scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दुनिया मेरे आगे: करुणा और प्रेम की राह, भावनाओं की कदर और सम्मान का समर्पण है बड़ा आधार

प्रेम और करुणा के साथ जीने से हम अपने समुदाय के विकास में योगदान कर सकते हैं और एक ऐसे समुदाय का निर्माण करते हैं, जिसमें लोग महत्त्वाकांक्षी, समझदार और समर्थ महसूस करते हैं। प्रेम और करुणा के माध्यम से हम न केवल अपने जीवन को समृद्ध करते, बल्कि मानवता के सामूहिक उत्कर्ष में भी योगदान देते हैं। पढ़ें सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ के विचार।
Written by: जनसत्ता
नई दिल्ली | Updated: July 03, 2024 09:21 IST
दुनिया मेरे आगे  करुणा और प्रेम की राह  भावनाओं की कदर और सम्मान का समर्पण है बड़ा आधार
अपने दिन-प्रतिदिन के जीवन में प्रेम को पहचानने के लिए हमें अपने संबंधों में समर्पण और सहानुभूति दिखाने की आवश्यकता है।
Advertisement

कबीर दास ने कहा था- ‘पोथी पढ़-पढ़ जग मुआ, पंडित भया न कोय। ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय।’ यहां उन्होंने प्रेम की सुंदर परिभाषा दी है। प्रेम हमारे जीवन का वह महत्त्वपूर्ण तत्त्व है, जो हमें खुशहाल और संतुष्ट जीवन जीने की कला सिखाता है। यह हमें समाज में सम्मान और स्नेह का अहसास कराता है और हमारे अस्तित्व को समृद्ध करता है। प्रेम का अर्थ सिर्फ शृंगारिक संबंधों तक सीमित नहीं है, बल्कि यह अपने परिवार, मित्र, समाज और सभी प्राणियों के प्रति एक सजीव और समर्पित भावना को भी स्पष्ट करता है। व्यावहारिक मनोविज्ञान के अनुसार, प्रेम संबंधों में जीवन संतुष्टि की गहरी और स्थायी भावना को प्रकट करता है। यह हमें अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण और अच्छे स्वास्थ्य की दिशा में ले जाता है। विभिन्न अध्ययनों ने दिखाया है कि प्रेम संबंध रक्तचाप को कम करने, मनोदशा को सुधारने, और सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं। हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन में हमें प्रेम के विभिन्न रूपों को पहचानने की आवश्यकता है। यह वह भावना है जो हमें अपने परिवार, मित्र, समाज, और प्राकृतिक जगत के प्रति समर्पित करती है।

Advertisement

अपने दिन-प्रतिदिन के जीवन में प्रेम को पहचानने के लिए हमें अपने संबंधों में समर्पण और सहानुभूति दिखाने की आवश्यकता है। दूसरों की भावनाओं का हमें सम्मान करना चाहिए और उनके साथ मिलजुल कर रहना चाहिए। इसके अतिरिक्त, हमें अपने कार्यों और विचारों में प्रेम को व्यक्त करने का प्रयास एक जरूरी पहलू है। एक छोटे प्रेम भाव से लेकर बड़े संबंधों तक हमें सब पर ध्यान देना और समर्पित भावना के साथ सहयोग करना मानवीय तकाजा है। प्रेम, एक अद्वितीय और समृद्ध भावना है जो मानव जीवन के सभी पहलुओं को सुंदरता से छूती है। यह न केवल सामाजिक, नैतिक, मानसिक रिश्तों को मजबूती देता है, बल्कि दोस्तों, परिवार, पालतू जानवरों और अजनबियों के साथ भी हमारे बंधन को मजबूत और मानवीय बनाता है। इसकी यह विविधता हमें समाज में जुड़े रहने का महत्त्व समझाती है।

Advertisement

प्रेम की एक महत्त्वपूर्ण विशेषता यह है कि यह सीमाओं से परे होता है। यह न केवल जाति के दायरे और धर्म को छोड़ता है, बल्कि पारंपरिक धारणाओं के दायरों को भी तोड़ता है और अन्य स्तर के संबंधों को भी स्वीकार करता है। बारबरा फ्रेडरिकसन के अनुसार, प्रेम कठोर वर्गीकरण को खारिज करता है और विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करता है। प्रेम की असीमित शक्ति हमारे जीवन में सुंदरता और सफलता लाती है। यह हमें समझाता है कि हम सभी में एकता है और हमें दूसरों की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। प्रेम के माध्यम से हम अपने जीवन में सुख, स्रेह, और सहानुभूति की भावना को बढ़ावा देते हैं।

प्रेम एक ऐसी भावना है जो हमें समझने की क्षमता प्रदान करती है। यह हमें दूसरों के साथ सम्मानपूर्वक व्यवहार करने की सीख देती है और हमें अपने आसपास के लोगों के प्रति सहानुभूति और समर्थन दिखाने की प्रेरणा देती है। प्रेम का महत्त्व समझने के लिए इस स्वीकार का साहस जरूरी है कि हमारे समाज में बहुत सारे अनसुलझे सामाजिक मुद्दे हैं। इन मुद्दों में भेदभाव, असमानता, और विवाद शामिल हैं। इन समस्याओं को समझने और समाधान करने की क्षमता भी हमें प्रेम प्रदान करता है। इसके माध्यम से हम अपने समुदाय में एक महत्त्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। हम उन लोगों के साथ सहानुभूति और समर्थन दिखाते हैं जो हमारे समाज के लिए महत्त्वपूर्ण हैं। इससे हमारे समाज में एकता और समरसता का वातावरण बनता है जो हमें और भी समृद्ध बनाता है।

करुणा और प्रेम हमें समझने, समाधान करने और समर्थन देने की क्षमता प्रदान करता है। यह हमारे समाज को मजबूत और समृद्ध बनाता है और हमें एक बेहतर और समर्थन की दिशा में ले जाता है। प्रेम और करुणा की संस्कृति एक महत्त्वपूर्ण और शक्तिशाली विशेषता है जो हमें अद्वितीय बनाती है। यह हमें दूसरों के साथ संबंध बनाने और उनके साथ मिलकर उनके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने की क्षमता प्रदान करती है। प्रेम और करुणा के माध्यम से हम उन्हें बहुत अधिक उत्साहित करते हैं जो हमारे चारों ओर हैं और इससे हमारे आसपास के समुदाय का विकास होता है। यह एक प्रकार का लगाव है जो हमारे जीवन में नए और सकारात्मक परिवर्तन लाते हैं। इसके साथ जीने से हम अपने आसपास के लोगों को भी प्रेरित करते हैं कि वे भी ऐसा करें, जिससे एक सकारात्मक वातावरण का निर्माण होता है जो समाज के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है।

Advertisement

दरअसल, यह एक जीवन-दर्शन है जिसके सहारे हमें सभी के साथ उदार और समझदार बनने में मदद मिलती है। प्रेम और करुणा के साथ जीने से हम अपने समुदाय के विकास में योगदान कर सकते हैं और एक ऐसे समुदाय का निर्माण करते हैं, जिसमें व्यक्ति महत्त्वाकांक्षी, समझदार और समर्थ महसूस करते हैं। प्रेम और करुणा के माध्यम से हम न केवल अपने जीवन को समृद्ध करते, बल्कि मानवता के सामूहिक उत्कर्ष में भी योगदान देते हैं। इस दुनिया में, जो अक्सर विभाजन और कलह से भरी होती है, हमारे आसपास मौजूद प्रेम की प्रचुरता को पहचानने और उसे अपनाने के महत्त्व को कम करके नहीं आंका जा सकता है। प्रेम की बहुमुखी प्रकृति को अपनाने और सभी रिश्तों को पोषित करने से हम जुड़ाव, कृतज्ञता और पूर्णता की गहरी भावना विकसित करते हैं। जैसे-जैसे हम जीवन की यात्रा करते हैं, हम अपने आसपास मौजूद प्रेम को स्वीकार करने और उसकी सराहना करने के लिए रुकना चाहिए।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो