और एनबीएफसी द्वारा परिवारों को दिए गए ऋण 2022-23 में चार गुना होकर 3.33 लाख करोड़ रुपए हो गया। यह 2020-21 में 93,723 करोड़ रुपए था। वित्त वर्ष 2021-22 के 1.92 लाख करोड़ रुपए के ऋण की तुलना में 2022-23 में यह 73 फीसद बढ़ा। आरबीआइ ने व्यक्तिगत ऋणों में वृद्धि को देखते हुए पिछले साल नवंबर में व्यक्तिगत ऋणों सहित बिना गारंटी वाले ऋणों के लिए प्रावधानों में बदलाव किया था।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो