scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दुनिया मेरे आगे: गुम होते पारंपरिक स्वाद और रसोई का अंदाज, आधुनिकता ने बदल दिया खान-पान की पहचान

हमें याद रखना चाहिए कि हमारा भोजन हमें हमारी जड़ों से, हमें खिलाने वाले हाथों से और उन क्षणों से जो हमें आकार देते हैं, सभी से जोड़ने की शक्ति रखता है। इसलिए यह और भी अधिक महत्त्वपूर्ण हो जाता है कि हम उन प्रथाओं का समर्थन करें जो हमारी पाक कला और संस्कृति का सम्मान करती हैं।
Written by: जनसत्ता
नई दिल्ली | Updated: June 01, 2024 09:09 IST
दुनिया मेरे आगे  गुम होते पारंपरिक स्वाद और रसोई का अंदाज  आधुनिकता ने बदल दिया खान पान की पहचान
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर। फोटो-(फ्रीपिक)।
Advertisement

खुशी श्रीवास्तव

Advertisement

हमारा देश भारत अपने विविध और समृद्ध खाद्य संस्कृति के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। मगर यह आज तेजी से बदलते समय के साथ अपने पारंपरिक स्वादों को खोता जा रहा है। मौसम के साथ बदलते व्यंजन और उनके अनूठे स्वाद भारतीय भोजन की पहचान रहे हैं। गर्मी की धूप में पके आम का खट्टा-मीठा स्वाद और ताजे मथे हुए छाछ की ठंडक आदि यह सब एक समय भारतीय रसोई का अभिन्न हिस्सा थे। हालांकि अब यह देखा जा रहा है कि आधुनिकता और वैश्वीकरण के प्रभाव ने इन पारंपरिक स्वादों को बदल दिया है। शहरीकरण के प्रसार और बाजारों की कड़ियों की बढ़ती संख्या ने हमारे खाने की आदतों को प्रभावित किया है।

Advertisement

मिलावट और खाद्य पदार्थों की शुद्धता से होता समझौता भी इन बदलावों का एक प्रमुख कारण है। दूध, जो कभी पोषण और शुद्धता का प्रतीक था, आज मिलावट का शिकार हो चुका है, जिससे उसका स्वाद और गुणवत्ता प्रभावित हो रही है। जो दूध पवित्रता का प्रतीक था, उसे अक्सर पानी और मिलावट से पतला कर दिया जाता है, जिससे उसका समृद्ध स्वाद एक पतले, नीरस तरल पदार्थ में बदल जाता है। आजकल मिलावटी और अन्य खतरनाक सामग्रियों से बना दूध एक अलग समस्या पैदा कर रहा है। इसी तरह, घी की जगह वनस्पति तेलों का उपयोग और पारंपरिक खेती के तरीकों का ह्रास भी हमारे भोजन की गुणवत्ता और स्वाद पर गहरा प्रभाव डाल रहा है।

वर्तमान समय में यह देखा जा रहा है कि पारंपरिक भारतीय व्यंजनों के महत्त्वपूर्ण स्वाद और गंध में धीरे-धीरे गिरावट आ रही है। फलों की विशिष्ट मिठास अब पहले जैसी नहीं रही और दुग्ध उत्पादों और मिष्ठान्न का स्वाद भी पहले जैसा नहीं रह गया। ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि बचपन के बीतते समय के साथ ये सभी स्वाद भी कहीं लुप्त हो गए। आज के बदलते परिदृश्य में न केवल खोए हुए स्वादों की खोज है, बल्कि उन मूल्यों की भी तलाश है, जिन्होंने इन स्वादों को असाधारण बनाया था। पहले के स्वादों को फिर अनुभव करने की यह कोशिश अब हर बार अधूरी ही महसूस होती है, मानो समय के साथ खाद्यान्नों का स्वाद भी खो गया हो। पुराने दौर की सादगी में भोजन परिवार, परंपरा और अपनेपन का उत्सव हुआ करता था। जैसा कि रवींद्रनाथ ठाकुर ने एक बार कहा था, ‘सबसे अच्छा भोजन वह है, जिसके लिए हम सबसे कम कीमत चुकाते हैं; वह भोजन जो हमारे अपने हाथ तैयार करते हैं।’

आज यह देखा जा रहा है कि हमारे शहरों की व्यस्त सड़कें, जो कभी पारंपरिक भोजन विक्रेताओं और मसालों के बाजारों की सुगंध से जीवित थीं, अब शहरीकरण और आधुनिक भोजन केंद्रों की कड़ियों वाली निर्जीव गलियों में बदल गई हैं। हमारे रसोईघर जहां कभी शुद्धता और परंपरा की सुगंध मिलती थी, मिलावट का मौन चोर उसमें घुसपैठ कर चुका है। यह बहुत सूक्ष्मता से हमारे खाद्य की संरचना में घुलमिल गया है और उन्हें उनके वास्तविक स्वाद और गुणों से वंचित कर केवल उनके पूर्व रूप की एक प्रतिध्वनि मात्र बना कर छोड़ा है। देसी घी, जिससे कभी मिष्ठान गहरे स्वाद से समृद्ध बनते थे, उसे अक्सर वनस्पति या अन्य हाइड्रोजनीकृत वसा से बदल दिया जाता है। यह प्रतिस्थापन न केवल स्वाद को घटाता है, बल्कि स्वास्थ्य को भी खतरे में डालता है। आजकल भारतीय भोजन को उसकी विशेष पहचान देने वाले मिर्च-मसालों के विषय में भी बनावटी नकली रंगों, लकड़ी आदि के बुरादे और अत्यधिक रसायनों के प्रयोग की घटनाएं सामने आने लगी हैं। मिलावट ने अब मिर्च-मसालों को भी वंचित नहीं रहने दिया।

Advertisement

पारंपरिक खेती के तरीके, जो ताजगी और प्राकृतिक स्वादों पर जोर देते थे, अब औद्योगिक तकनीकों द्वारा परिवर्तित कर दिए गए हैं जो बड़े पैमाने पर उत्पादन करने की दक्षता पर केंद्रित हैं। छोटे पैमाने से बड़े पैमाने पर खाद्य उत्पादन के इस बदलाव ने हमारे भोजन की गुणवत्ता और स्वाद को नाटकीय रूप से बदल दिया है। कीटनाशकों, जीएमओ और अन्य आधुनिक खेती तकनीकों का उपयोग फलों और सब्जियों के स्वाद को प्रभावित करता है। कीटनाशक अवशेष प्राकृतिक स्वादों को बदलते हैं, जबकि जीएमओ अक्सर पैदावार और कीट प्रतिरोध के लिए तैयार किए जाते हैं, न कि स्वाद के लिए। वैश्वीकरण और अंतरराष्ट्रीय व्यंजनों की उपलब्धता ने भी पारंपरिक स्वादों के प्रति धारणाओं को बदल दिया है। दक्षता की दौड़ में हमने अपनी खाद्य संस्कृति को भारी हानि पहुंचाई है।

Advertisement

इस भागदौड़ के समय में जहां सुविधा अक्सर प्रामाणिकता पर हावी हो जाती है, हमें याद रखना चाहिए कि हमारा भोजन हमें हमारी जड़ों से, हमें खिलाने वाले हाथों से और उन क्षणों से जो हमें आकार देते हैं, सभी से जोड़ने की शक्ति रखता है। इसलिए यह और भी अधिक महत्त्वपूर्ण हो जाता है कि हम उन प्रथाओं का समर्थन करें जो हमारी पाक कला और संस्कृति का सम्मान करती हैं। समय के साथ लुप्त हो रहे पारंपरिक स्वादों की खोज केवल स्वाद की खोज से अधिक है। इन स्वादों को संरक्षित करने में हमें केवल अपने भोजन को बचाने का प्रयास मात्र नहीं करना है, बल्कि अपनी संस्कृति के विशिष्ट हिस्से को फिर से प्राप्त करना है और आने वाली पीढ़ियों के भविष्य के लिए संस्कृति की रक्षा भी करनी है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो