scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

वकीलों ने नहीं लड़ा केस तो आरोपी को हो गई सजा, दूसरे केस में भी बार ने अपनाया वही रुख, हाईकोर्ट ने ट्रांसफर किया ट्रायल

आरोपी ने गुजरात हाईकोर्ट से गुहार लगाई कि वो खुद अपने केस की पैरवी कर रहा है। लेकिन उसे लगता है कि वो अपना बचाव नहीं कर पाएगा। ऐसे तो उसे बेवजह सजा हो जाएगी।
Written by: shailendragautam
Updated: April 09, 2023 20:22 IST
वकीलों ने नहीं लड़ा केस तो आरोपी को हो गई सजा  दूसरे केस में भी बार ने अपनाया वही रुख  हाईकोर्ट ने ट्रांसफर किया ट्रायल
(प्रतीकात्मक फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)
Advertisement

गुजरात के भुज में एक अनोखा मामला देखने को मिला। एक आरोपी का केस लड़ने को कोई भी वकील तैयार नहीं था। यहां तक कि मुफ्त लीगल एड मुहैया कराने वाली DLSA भुज भी उसकी कोई सहायता नहीं कर सकी। आरोपी ने गुजरात हाईकोर्ट का रुख किया। उसने गुहार लगाई कि वो खुद अपने केस की पैरवी कर रहा है। लेकिन उसे लगता है कि वो अपना बचाव नहीं कर पाएगा। ऐसे तो उसे बेवजह सजा हो जाएगी।

गुजरात हाईकोर्ट ने आरोपी की आशंका को सही माना। हाईकोर्ट ने उसके केस को तुरंत प्रभाव से पड़ोस के मोरबी जिले में ट्रांसफर करने का आदेश दिया। जस्टिस इलेश जे वोरा ने अपने फैसले में कहा कि उसे आरोपी की आशंका सही लगती है, क्योंकि भुज की बार एसोसिएशन ने प्रस्ताव पास कर रखा है कि कोई भी वकील उसका केस नहीं लड़ेगा। इसी वजह से DLSA भी उसे सहायता मुहैया नहीं करा पा रही है।

Advertisement

हाईकोर्ट ने भुज से मोरबी ट्रांसफर किया केस

जस्टिस इलेश जे वोरा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का भी मानना है कि किसी भी मामले में आरोपी को फेयर ट्रायल का अवसर मिलना चाहिए। बार का रुख देखते हुए हमें लगता है कि भुज में आरोपी को न्याय नहीं मिल सकेगा। कोई वकील उसकी पैरवी ही नहीं करेगा तो वो अपने पक्ष को अदालत के सामने कैसे रख सकेगा। लिहाजा उसके केस को दूसरे जिले में ट्रांसफर करने के अलावा और कोई विकल्प हमें नहीं दिखाई देता।

आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 504, 506(2) के तहत भुज के एडिशनल जूडिशियल मजिस्ट्रेट फर्स्ट क्लास की कोर्ट में मामला विचाराधीन है। पुलिस ने उसके खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है। अभी अदालत उस पर चार्ज फ्रेम करने की प्रक्रिया शुरू करने वाली है।

Advertisement

वकीलों ने नहीं लड़ा केस तो हो गई थी एक साल की सजा

आरोपी ने हाईकोर्ट को दी अपनी दरखास्त में बताया कि पहले भी वकीलों की वजह से उसे एक मामले में बेवजह की सजा हो चुकी है। उस मामले में भी किसी भी वकील ने उसका केस नहीं लड़ा था। वो अपने केस की पैरवी ही नहीं कर पाया तो कोर्ट ने उसे एक साल की सजा सुना दी थी। जस्टिस इलेश जे वोरा ने भी माना कि पहले वाले केस में भी आरोपी को फेयर ट्रायल का मौका नहीं मिल सका था। ये कानून के राज के मुताबिक नहीं है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो