scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दुनिया मेरे आगे: हृदय और मस्तिष्क मानव चेतना के अभिन्न अंग

मनुष्य के रूप में निर्णय लेते समय हृदय और तर्क, दोनों से परस्पर जूझना स्वाभाविक है। मगर इसका मतलब यह नहीं है कि हम इसके आसपास प्रभावी ढंग से काम नहीं कर सकते।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: March 09, 2024 03:24 IST
दुनिया मेरे आगे  हृदय और मस्तिष्क मानव चेतना के अभिन्न अंग
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -सोशल मीडिया)।
Advertisement

प्रत्यूष शर्मा

जीवन में चुनौतियां और सही निर्णय दोनों जरूरी हैं। ये हमें इस बात पर विचार करने के लिए प्रेरित करते हैं कि क्या हमें अपनी भावनाओं की सुननी चाहिए या तार्किक विश्लेषण पर टिके रहना चाहिए। इसे दिल बनाम दिमाग के प्रतीक के रूप में देखा जाता है। इनका यह आंतरिक संघर्ष लगभग सभी व्यक्तियों को उनकी पूरी जीवन यात्रा के दौरान महसूस होता है। इसके कई उदाहरण हो सकते हैं।

Advertisement

मसलन, एक स्थिर नौकरी बनाम एक अप्रत्याशित व्यावसायिक उद्यम। एक आरामदायक रिश्ते को निभाना बनाम अनिश्चितता से भरे रिश्ते का पीछा करना। मिठाइयों का सेवन बनाम पौष्टिक भोजन का विकल्प आदि। हृदय और मस्तिष्क मानव चेतना के अभिन्न अंग हैं। ये घटक केवल शारीरिक अंग नहीं हैं, बल्कि मानवीय विचार प्रक्रियाओं और निर्णय लेने की क्षमताओं के विभिन्न पहलुओं का प्रतीक भी हैं।

सामान्यतया, प्रेम, जुनून, सहानुभूति और अंतर्ज्ञान जैसी भावनात्मक इच्छाएं किसी के दिल से उत्पन्न होती हैं। ये सब ऐसे मूल्य हैं जो हमारे भीतर गहरी जड़ें जमा लेते हैं और हमारी जीवन यात्रा के दौरान अनुभव के माध्यम से अवचेतन रूप से हमारा मार्गदर्शन करते हैं। जब भी कोई व्यक्ति इन भावनाओं को प्राथमिकता देता है तो इसका आमतौर पर मतलब होता है कि वह ‘अपने दिल की सुन रहा है’। वहीं निर्णय लेने की प्रक्रिया में किसी व्यक्ति द्वारा अपने मस्तिष्क का उपयोग करना या तार्किक सोच के आधार पर निर्णय लेना शामिल है। यहां मस्तिष्क आखिर जीवन विकल्पों के संबंध में भावनात्मक मूल्यों के बजाय व्यावहारिक विचारों पर निर्भर करता है।

जब दिल बनाम दिमाग के मामले की बात आती है, तो एक जटिल अंतर्संबंध मौजूद होता है, जो वास्तविक जीवन के परिदृश्यों में चलता है और तदनुसार हमारे निर्णयों को आकार देता है। उदाहरण के तौर पर ऐसी स्थिति की कल्पना की जा सकती है, जहां किसी के पास सुरक्षित उच्च-भुगतान वाली नौकरी है, फिर भी वह अपने जुनून के अनुरूप उद्यमशील बनकर उद्यम को आगे बढ़ाने की इच्छा रखता है। मन काम पर बने रहने का सुझाव देगा, क्योंकि यह वित्तीय स्थिरता प्रदान करता है और नए सिरे से शुरुआत करने के साथ आने वाली अनिश्चितताओं का सामना करता है, जबकि महत्त्वाकांक्षाएं उसके दिल में उत्साह जगाती हैं।

Advertisement

एक ऐसी स्थिति कितनी जटिल होगी, जिसमें यह सवाल हमें द्वंद्व में डाल दे कि हम भावनात्मक रूप से क्या महसूस करते हैं और तार्किक रूप से हमें क्या करना चाहिए। ऐसी कठिनाई हमारे जीवन पथ को महत्त्वपूर्ण रूप से आकार दे सकती है।आनंद, उत्साह और प्रेम जैसी सकारात्मक भावनाएं हमें कुछ ऐसे कार्य करने के लिए प्रेरित करती हैं जो हमारे द्वारा निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करते हैं।

हालांकि सभी भावनाएं सकारात्मक नहीं हैं। भय, क्रोध या उदासी जैसी नकारात्मक बातें हमें जड़ बना दे सकती हैं या अवांछित दिशाओं में धकेल सकती हैं। भावनाओं का प्रतिनिधित्व करने वाला हृदय एक सहज मार्गदर्शक के रूप में कार्य करता है जो लोगों को उनके अपने मूल्यों के साथ संरेखित करते हुए जुनून की ओर ले जाता है। हालांकि एक तर्कसंगत विचार प्रक्रिया होने से लोगों को उन आंतरिक भावनाओं को संतुलित करने में मदद मिलती है।

मनुष्य के रूप में निर्णय लेते समय हृदय और तर्क, दोनों से परस्पर जूझना स्वाभाविक है। मगर इसका मतलब यह नहीं है कि हम इसके आसपास प्रभावी ढंग से काम नहीं कर सकते। एक स्वस्थ जीवनशैली, जिसमें व्यायाम वाली दिनचर्या, संतुलित भोजन और नियमित गहरी नींद शामिल है, मानसिक-भावनात्मक स्वास्थ्य संतुलन बनाए रखने में सहायक सिद्ध होती है। हमें अपने विचारों और कार्यों को प्रभावित करने वाली भावनाओं को समझ कर भावनात्मक बुद्धिमत्ता को उन्नत करना चाहिए।

किसी भी विचार पर अंतिम निर्णय लेने से पहले अपनी भावनाओं की वैधता और संभावित परिणामों का विचारशील मूल्यांकन करने का प्रयास करना चाहिए औरÞ संतुलित निर्णय लेना चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि हम जो निर्णय लेते हैं, उसका श्रेय दिल और दिमाग दोनों को मिले। एक ऐसा निर्णय लेने की दिशा में काम करना चाहिए, जहां हम जो चुनते हैं, वह हमारी भावनाओं के अनुरूप तो हो, लेकिन साथ ही तर्क का भी अनुपालन करता हो।

आंतरिक संघर्ष पर काबू पाने के लिए अपने मूल मूल्यों को पहचानना महत्त्वपूर्ण है। इस बात पर विचार करने की जरूरत है कि वास्तव में हमारे लिए क्या मायने रखता है, हम किसके लिए खड़े हैं और क्या चीज हमें वास्तविक संतुष्टि प्रदान करती है। अपने निर्णयों को अपने मूल्यों के साथ जोड़कर हम अपने मस्तिष्क और हृदय के बीच सामंजस्य बना सकते हैं। जो निर्णय दोनों पहलुओं को संतुष्ट करता है, उससे दीर्घकालिक खुशी और संतुष्टि मिलने की संभावना अधिक होती है।

जब आंतरिक संघर्षों को सुलझाने की बात आती है तो हर कोई स्व-सहायता तकनीकों से लाभ उठा सकता है, लेकिन अगर मुद्दे बहुत जटिल हो जाते हैं तो पेशेवर मार्गदर्शन प्राप्त करना कभी-कभी आवश्यक हो सकता है। सार्थक बातचीत से हमें विभिन्न दृष्टिकोणों से बात को समझने में मदद मिलती है, जो असली स्थिति के बारे में हमारी समझ को व्यापक बना देती है। विश्वसनीय मार्गदर्शन, मस्तिष्क और हृदय के बीच मध्यस्थ के रूप में काम करता है, जिससे हमें एक संतुलित और सही दृष्टिकोण रखने में मदद मिल सकती है। तर्क के साथ भावनाओं को संतुलित करना व्यक्तिगत विकास, करिअर में प्रगति और समग्र कल्याण के लिए महत्त्वपूर्ण है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो