scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

BJP नेता सुशील मोदी को कैंसर, पोस्ट में लिखा- PM मोदी को सब बता दिया है, चुनाव में कुछ नहीं कर पाऊंगा

Bihar News: बिहार बीजेपी नेता सुशील मोदी को कैंसर हुआ है। इस बात की जानकारी उन्होंने एक पोस्ट के माध्यम से साझा की है।
Written by: vivek awasthi
Updated: April 03, 2024 12:33 IST
bjp नेता सुशील मोदी को कैंसर  पोस्ट में लिखा  pm मोदी को सब बता दिया है  चुनाव में कुछ नहीं कर पाऊंगा
Former Bihar deputy chief minister Sushil Modi struggling cancer: बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी को कैंसर। (एक्सप्रेस फाइल)
Advertisement

Sushil Modi Struggling Cancer: भाजपा के दिग्गज नेता और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी को कैंसर हुआ है। इस बात की जानकारी उन्होंने बुधवार को खुद अपने एक्स हैंडल पर साझा की। सुशील मोदी ने कहा कि मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बता दिया है कि मैं चुनाव में कुछ नहीं कर पाऊंगा।

Advertisement

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम ने एक्स पर लिखा, 'पिछले 6 माह से कैंसर से संघर्ष कर रहा हूँ । अब लगा कि लोगों को बताने का समय आ गया है । लोक सभा चुनाव में कुछ कर नहीं पाऊँगा । PM को सब कुछ बता दिया है। देश, बिहार और पार्टी का सदा आभार और सदैव समर्पित।'

Advertisement

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद रविशंकर प्रसाद ने सुशील मोदी के स्वास्थ्य पर कहा कि मैं बहुत दुखी हूं। मैं उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

जेपी आंदोलन की उपज हैं सुशील मोदी

नीतीश कुमार और सुशील मोदी बिहार में 70 के दशक के जेपी आंदोलन की उपज हैं। आरएसएस से जुड़े रहे सुशील कुमार मोदी की छात्र राजनीति की शुरुआत 1971 में हुई।

1990 में पहली बार विधानसभा पहुंचे

1990 में सुशील कुमार मोदी ने पटना केन्द्रीय विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा और विधानसभा पहुंचे। साल 2004 में वे भागलपुर लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीते। साल 2005 में उन्होंने संसद सदस्यता से इस्तीफ़ा दिया और विधान परिषद के लिए निर्वाचित होकर उपमुख्यमंत्री बने। यहीं से नीतीश कुमार के साथ उनका साथ शुरू होता है। वो दौर ऐसा था जब नीतीश कुमार बड़े नेता थे और भाजपा जूनियर पार्टनर थी।

Advertisement

बीजेपी को जदयू की B टीम बनाने का आरोप

सुशील मोदी पर आरोप लगते रहे हैं कि उप-मुख्यमंत्री के उनके लंबे कार्यकाल के दौरान भाजपा जनता दल यूनाइटेड की बी-टीम बन कर रह गई थी। साल 2005 में जहां भाजपा को 55 सीटें मिली थीं, 2010 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार 102 सीटों पर लड़े जिनमें 91 पर विजयी हुए। जदयू को 115 सीटें मिलीं। लेकिन एक बार फिर नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने और सुशील मोदी उप-मुख्यमंत्री।

क्या इस वजह से साइडलाइन हो गए सुशील मोदी

कहा तो यहां तक जाता है कि सुशील मोदी के साइडलाइन होने की वजह गुजरे दिनों की घटनाएं और बयान हैं, खासकर उन दिनों जब नरेंद्र मोदी भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर उभर रहे थे। सुशील मोदी को लाल कृष्ण आडवाणी का नज़दीकी माना जाता था।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो