scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

JDU की एंट्री के बाद बिहार में NDA सहयोगियों के बीच सीट अंकगणित पर होगा दोबारा मंथन! छोटे दलों को साधना BJP के लिए बड़ी चुनौती

Lok Sabha Elections: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पांचवीं बार पाला बदलने से पहले एनडीए का हिस्सा रहे सहयोगियों को भाजपा अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने आश्वासन दिया है कि उनसे की गई प्रतिबद्धताओं का सम्मान किया जाएगा।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: January 29, 2024 23:02 IST
jdu की एंट्री के बाद बिहार में nda सहयोगियों के बीच सीट अंकगणित पर होगा दोबारा मंथन  छोटे दलों को साधना bjp के लिए बड़ी चुनौती
Lok Sabha Elections: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (फोटो सोर्स: PTI)
Advertisement

Lok Sabha Elections: बिहार में जनता दल (यूनाइटेड) के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में फिर से शामिल होने के बाद भाजपा के नेतृत्व वाले मोर्चे में समीकरण बदल गए हैं। ऐसे में चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) जैसी छोटी पार्टियों को कम सीटें मिलने की उम्मीद है। बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं।

Advertisement

2019 में भाजपा और जद (यू) ने 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ा था और छह सीटें एलजेपी को आवंटित की गई थीं। हालांकि, इस बार, जीतन राम मांझी की हिंदुस्तान अवाम मोर्चा (HAM), उपेन्द्र कुशवाह की राष्ट्रीय लोक जनता दल (RLJD) और एलजेपी के दो गुटों के मिश्रण से सहयोगी दलों को दबाव महसूस हो सकता है।

Advertisement

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पांचवीं बार पाला बदलने से पहले एनडीए का हिस्सा रहे सहयोगियों को भाजपा अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने आश्वासन दिया है कि उनसे की गई प्रतिबद्धताओं का सम्मान किया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार, रविवार को नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेने के लिए सहमत होने से पहले पासवान, जिन्होंने जेपी नड्डा के साथ दिल्ली से पटना के लिए उड़ान भरी थी। उन्होंने जोर देकर कहा कि भाजपा उन्हें स्पष्ट आश्वासन दे उनको सभी छह सीटें दी जाएं, जिन पर पार्टी ने 2019 में चुनाव लड़ा था। उन्होंने हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र को अपने लिए आरक्षित करने की भी मांग की। हालांकि भाजपा को पासवान और उनके चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति नाथ पारस के नेतृत्व वाले अलग हुए गुट के बीच संतुलन बनाना होगा।

पासवान जिनकी पिछले पांच वर्षों में नीतीश कुमार के साथ राजनीति टकराव पर केंद्रित रही है। उन्होंने कहा कि वह खुश हैं कि एनडीए सरकार सत्ता में है और उम्मीद जताई कि सहयोगी दलों का दृष्टिकोण भी अच्छा रहेगा सरकार की नीति में शामिल किया गया।

Advertisement

उन्होंने कहा कि 2019 में भी, हमारे साथ जद (यू) थी और हम अपने बीच सीट-बंटवारे के फॉर्मूले को सौहार्दपूर्ण ढंग से तय करने में कामयाब रहे। सीटों के बंटवारे पर बातचीत सकारात्मक रूप से शुरू हो गई है और मेरा मानना है कि इसे जल्द ही अंतिम रूप दे दिया जाएगा।'

हालांकि, उन्होंने सावधानी बरतते हुए कहा कि यदि नीतीश कुमार उन "नीतियों" का पालन करना जारी रखते हैं, जिनकी वह नई सरकार के तहत आलोचना करते रहे हैं, तो वह बोलने में संकोच नहीं करेंगे।

भाजपा के वरिष्ठ सूत्रों के अनुसार, पार्टी ने कहा है कि कुशवाह की आरएलजेडी को 2014 की तरह ही तीन लोकसभा सीटें दी जाएंगी, जब कुशवाह राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष के रूप में एनडीए के सहयोगी थे। कुछ समय के लिए केन्द्रीय मंत्री भी रहे।

माझी के नेतृत्व वाली एचएएम को पहले ही राज्य स्तर पर समायोजित कर दिया गया है और माझी के बेटे संतोष सुमन माझी को बिहार में एनडीए के नेतृत्व वाली सरकार में मंत्री बनाया गया है। सूत्र ने कहा, 'पार्टी को एक और मंत्रालय और शायद एक लोकसभा टिकट की पेशकश भी की जा सकती है।'

नीतीश कुमार के दो विरोधियों - सम्राट चौधरी और विजय कुमार सिन्हा की उपमुख्यमंत्री के रूप में नियुक्ति, शपथ ग्रहण समारोह के लिए दिल्ली से एक विशेष विमान में पासवान को ले जाने के साथ-साथ यह संकेत देता है कि भाजपा रियायतों पर जोर देगी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो