scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

नोटबंदी ने अपने तीनों लक्ष्यों को हासिल किया या नहीं! गुजरात हाई कोर्ट के जस्टिस वैष्णव बोले - Not Sure

नोटबंदी के उद्देश्यों की पूर्ति को लेकर जस्टिस बीरेन वैष्णव ने कहा सुप्रीम कोर्ट के प्रति सम्मान के साथ हम सभी फैसले से बंधे हैं।
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: March 19, 2023 15:07 IST
नोटबंदी ने अपने तीनों लक्ष्यों को हासिल किया या नहीं  गुजरात हाई कोर्ट के जस्टिस वैष्णव बोले   not sure
गुजरात हाई कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस बीरेन वैष्णव (express photo)
Advertisement

गुजरात हाई कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस बीरेन वैष्णव ने आशंका व्यक्त की कि क्या नोटबंदी के उद्देश्यों को पूरा किया गया। जस्टिस ने कहा कि नोटबंदी का मुख्य उद्देश्य नकली रुपयों, काले धन और आतंक की फंडिंग को खत्म करने का था। बता दें कि इसी साल सुप्रीम कोर्ट ने बहुमत के आधार पर नोटबंदी के पक्ष में फैसला सुनाया था।

कुछ मामलों का हवाला देते हुए जिसमे न्यायिक फैसलों ने अर्थव्यवस्था की रूपरेखा को आकार दिया है, जस्टिस वैष्णव ने यह भी कहा कि हमें विचार करने की आवश्यकता है कि क्या अदालतों के लिए हमेशा उन सवालों में हस्तक्षेप करना उचित है जो आर्थिक मामलों से जुड़े हैं। जस्टिस वैष्णव GNLU सेंटर फॉर लॉ एंड इकोनॉमिक्स द्वारा आयोजित कानून, शासन और सार्वजनिक नीति के आर्थिक विश्लेषण पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में बोल रहे थे।

Advertisement

नोटबंदी को सही ठहराने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उल्लेख करते हुए जस्टिस वैष्णव ने कहा, "8 नवंबर, 2016! मुझे यकीन है कि हम सभी अभी भी रात 8 बजे प्रधान मंत्री की उस प्रेस कॉन्फ्रेंस से कांपते हैं, जब उन्होंने कहा था कि बड़ी मुद्राओं का विमुद्रीकरण किया गया। हमें रातों-रात अचानक पता चला कि हमारे पास कोई लीगल टेंडर नहीं बचा है। क्या हम एटीएम या बैंकों में उन लाइनों को भूल सकते हैं? जनता को काफी पीड़ा झेलनी पड़ी। छह साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने 4:1 के फैसले में कहा कि निस्संदेह नोटबंदी के कारण नागरिकों को विभिन्न कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, लेकिन अदालत ने कहा कि नकली मुद्राओं, काले धन और आतंकवाद के वित्तपोषण को रोकने का उद्देश्य हासिल किया गया था।"

नोटबंदी के उद्देश्यों की पूर्ति को लेकर जस्टिस वैष्णव ने कहा, "जब मैं यहां खड़ा हूं, तो सुप्रीम कोर्ट के प्रति सम्मान के साथ हम सभी फैसले से बंधे हैं और मैं आप सभी से ज्यादा इससे बंधा हूं। लेकिन मुझे नहीं पता कि क्या उन सवालों का अभी भी उत्तर मिला है कि नोटबंदी के उद्देश्यों को प्राप्त किया गया या नहीं।"

Advertisement

इसी वर्ष 2 जनवरी को पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने कहा कि 8 नवंबर, 2016 को 500 रुपये और 1,000 रुपये के करेंसी नोटों की कानूनी निविदा को वापस लेने की सरकारी अधिसूचना कोई कमी नहीं थी। पांच में चार जज नोटबंदी से सहमत थे जबकि एक असहमत थे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो