scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कुढ़नी उपचुनाव में निषाद वोटरों की बेरुखी दोनों बड़े गठबंधन पर भारी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि मामूली अंतर से कुढ़नी में जीते लोग इतरा रहे हैं।
Written by: गिरधारी लाल जोशी
Updated: December 12, 2022 06:38 IST
कुढ़नी उपचुनाव में निषाद वोटरों की बेरुखी दोनों बड़े गठबंधन पर भारी
सांकेतिक फोटो।
Advertisement

कुढ़नी की हार का बारीकी से जदयू विश्लेषण करेगा। हरेक बूथ की जानकारी ली जाएगी। एक सीट पर चुनाव हारने से किसी दल का आकलन नहीं किया जाता। वहीं राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगतानंद सिंह ने कहा कि कुढ़नी उपचुनाव में हार की वजह परंपरागत वोटों का बिखराव है। भाजपा ने धन बल पर जीत हासिल की है। भाजपा ने हमें हराया है, ऐसी कोई बात नहीं है।

लेकिन अंदरूनी विश्लेषण करने पर जाहिर होता है कि निषाद वोटों पर पकड़ महागठबंधन और भाजपा दोनों की ढीली हुई है। जदयू उम्मीदवार की पराजय निषाद वोट न मिलना है। वहीं वीआईपी के मुकेश साहनी के उम्मीदवार की जमानत जब्त होने के बाद भी वे खुश हैं। और मिठायां बांट रहे हैं। उनकी सोच है कि उनके मतों का बिखराब नहीं हुआ। इससे वीआईपी का आधार और मजबूत हुआ है। यह जाहिर होता है कि महगठबंधन और भाजपा निषाद वोटों की अनदेखी करने से नतीजा नुकसान का हो सकता है।

Advertisement

हालांकि पूर्व राजद विधायक अनिल साहनी भी किसी साहनी को उम्मीदवार न बनाए जाने से नाखुश हैं। इनको अयोग्य करार दिया गया और इनकी वजह से ही उपचुनाव हुआ है। इन्होंने साफ शब्दों में कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए। इस पर नीतीश कुमार ने जबाव दिया कि इनके पिता को और इनको राज्यसभा किसने भेजा? उन पर आरोप थे, इसलिए दोबारा उम्मीदवार नहीं बनाया।

खैर नेताओं की बयानबाजी चलती रहती है। लेकिन मतदान में किसी दल से बेरुखी बड़ा झटका साबित होता है। इसे ऐसे समझा जा सकता है। कुढ़नी उपचुनाव में वोटों की गिनती में एनडीए उम्मीदवार केदार प्रसाद गुप्ता को 76732 मत हासिल हुए। वहीं महागठबंधन के मनोज कुमार को 73074 वोट मिले। मसलन 3658 मतों से जदयू उम्मीदवार की पराजय हुई। इन मतों में साहनी समाज का वोट नहीं है। उनकी नाराजगी ने दोनों दलों से दूरी बनाए रखी।

निषाद जाति के मत यहां तकरीबन 22 हजार है। इस उपचुनाव में 57.9 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। लेकिन निषाद मतदाताओं ने 19 हजार से ज्यादा यानी 86 फीसदी मतदान किया। जो साहनी उम्मीदवारों को मिले वोट बताते हैं। इसमें मुकेश साहनी की पार्टी वीआईपी के उम्मीदवार को 10 हजार वोट मिले। निर्दलीय उम्मीदवार शेखर साहनी को 3716, संजय कुमार (साहनी) को 4250 और उपेंद्र साहनी को 1090 वोट मिले।

Advertisement

इससे एक बात जाहिर हुई कि निषाद वोटरों ने अपने वजूद और सम्मान की खातिर ये एक जुट हुए। भले ही जीत एनडीए की हुई हो। मगर आगे के लिए इनलोगों ने संकेत दिया कि निषाद जाति की अनदेखी बर्दास्त के बाहर है। उपचुनाव में बड़े अंतर की जीत को इनलोगों ने रोक दिया। इससे इनलोगों ने अपनी अहमियत भी दोनों बड़े गठबंधन को समझा दिया। और बता दिया कि इस जाति की अनदेखी आगे भी नुकसान पहुंचा सकती है। हालांकि अभी जदयू और राजद का विश्लेषण चल रहा है। इनका आकलन अभी आना बाकी है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो