scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Budget 2024: अगर टैक्स छूट बढ़ी तो 8.5 लाख रुपये तक की सालाना इनकम पर नहीं लगेगा कोई टैक्स, जानें टैक्स स्लैब में क्या हो सकता है बदलाव

Budget 2024, No income tax on annual income up to Rs 8.5 lakh: बजट 2024 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण क्या मिडिल-क्लास को देंगी राहत?
Written by: बिजनेस डेस्क | Edited By: Naina Gupta
Updated: July 09, 2024 17:59 IST
budget 2024  अगर टैक्स छूट बढ़ी तो 8 5 लाख रुपये तक की सालाना इनकम पर नहीं लगेगा कोई टैक्स  जानें टैक्स स्लैब में क्या हो सकता है बदलाव
No income tax: बजट 2024 में मिडिल क्लास को मिलेगी राहत?
Advertisement

Union Budget 2024: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार 3.0 का पहला बजट 23 जुलाई को संसद में पेश करेंगी। फरवरी 2024 में मोदी सरकार 2.0 में वित्त मंत्री ने अंतरिम बजट पेश किया था। निर्मला सीतारमण का यह लगातार सातवां बजट होगा।

Advertisement

यूनियन बजट 2024 से पहले टैक्सपेयर्स खासतौर पर मिडिल क्लास को इस बार वित्त मंत्री से टैक्स में छूट दिए जाने की उम्मीद है। मिडिल क्लास इस बार मोदी सरकार से उम्मीद लगाए बैठा है कि शायद पिछले कई सालों का इंतजार इस बार खत्म हो और टैक्स में छूट की सीमा को बढ़ाया जाए। मिडिल क्लास को उम्मीद है कि सरकार इस बार बजट 2024 में टैक्स छूट की बेसिक सीमा को बढ़ाकर 3 लाख रुपये से 5 लाख रुपये कर सकती है। स्टैंडर्ड डिडक्शन की लिमिट बढ़ने के साथ ही नए टैक्स रिजीम के तहत नए डिडिक्शन बेनिफिट भी सरकार पेश कर सकती है।

Advertisement

किसानों को Budget 2024 में मिलेगा बड़ा तोहफा? PM Kisan की राशि बढ़ा सकती है मोदी सरकार

नए टैक्स रिजीम के तहत क्या हैं मौजूदा डिडक्शन बेनिफिट?

आपको बता दें कि नए टैक्स रिजीम के तहत फिलहाल स्टैंडर्ड डिडक्शन बेनिफिट 50,000 रुपये है। इसमें पुराने टैक्स रिजीम में मिलने वाले दूसरे डिडक्शन और और टैक्स छूट जैसे फायदे नहीं मिलते हैं।

आने वाले बजट को लेकर एक्सपर्ट्स ने भी टैक्स स्ट्रक्चर में महत्वपूर्ण बदलाव का अनुमान जताया है। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि सरकार बजट 2024 में नए रिजीम के तहत बेसिक टैक्स छूट को 3 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये सालाना कर सकती है।

Advertisement

दिवालिया होने के बाद भी 5000 करोड़ के घर में रहते हैं अनिल अंबानी, 311 करोड़ का प्राइवेट जेट, जानें मुकेश अंबानी के भाई की नेट वर्थ

Advertisement

अगर बेसिक छूट की लिमिट बढ़ाकर 5 लाख हुई तो नए टैक्स रिजीम में कितनी इनकम होगी टैक्स फ्री?

सीए सतीश सुराना का कहना है कि अगर बेसिक छूट की लिमिट बढ़ी तो इसका मतलब है कि 8.5 लाख रुपये की सालाना इनकम वाले व्यक्ति को कई इनकम टैक्स नहीं देना होगा। इस कैलकुलेशन में स्टैंडर्ड डिडक्शन और सेक्शन 87A के तहत मिलने वाली छूट शामिल है बशर्ते अगर इसमें कोई बदलाव नहीं होता है।

नए टैक्स रिजीम में मौजूदा टैक्स स्लैब:Current tax slabs under the new tax regime

टैक्स स्लैबटैक्स रेट
3 लाख रुपये तक0 टैक्स
3 लाख से 6 लाख रुपये तक5 प्रतिशत  (Tax rebate u/s 87A)
6 लाख से 9 लाख रुपये तक10 प्रतिशत (Tax rebate u/s 87A up to Rs 7 lakh)
9 लाख से 12 लाख रुपये तक15 प्रतिशत
12 लाख से 15 लाख रुपये तक20 प्रतिशत
15 लाख से ज्यादा25 प्रतिशत

सीए के मुताबिक, अगर सरकार नए बजट में ऐसी कोई राहत मिडिल-क्लास नौकरीपेशा को देती है तो टैक्स-फ्री इनकम में बड़ा इजाफा होगा और लाखों टैक्सपेयर्स के अकाउंट में आने वाली इनकम बढ़ जाएगी।

संभावित टैक्स स्लैब:Assumed Revised Tax Slabs

टैक्स स्लैब (नए टैक्स रिजीम के तहत संभावित)टैक्स रेट
5 लाख रुपये तक0 प्रतिशत
5 से 6 लाख रुपये तक5% (Tax rebate u/s 87A)
6 से 9 लाख रुपये तक10% (Tax rebate u/s 87A on income up to Rs 8 lakh)
9 से 12 लाख रुपये तक15 प्रतिशत
12 से 15 लाख रुपये तक20 प्रतिशत
15 लाख से ज्यादा30 प्रतिशत

अभी 3 लाख रुपये की छूट और सेक्शन 87A की छूट के साथ 7.5 लाख रुपये तक की इनकम टैक्स-फ्री है। इसमें स्टैंडर्ड डिडक्शन भी शामिल है।

मौजूदा समय की बात करें तो 3 लाख रुपये की छूट की लिमिट के साथ, टैक्स-फ्री इनकम में कई कंपोनेंट रहते हैं। इनमें पहला 50, 000 रुपये का स्टैंडर्ड डिडक्शन है। इसके अलावा सेक्शन 87A के तहत मिलने वाली टैक्स छूट है जो 7 लाख और इससे कम की इनकम पर 25000 रुपये है। यानी इस डिडक्शन के बाद 7.5 लाख रुपये तक कमाने वाले किसी व्यक्ति को कोई इनकम टैक्स नहीं देना पड़ता।

बजट 2024 में अगर बदले हालात (5 लाख रुपये तक छूट की सीमा)

अगर यह स्थिति बजट 2024 में बदलती है और टैक्स में छूट की सीमा 5 लाख रुपये तक बढ़ाई जाती है तो टैक्स-फ्री इनकम की लिमिट में बड़ा बदलाव होगा। स्टैंडर्ड डिडक्शन 50,000 रुपये रहता है। सेक्शन 87A के तहत टैक्स रिबेट भी लागू होगी यानी 8 लाख रुपये और इससे कम सैलरी वाले लोगों को 25,000 रुपये की राहत मिल जाएगी। यानी 50,000 रुपये के स्टैंडर्ड डिडक्शन के साथ 8.5 लाख रुपये की आय पर किसी तरह का इनकम टैक्स देय नहीं होगा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो