scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

MBBS डिग्री होल्डर देता था सर्जरी की सलाह, कैदियों को जेल से निकालने के लिए किया फर्जीवाड़ा, जानिए कैसे चढ़ा HC के हत्थे

एमएल पटेल खुद को MBBS, MRSM बताता था। MRSM का मतलब मेंबर ऑफ रॉयल सोसायटी ऑफ मेडिसिन है। ये कोई डिग्री नहीं है। बल्कि डॉक्टर ने इस इंस्टीट्यूट की मेंबरशिप ले रखी थी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: शैलेंद्र गौतम
May 30, 2023 14:03 IST
mbbs डिग्री होल्डर देता था सर्जरी की सलाह  कैदियों को जेल से निकालने के लिए किया फर्जीवाड़ा  जानिए कैसे चढ़ा hc के हत्थे
(प्रतीकात्मक फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)
Advertisement

गुजरात में एक अनूठा तरह का मामला सामने आया है। एक ऐसे चिकित्सक को गुजरात हाईकोर्ट ने सूरत पुलिस के हवाले किया है जिसके पास डिग्री तो MBBS की थी। लेकिन कैदियों को जेल से निकालने के लिए वो सर्जरी एडवाइज कर देता था। हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया है कि वो डॉक्टर के इतिहास भूगोल को जांचे और सारी रिपोर्ट उनके सामने पेश करे। अदालत का मानना है कि डॉक्टर संगीन अपराध में लिप्त रहा है।

Advertisement

दरअसल ये मामला तब सामने आया जब हाईकोर्ट के सिंगल जज एमके ठक्कर ने एक जमानत याचिका की सुनवाई की। दिलीप गौड़ा नामके शख्स ने ड्रीम्ज मल्टी स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल की तरफ से जारी एक मेडिकल सर्टिफिकेट के आधार पर जमानत देने की अपील की थी। ये डॉ. एमएल पटेल की तरफ से जारी किया गया था। जस्टिस ठक्कर ने सर्टिफिकेट को देखने के बाद कहा कि सेशन कोर्ट ने भी एक डॉक्टर की डिग्री को लेकर टिप्पणी की थी। उन्होंने रिकार्ड चेक कराया तो पता चला कि जिस डॉक्टर के खिलाफ लोअर कोर्ट ने टिप्पणी की थी वो एमएल पटेल ही था।

Advertisement

लोअर कोर्ट के फैसले से खुली हाईकोर्ट की आंख

ट्रायल कोर्ट ने एमएल पटेल की डिग्री चेक की तो पता चला कि वो खुद को MBBS, MRSM बताता था। MRSM का मतलब मेंबर ऑफ रॉयल सोसायटी ऑफ मेडिसिन है। ये इंग्लैंड से जुड़ी है। लोअर कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा था कि MRSM कोई डिग्री नहीं है। बल्कि डॉक्टर ने इस इंस्टीट्यूट की मेंबरशिप ले रखी थी। डॉक्टर के पास MBBS की डिग्री है। लेकिन वो किसी भी सूरत में सर्जरी एडवाइज नहीं कर सकता है। ट्रायल कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि एमएल पटेल कई अस्पतालों के नाम पर जाली दस्तावेज जारी करता रहता था, जिससे कैदियों को जमानत मिल सके।

डॉक्टर खुद भी रेप और जालसाजी के कई मामलों में लिप्त

लोअर कोर्ट ने अपने आदेश में लिखा कि डॉक्टर ने जो सर्टिफिकेट जारी किए उनमें अलग अलग पते दर्ज थे। वो कई तरह की आपराधिक वारदातों में भी लिप्ट रहा है। उसके खिलाफ रेप, जालसाजी और मोटर व्हीकल एक्ट के तहत केस दर्ज हैं। ट्रायल कोर्ट ने कहा कि वो आदतन अपराधी है।

हाईकोर्ट के जस्टिस एमके ठक्कर ने अपने आदेश में सूरत पुलिस से कहा कि डॉक्टर की सारी जन्म कुंडली निकाली जाए। उसने कितने कैदियों को मेडिकल सर्टिफिकेट जारी किए हैं, सबका पता लगाया जाए। उसने विगत में कौन कौन सी वारदातें की वो भी निकाली जाए। सुनवाई 8 जून को होगी।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो