scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दुनिया मेरे आगे: शांति और खुशी के लिए अपने विचारों में सकारात्मकता लाएं

आध्यात्मिक ज्ञान हमें करुणा, सहानुभूति, नैतिक मूल्य और सच्चाई की ओर ले जाते हैं।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 09, 2024 10:34 IST
दुनिया मेरे आगे  शांति और खुशी के लिए अपने विचारों में सकारात्मकता लाएं
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

प्रत्यूष शर्मा

कर्म शब्द संस्कृत शब्द कर्मण से आया है जिसका अर्थ है क्रिया। कर्म के सिद्धांत में कहा गया है कि किसी व्यक्ति द्वारा किया गया कोई भी कार्य अपने पीछे एक प्रकार की शक्ति छोड़ जाता है, जो भविष्य में उसके लिए अच्छे या बुरे के अनुसार खुशी या दुख निर्धारित करने की शक्ति रखता है। इस नियम के अनुसार नैतिक जगत में जैसा हम बोते हैं, वैसा ही काटते हैं।

Advertisement

दरअसल, कर्म एक बैंक खाता खोलने जैसा है। हमारे पास विकल्प हैं कि हम अपने शेष में कितना पैसा जोड़ना चाहते हैं या कितना निकालना चाहते हैं। हम अपने खाते में जो उपलब्ध है, उसे बढ़ाने के लिए अलग-अलग निवेश करना चुन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप ब्याज मिलेगा। चुनाव हमें करना है। प्रत्येक दिन हम चुन सकते हैं कि क्या हम उन विचारों, शब्दों और कार्यों में संलग्न होना चाहते हैं, जिनका अच्छा परिणाम होगा, जो हमारे पास वापस आएगा। हम विचारों, शब्दों और कर्मों में भी शामिल हो सकते हैं, जिसका नतीजा हमें भुगतना होगा। हम ऐसे काम भी चुन सकते हैं जो संतुलन बनाते हैं।

परिसंपत्तियों और देनदारियों का कुशल प्रबंधन किसी भी कुशल वित्तीय प्रबंधन प्रणाली का आधार बनता है। बड़ी कारपोरेट कंपनियां व्यावसायिक सफलता की तलाश में परिसंपत्तियों की बढ़ोतरी और देनदारियों में कमी के लिए प्रयास करती हैं। सरल शब्दों में, संपत्ति वह है जो हमारे पास है और देनदारियां वह हैं जो हम पर दूसरों का बकाया है। आध्यात्मिक भाषा में भी, आत्मज्ञान की खोज में संपत्ति और देनदारियां सर्वोपरि महत्त्व रखती हैं। आध्यात्मिक संपत्ति करुणा, सहानुभूति, नैतिक मूल्य, सच्चाई आदि वे गुण हैं, जो हमें सही दिशा में ले जाते हैं।

Also Read
Advertisement

दुनिया मेरे आगे: समस्या का सामना करना ही है समस्या का अंत

देनदारियां, बेईमानी, ईर्ष्या, स्वार्थ आदि जैसे नकारात्मक लक्षण हैं जो मानव जीवन को एक दयनीय मामला बना देती हैं और निशिचत रूप से इसके परिणाम भी होते हैं। आध्यात्मिक दृष्टिकोण से मनुष्य में नकारात्मक लक्षणों की तीव्रता को कम या समाप्त करके देनदारियों को संपत्ति में बदलने की क्षमता है। समय के साथ, मूल्यों के क्षरण और नैतिक मानकों के पतन के साथ संपत्तियां भी देनदारियों में बदल सकती हैं।

Advertisement

दैनिक जीवन में वित्तीय और आध्यात्मिकता के बीच कई समानताएं हैं। कंपनियां धन उधार लेती हैं और बाद में ब्याज सहित चुकाती हैं। हम दयालुता, करुणा या समय पर मदद के किसी भी कार्य के ऋणी हो जाते हैं, जिसके लिए हम मुस्कुराहट, स्वीकृति और कृतज्ञता के रूप में ब्याज देते हैं। दयालुता के ऐसे ही कृत्यों के माध्यम से मूल राशि उचित समय पर चुका दी जाती है।

तब तक हम कृतज्ञता की भावना के साथ नियमित रूप से मासिक किस्तें यानी दूसरे अर्थ में भारी मानसिक ऋणग्रस्तता का भुगतान करते हैं। कंपनियां कम ऋण स्तर और उच्च ‘इक्विटी’ बनाए रखने का प्रयास करती हैं, ताकि ब्याज का बोझ सहनीय सीमा के भीतर रहे, जो वित्तीय रूप से विवेकपूर्ण उपाय है। इसी प्रकार, हमारे लिए यह बेहतर है कि हम अपने कर्म संतुलन को सकारात्मक बनाए रखने के लिए जितना प्राप्त करते हैं, उससे कहीं अधिक दें। कंपनियां कम खर्च रखकर उच्च दक्षता के लिए संघर्ष करती हैं और गैर-चलती अपने प्रतिद्वंद्वियों को खत्म करने का प्रयास करती हैं।

व्यक्तियों को भी सभी विचारों, योजनाओं और शक्तियों को मानव जाति और समाज की भलाई के उद्देश्य से बेहतर मूल्य आधारित नतीजों में बदलने का प्रयास करना चाहिए। इस प्रक्रिया में हमारे सभी उद्यमों में प्रगति प्राप्त करने के लिए स्थिर नकारात्मक विचारों, विश्वासों और भावनाओं को समाप्त करना होगा। हमारे कार्मिक संतुलन का कंपनी के हिसाब-किताब की डायरी में शुद्ध लाभ है, जिसके लिए लोग उत्कृष्ट परिणामों की तलाश में मेहनत करते हैं।

उत्कृष्ट तैयार उत्पादों को वितरित करने के लिए संगठनों द्वारा उपयुक्त उपकरणों और उचित तकनीक का उपयोग किया जाता है। जैसे प्रौद्योगिकी परिचालन उत्कृष्टता में योगदान देती है, वैसे ही मानव शक्ति और प्रयास की क्षमता हमारे जीवन को बदलने और सही दिशा में आगे बढ़ने के लिए महत्त्वपूर्ण है। बौद्ध धर्म भी स्थायी शांति और खुशी के लिए नकारात्मक भावनाओं पर काबू पाकर मन की सकारात्मक स्थिति की भूमिका को दोहराता है।

हम कभी-कभी खुद को ऐसी कठिन परिस्थितियों में पाते हैं जो हमारे नियंत्रण से परे लगती हैं। कठिन घटनाओं को अपनी अपरिवर्तनीय नियति के रूप में देखने के बजाय हम उन्हें अपने जीवन की स्थिति में क्रांतिकारी बदलाव लाने और अच्छे जीवन मूल्य बनाने के मिशन के रूप में देखते हैं। इस तरह ऐसी चुनौतियों से न हार कर हम अपने ऊपर पड़ने वाले उनके नकारात्मक प्रभाव को कम करते हैं। वास्तव में हम समान संघर्षों से गुजर रहे लोगों को बेहतर ढंग से समझने और प्रोत्साहित करने के लिए अपनी चुनौतियों को सकारात्मक ऊर्जा में बदल सकते हैं। हम अपने कर्म को बदलते हैं और अपने वातावरण में सकारात्मक परिवर्तन की तरंगें भेजते हैं।

कर्म के मुताबिक उसके नतीजे आने स्वाभाविक हैं। हमें सार्थक, शांतिपूर्ण और खुशहाल जीवन जीने के लिए अपनी संपत्ति को बढ़ाकर और अपनी देनदारियों को खत्म करके अपने जीवन और दिनचर्या को बेहतर और सकारात्मक बनाने का प्रयास करना चाहिए। इस प्रक्रिया में हम आगे तभी बढ़ सकते हैं, जब हम नकारात्मक भावनाओं से दूर रहें और बेहतर इंसान बनने के लिए अपने विचारों और कार्यों में सकारात्मकता और मानसिक संतुलन ला पाएं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो