scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दुनिया मेरे आगे: फोटोग्राफी की दुनिया और हमारा जीवन, कैमरे के चमत्कारी आविष्कार ने बदल दी सोच

कैमरे ने हमारे आसपास की दुनिया को कैद करने और साझा करने की अपनी शक्ति के साथ हमारे जीवन को कई बेतुके और प्रफुल्लित करने वाले तरीकों से बदल दिया है। पढ़ें सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ का लेख।
Written by: जनसत्ता
नई दिल्ली | Updated: February 26, 2024 09:42 IST
दुनिया मेरे आगे  फोटोग्राफी की दुनिया और हमारा जीवन  कैमरे के चमत्कारी आविष्कार ने बदल दी सोच
‘प्रभावशाली लोगों’ के उदय के साथ फोटो खींचने की लत और अधिक बढ़ गई है। (Image: Zohaib Ahmed/Indian Express)
Advertisement

आज कैमरा भले सर्वव्यापी दिख रहा हो, मगर शुरू में यह एक चमत्कारी आविष्कार था, जिसने हमारे जीवन का दस्तावेजीकरण करने और यादें साझा करने के तरीके को पूरी तरह से बदलकर रख दिया। इसमें सबसे सुंदर क्षणों को कैद करने, समय को स्थिर रखने और हमारी बेतुकी हरकतों को चिरस्थायी रखने की शक्ति है। कैमरे से अब केवल विशेष अवसरों की तस्वीरें ही संरक्षित नहीं की जातीं, बल्कि अब यह आम क्षणों का गवाह भी बन रहा है. इससे अब मनचाहे वक्त को कैद किया जाता है।

कैमरे ने सभी को अपनी तस्वीर तैयार करने वाले विशेषज्ञ बना दिए

एक उदाहरण से सब परिचित हो चुके हैं कि मोबाइल के साथ अभिन्न हो चुके कैमरे ने हम सभी को अपनी तस्वीर तैयार करने वाले विशेषज्ञों में बदल दिया है। हर व्यक्ति हर समय अपने निजी ‘पपराजी’ उपकरण से लैस होता है। पपराजी उस फोटोग्राफर को कहा जाता है जो अभिनेता, नेता, राजनेता की दिनचर्या के फोटो खींचता है।

Advertisement

तकनीकी की सुविधा ने तस्वीरों को उन्नत बनाने में बड़ी मदद की

क्या हम किसी कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए एक त्वरित तस्वीर खिंचवाना चाहते हैं? अगर खुद कैमरे का कोण बना सके तो ठीक, वरना फोटोग्राफर सामने खड़ा होगा और सबसे आकर्षक रोशनी के लिए बस कैमरे को झुकाने के साथ एक मुद्रा बनानी होगी और खिंच जाएगी आत्म-महिमा। इसमें भी ‘सेल्फी’ के लिहाज से देखें तो ‘फिल्टर’ और संपादन ‘ऐप’ की अंतहीन शृंखलाओं की चर्चा स्वाभाविक रूप से आती है, जो जादुई रूप से किसी भी साधारण तस्वीर को कला की उत्कृष्टता के रूप में बदल देती है। जब ‘फिल्टर’ में कुत्ते के कान और सिर पर एक चमकदार प्रभामंडल लगाई जा सकने वाली सुविधा हो तो लोगों को अपने जैसा दिखने की जरूरत ही क्या है?

आखिर जीवन का दस्तावेजीकरण करने का क्या मतलब है, अगर यह सर्वोत्तम आभासी स्व को प्रदर्शित नहीं करता है? ‘स्पष्ट’ तस्वीर की शृंखला को जानने की कोशिश की जाए तो अगर हमारे भोजन के अनुभवों पर कैमरे के प्रभाव के बारे में बात नहीं हो तो कैमरा दुखी हो जाएगा! केवल भोजन का आनंद लेने के बजाय हमें खाने पर विचार करने से पहले हर कल्पनात्मक कोण से प्रत्येक व्यंजन की तस्वीर खींचनी होती है। भोजन का सावधानीपूर्वक ‘दस्तावेजीकरण’ करना ‘महत्त्वपूर्ण’ है, अन्यथा हर किसी को कैसे पता चलेगा कि हमने नाश्ते में या खाने में क्या खाया था..! खाद्य फोटोग्राफी की बात करते हुए हर भोजन, हर नाश्ते और हर सहज काफी के वक्त का ‘दस्तावेजीकरण’ करने वाले अंतहीन सोशल मीडिया पोस्ट को कैसे भूला जा सकता है? हम सभी शौकिया खाद्य आलोचक और पेशेवर खाद्य फोटोग्राफर बन गए हैं।

Advertisement

‘प्रभावशाली लोगों’ के उदय के साथ फोटो खींचने की लत और अधिक बढ़ गई है। इस कारण ऐसे प्रभावशाली लोग आत्म-प्रचार की कला को नई ऊंचाइयों पर ले गए हैं और बड़ी संख्या में ‘अनुयायियों’ को यह विश्वास दिलाने में कामयाब रहे हैं कि उनका जीवन कभी न खत्म होने वाली छुट्टियों से कम नहीं है। इस बीच ‘टैगिंग’ का रोमांच भी आता है। अच्छे मनोरंजन के नाम पर सबसे समझौतावादी, अप्रिय क्षणों में दोस्तों की तस्वीरें कैद करना और साझा करना।

किसी के सोशल मीडिया खाते पर नजर दौड़ाने और छींक आने के बीच में किसी आनंदमय तस्वीर पर ठोकर खाने की खुशी और किसी तरह सिर पर किसी ने ‘वी शेप’ यानी जीत के इशारे वाली की दो अंगुलियां धर दीं! समय अब ऐसा आ चुका है कि हम केवल जीवन का अनुभव करने से संतुष्ट नहीं हो पा रहे हैं। हमें भावी पीढ़ी के लिए भी इसे सावधानीपूर्वक संभालकर रखना पड़ रहा है। भले ही कोई वास्तव में बिल्ली की जम्हाई लेते हुए ‘दो सौ तिहत्तरवीं’ तस्वीर देखना चाहता हो या फिर नहीं।

अगली शृंखला में वैसे लोगों को देखा जा सकता है जो चालाकी से खुद को फोटो की पृष्ठभूमि में छिपा लेते हैं और जिसके परिणामस्वरूप उन्हें अनपेक्षित प्रफुल्लता प्राप्त होती है। चाहे वे फोटो में अंगूठा दिखाते हों या फिर एक नासमझ चेहरा! ऐसे लोग आमतौर पर छिपे रहते हैं और अपनी हरकतों से किसी की स्थिर तस्वीर पर हावी होने के लिए तैयार रहते हैं। निगरानी और निरंतर दस्तावेजीकरण के इस युग में हम अपनी हर गतिविधि पर नजर रखने वाले सुरक्षा कैमरों की उपस्थिति के आदी हो गए हैं। यह लगभग वैसा ही है, जैसे हम सभी अपने ‘रियलिटी टीवी शो’ के अनजाने सितारे हैं, जो अदृश्य दर्शकों द्वारा चुपचाप देखे जाने के बावजूद अपना जीवन जी रहे हैं। आजकल ड्रोन फोटोग्राफी की बढ़ती मांग को देखकर इसे नजरअंदाज करना कठिन हो गया है।

इन हवाई कैमरों ने सचमुच ताक-झांक को नई ऊंचाइयों पर पहुंचा दिया है। अब हम केवल जमीन से जीवन का दस्तावेजीकरण करने से संतुष्ट नहीं हैं, अब हमारे पास अपने पड़ोसियों की जासूसी करने या बिना सोचे-समझे धूप सेंकने वालों के गुप्त हवाई फोटो लेने की क्षमता आ गई है। ऊपर से गूंजते हुए ड्रोन द्वारा निगरानी किए जाने से बेहतर कुछ भी ‘स्वतंत्रता’ नहीं है। कैमरे ने हमारे आसपास की दुनिया को कैद करने और साझा करने की अपनी शक्ति के साथ हमारे जीवन को कई बेतुके और प्रफुल्लित करने वाले तरीकों से बदल दिया है। हालांकि इसने निश्चित रूप से हमें एक-दूसरे के करीब ला दिया है और हमें अपने अनुभवों का दस्तावेजीकरण करने में सक्षम बनाया है। इसने हमें जुनूनी, निगरानी के प्रति जागरूक और अंतहीन तस्वीरें खींचने वाले व्यक्तियों के समाज में भी बदल दिया है। फिर भी कम से कम हमारे पास बुजुर्ग और झुर्रीदार होने पर देखने के लिए कुछ बेहतरीन तस्वीरें होंगी!

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो